All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

उस रात की बात (एक रहस्य प्रेम कथा),ek raat ki baat

उस रात की बात (एक रहस्य प्रेम कथा)


मिक्की, मेरी जान, मेरी आत्मा, मेरी प्रेयशी, मेरी प्रियतमा
मैं तुमसे प्रेम करता था, आज भी करता हूँ और करता रहूँगा
……Sexy Boy की कलम से

मेरे प्रिय पाठको और पाठिकाओं ‘तीन चुम्बन’ और ‘दो नंबर का बदमाश’ के बारे में आप सब लोगों ने जो मेल भेजे हैं उन्हें पढ़ कर मुझे लगा कि मेरा आज तक का लिखा हुआ सफल हो गया। एक बार तो मैंने सोचा कि इस कहानी के बाद अब मैं लिखना ही छोड़ दूंगा पर मेरे कुछ प्रबुद्ध पाठकों और पाठिकाओं ने कम-ओ-बेस एक सवाल तो जरूर पूछा है कि क्या ‘तीन चुम्बन’ सच्ची कथा है ?
मित्रो यह फैसला तो आप को करना है ? क्या कथा को पढ़ते हुए आपको कहीं भी ऐसा लगा कि मैंने किसी संवाद या प्रसंग को बेतुका या व्यर्थ में ठूँसा गया है ?
मेरी कुछ पाठिकाओं ने मिक्की के बारे में दूसरा अध्याय लिखने को भी कहा है। मैं अपने प्रिय पाठकों और पाठिकाओं को नाराज कैसे कर सकता हूँ। पर आपको भी एक वादा करना होगा ? आप अपनी प्रतिक्रिया मुझे और अन्तर्वासना को जरूर भेजेंगे। लीजिये मिक्की-एक रहस्य प्रेम कथा प्रस्तुत है :
जब मैं आगरा से भरतपुर के लिए चला था तो मेरा अंदाजा था कि मैं कोई 10 – 10:30 तक पहुँच जाऊँगा। पर रास्ते में कार का पहिया पंचर हो गया और फिर सामने आइसक्रीम पार्लर में खड़ी उस मिक्की जैसी लड़की को देखने के चक्कर में एक घंटा लेट हो गया। ऐसा नहीं है कि मैं मिक्की को याद नहीं करता पर जब भी 11 या 13 सितम्बर की तारीख आती है मैं उदास सा हो जाता हूँ। 11 सितम्बर को मिक्की का जन्म दिन होता है और 13 सितम्बर को 23:59 पर वो हमें छोड़कर इस दुनिया से चली गई थी। जिस दिन वो वापस जा रही थी उसने मुझसे वादा किया था कि वो लौट कर जरूर आएगी।
आज भी उसके अंतिम शब्द मेरे कानों में गूंजते रहते हैं :
“मेरे प्रथम पुरुष मेरे कामदेव मेरी याद में रोना नहीं। अच्छे बच्चे रोते नहीं हैं। मैं फिर आउंगी, मेरी प्रतीक्षा करना”
मिक्की मैं तो जन्म जन्मान्तर तक तुम्हारी प्रतीक्षा करता रहूँगा मेरी प्रेयसी।
मैं मिक्की की याद में खोया उसी रेशमी रुमाल और पेंटी को हाथों में लिए कार चला रहा था और मिक्की द्बारा किये वादे के बारे में ही सोच रहा था रात के कोई 12 या पोने बारह बजने वाले थे। सामने मील पत्थर पर भरतपुर 13 कि. मी. लिखा था। अचानक मुझे लगा कार हिचकोले खाने लगी है। हे भगवान् इस घने जंगल और बीच रास्ते में कहीं गाड़ी खराब हो गई तो ? मैंने आगरा में पेट्रोल से टंकी फुल करवाई थी पर फ्यूल इंडिकेटर दिखा था कि पेट्रोल ख़तम हो गया है। ये कैसे हो सकता है ?
मैंने गाड़ी साइड में लगाईं और फ्यूलटेंक देखा। वो तो खाली था। मुझे ध्यान आया कि पिछले आधे पौने घंटे में किसी भी गाड़ी ने क्रॉस नहीं किया वरना तो ये रोड बहुत ही व्यस्त रहती है। आमतौर पर इन दिनों में बारिश नहीं के बराबर होती है पर बादल भी हो रहे थे और बिजली भी चमक रही थी। लगता था बारिश हो सकती है। हे भगवान् इस घने जंगल में ना कोई मकान ना कोई पेट्रोल पम्प और ना कोई गाड़ी। मैं मील पत्थर पर पैर रखकर किसी गाड़ी का इन्तजार करने लगा।
तभी एक गाड़ी की हेड लाईट दिखाई दी। मैं झट से सड़क पर आ गया और उसे रुकने को हाथ दिया। कार ठीक मेरे पास आकर रुक गई। कार को कोई जवान सी दिखने वाली लड़की सफ़ेद सा कोट पहने आँखों पर मोटा चश्मा लगाए चला रही थी।
जब उसने अपना मुंह खिड़की से बाहर निकाला तो मैंने उससे कहा, “मैडम मेरी गाड़ी खराब हो गई है। ये देखिये मेरा आई. डी. कार्ड मैं भरतपुर का रहने वाला हूँ। मैं एक शरीफ ………” मैंने अपना आई डी कार्ड उसे दिखाते हुए कहा पर उसने कार्ड की ओर ध्यान ना देते हुए कहा “कोई बात नहीं आप चाहें तो मेरे साथ आ सकते हैं। हमारा घर पास ही है वो सामने रहा !”
पता नहीं मेरी निगाह पहले उस मकान की ओर क्यों नहीं गई। एक छोटी सी कोठी थी जिसमें लाईट जल रही थी। मैं उसके पास वाली सीट पर बैठ गया। गाड़ी कच्चे रास्ते से होती हुई कोठी की ओर बढ़ गई। मुझे बड़ी हैरानी हुई इस बिंदास लड़की पर बिना कोई जान पहचान इसने मुझ पर विश्वास कैसे कर लिया। मैंने उड़ती सी नजर उस पर डाली। पहरावे से तो कोई डॉक्टर लगती है। उम्र तो कोई 18 साल जैसी लगती है। इतनी छोटी उम्र में ये डॉक्टर कैसे बन गई आँखों पर मोटा चश्मा, कन्धों तक कटे बाल गोरा रंग, पतली सी छुईमुई सी। अगर वो चश्मा हटा दे तो मिक्की या निशा का भ्रम हो जाए। पर इस समय मिक्की या निशा के होने का तो सवाल ही पैदा नहीं होता। मुझे ज्यादा हैरानी तो इस बात को लेकर थी की इस उजाड़ और वीराने में ये परिवार यहाँ कैसे रह रहा है।
कोठी के गेट पर नेम प्लेट पर लिखा था डॉ. (मिसेज) मो-निशा पी.जी.एम। अजीब नेम प्लेट थी। पता नहीं ये कौन सी डिग्री है ? गाड़ी देख कर चौकीदार ने सलाम किया और गेट खोला। अरे ये मुच्छड़, सिर पर साफा बांधे, 303 की बन्दूक कंधे पर लटकाए हमारे उदयपुर वाले रघु से ही मिलता जुलता था। गाड़ी अन्दर खड़ी करके हम ड्राइंग रूम में आ गए। हमारे ड्राइंग रूम जितना ही बड़ा था। सामने एक सीनरी लगी थी। अरे यह तो वही सीनरी थी जो हमारे स्टडी रूम में लगी थी। अगर ये लड़की अपना चश्मा उतार दे तो लगभग वैसी ही लगेगी जैसी इस सीनरी में वो तितालियाँ पकड़ती लड़की लगती है। सीनरी के ठीक ऊपर दीवाल घड़ी में 11:59 बजे थे। मुझे शक सा हुआ सेकंड की सुई तो चल रही है पर घंटे और मिनट की सुई नहीं चल रही है।
“आप बैठें मैं अभी आती हूँ” उसने सोफे की ओर इशारा करते हुए कहा। थोड़ी देर बाद वो बेड रूम से बाहर आई तो मैंने ध्यान से उसे देखा। उसने गुलाबी रंग का टॉप और सफ़ेद रंग का पतला सा पाजामा पहन रखा था। छोटे छोटे गोल गोल नितम्ब। कानो में सोने की पतली बालियाँ। काली आँखे। कमाल है अभी थोड़ी देर फले तो मोटा चश्मा और मोटी मोटी बिल्लोरी ऑंखें थी। इसकी शक्ल तो मिक्की से मिलती जुलती है अरे नहीं ये तो निशा जैसी लगाती है। पर वो ……
“क्या सोच रहे हैं मि. प्रेम ?” एक मीठी सी आवाज से मैं चौंक गया।
“ओह… मैं तो ये सोच रहा था इस सीनरी में जो लड़की दिखाई दे रही है उसकी शक्ल आप से कितनी मिलती है।” मैंने कहा।
“कहते हैं हर इंसान का एक डुप्लीकेट भगवान् ने जरूर बनाया है” वो मुस्कुराते हुए बोली “ओह … आप चाय लेंगे ?”
“ओह नो थैंक्स मुझे एक गिलास पानी मिलेगा ?”
“हाँ हाँ क्यों नहीं” उसने फ्रिज से पानी निकाला और मुझे दिया।
बाहर बारिश होने लगी थी मैंने उस से पूछा “आप इतने बड़े मकान में अकेले… मेरा मतलब … ?”
“ओह। दरअसल हमारी शादी एक महीने पहले ही हुई है। और डॉक्टर साहब को 15 दिन बाद ही कांफ्रेंस में अमेरिका जाना पड़ गया। हम तो ठीक से हनीमून भी … ओह … सॉरी …” वो अपनी झोंक में बोल तो गई पर बाद में शरमा गई। वो तो लाल ही हो गई और मैं रोमांच से लबालब भर गया। इस तरह से तो मधु (मेरी पत्नी) शरमाया करती थी शुरू शुरू के दिनों में। ईश श श् ………
थोड़ी देर बाद वो बात का रुख मोड़ते हुए बोली “आज नौकरानी भी नहीं आई। डॉक्टर साहब न्यूयार्क कांफ्रेंस में गए है। शायद कल की फ्लाईट से वापस आ जाएँ”
“आप अगर चौकीदार से कह कर थोड़ा सा पेट्रोल अपनी गाड़ी से निकलवा दें तो मैं आपका शुक्रगुजार (आभारी) रहूँगा … डॉक्टर साहिबा !” मैंने कहा!
“ओह मुझे आप मो-निशा कह सकते हैं” उसने मो और निशा को अलग अलग बोला था। पता नहीं क्यों। मुझे लगा अगर मोना और निशा दोनों को मिला दिया जाए तो जरूर मोनिशा ही बन जायेगी। हे भगवान् ये क्या चक्कर है ?
“बाहर बारिश होने लगी है इतनी रात में आप कहाँ जायेंगे यहीं रुक जाइए!”
“पर वो आप अकेली … मैं … मेरा मतलब …?”
“ओह … आप उसकी चिंता ना करें!”
“पर वो एक गैर मर्द के साथ … रात …?” मैं कुछ बोलने में झिझक रहा था।
“देखिये मुझे कोई समस्या नहीं है। आप तो ऐसे डर रहे हैं जैसे मैं कोई दूसरे ग्रह से आई कोई भटकती आत्मा हूँ और आप के साथ कुछ ऐसा वैसा कर बैठूंगी” वो खिलखिला कर हंस पड़ी मेरी भी हंसी निकल गई। एक बार तो मुझे वहम सा हुआ कि कहीं ये निशा तो नहीं है ?
वो बिना दूध की चाय बना कर ले आई और बोली, ”सॉरी आज दूध ख़तम हो गया !”
मैंने मन में सोचा ‘अपना डाल दो ना … इन अमृत कलशों में भरा खराब हो रहा है ! पर मैंने कहा “इट इज ओ के। कोई बात नहीं !”
“आप इतनी रात गए मेरा मतलब …?”
“ओह तकलुफ्फ़ छोडें आप मुझे मोना कह सकते हैं। दरअसल एक लड़की का रोड एक्सीडेंट हो गया था उसके ओपरेशन में देर हो गयी” उसने बताया फिर वो बोली “और आप ?”
“ओह… मुझे भी एक मीटिंग में देर हो गई और रास्ते में गाड़ी ने धोखा दे दिया” मैंने बताया। मैं उस से पूछना तो चाहता था कि उस लड़की का क्या हुआ पर पूछ नहीं पाया।
“डॉक्टर साहब का नाईट सूट है अगर आप पहनना चाहें तो …”
“ओह मैं ऐसे ही ठीक हूँ !”
“अरे भाई हम भरतपुर वालों की मेहमान नवाजी को तो मत बट्टा लगाओ !” और वो फिर हंस पड़ी। हंसती हुई तो वो बिलकुल मिक्की ही लग रही थी। मैं तो मर ही मिटा। मैंने मन में सोचा इस रात को रंगीन बना ही लिया जाए। मेरा अनुभव कहता है कि चिड़िया फंस सकती है। मैं पहले तो थोड़ा डर सा रहा था पर उसके बिंदास स्वभाव को देखकर मेरे अन्दर का प्रेम गुरु जाग गया और मेरा पप्पू तो हिलोरें ही लेने लगा। क्या मस्त माल है गुरु इसकी गांड तो लाजवाब होगी चूत तो चुद गई है पर एक महीने में (10-15 दिनों में) कितना चुदी होगी ? खैर मेरा अंदाजा है कि गांड जरूर कुंवारी ही होगी। चलो इस रात में जो मिल जाए बोनस ही तो है।
उसके दुबारा कहने पर मैंने कुरता पाजामा पहन लिया और रात यहीं बिताने का प्रोग्राम बना लिया। वैसे भी मधु तो जयपुर गयी हुई थी जल्दी पहुँच कर क्या करना था। उसके जोर देने पर मैं उसके साथ बेड-रूम में चला गया। अन्दर से तो मैं भी यही चाहता था। मैंने कहा “यहाँ तो एक ही बेड है और हम दोनों… मेरा मतलब …?”
“क्यों अपने आप पर भरोसा नहीं है क्या …?” उसने मेरी आँखों में झांकते हुए पूछा।
मैंने देखा उसकी आँखों में एक अजीब सी चमक थी। आँखें बिलकुल बिल्लोरी। ये कैसे हो सकता है। अभी तो काली थी। इस से पहले कि मैं कुछ बोलता वो बोली “दरअसल मैं कांटेक्ट लेन्सेस लगाती हूँ काले रंग के वैसे तो मेरी आँखें बिल्लोरी ही है क्यों अच्छी है ना ?” उसने मेरी आँखों में झांकते हुए कहा।
मैं झेंप सा गया।
“ओह आप तो कुछ बोलते ही नहीं ?”
मैंने मन में सोचा ‘मैं मुंह से नहीं लंड से बोलता हूँ मेरी जान थोड़ी देर ठहर जाओ मुझे अपना प्रोग्राम सेट तो कर लेने दो ’ पर मैंने कहा “ओह ऐसी कोई बात नहीं है आप बहुत खूबसूरत है।”
अचानक फ़ोन की घंटी बजी। हे भगवान् इस समय इतनी रात को … हे लिंग महादेव मेरी लाज रख लेना कहीं कोई गड़बड़ मत कर देना … बड़े दिनों के बाद ऐसी फुलझड़ी मिली है … समझ रहे हो ना ? मैं एक नहीं इस बार दो सोमवार दूध और जल चढ़ाने आऊंगा … पक्की बात है।
“हाय लव कैसे हो !” मोनिशा की मीठी सी आवाज निकली।
“हाय हनी !” फ़ोन के रिसीवर से साफ़ सुनाई दे रहा था। कमाल है। पता नहीं कैसा फ़ोन है। आमतौर पर दूसरे को रिसीवर की आवाज नहीं सुनाई देती।
“हैप्पी बर्थ डे हनी !” कमाल है ऐसा तो मैं मधु को बोलता हूँ ये डॉक्टर भी साला पूरा आशिक मिजाज़ पट्ठा लगता है।
“थैंक्यू लव। कब आ रहे हो ?”
“कोशिश तो की थी पर आज नहीं आ पाया। कल की फ्लाईट है। ओ. के. हनी टेक केयर !”
मोनिशा ने फ़ोन रख दिया। मैंने उसकी ओर देखा वो कुछ उदास सी थी। उसने बताया की डॉक्टर साहब का फ़ोन था वो कल की फ्लाईट से आ रहे हैं।
“मेरी ओर से भी जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई हो !” मैंने उसकी ओर हाथ बढ़ा दिया। इस से अच्छा बहाना उसे छूने का और क्या हो सकता था। क्या नाजुक मुलायम हाथ था। मैंने उसे चूम लिया। मैं जानता था ऊँची सोसाइटी वाले ऐसी चूमा चाटी का बुरा नहीं मानते। उसने भी थैंक्यू कहते हुए मेरा हाथ चूम लिया। आईला ……
“वो … आपने अपना जन्म दिन नहीं मनाया ?”
“ओह दरअसल मेरे जन्म दिन में कनफ्यूजन है?”
“क्या मतलब ?
“दरअसल मेरा जन्म 13 तारीख की रात को ठीक 12 बजे (00 आवर्स) हुआ था न ? इसलिए मैं अपना जन्मदिन 14 को मनाती हूँ। और अब तो 14 तारीख हो ही गई होगी। हमने घड़ी देखी वो तो अभी भी 11:59 ही बता रही थी। मेरा अंदाजा सही था सेकंड की सुई चल रही थी पर घंटे और मिनट की सुई बंद थी। चलो कोई बात नहीं। मुझे फिर मिक्की की याद आ गई। उसकी मौत भी तो रात में 11:59 बजे ही हुई थी।
मैं अपने खयालों में डूबा था कि मोनिशा बोली,“अच्छा एक बात बताओ क्या आप पुनर्जन्म या आत्मा आदि में विश्वास रखते हैं ?”
अजीब सवाल था। डॉक्टर होकर ऐसा सवाल पूछ रही है। मैंने कहा “हाँ भी और ना भी !”
“क्या मतलब ?”
जिस अंदाज में उसने ‘क्या मतलब’ बोला था मुझे तो लगा कि निशा ही मेरे सामने बैठी है फिर मैंने कहा “आपको देख कर तो पुनर्जन्म में विश्वास करने को जी चाहता है।”
“क … क्या मतलब ?”
हे भगवान् ये तो मिक्की ही है जैसे। मैंने उस से कहा मेरी एक क्लास फेलो थी बिलकुल आप ही की तरह। उसकी एक रोड एक्सीडेंट में मौत हो गई थी। उसका चेहरा तो बिलकुल आप से मिलता जुलता है मोनिशाजी !” मैंने इस बार जी पर ज्यादा जोर दिया था।
“आप मुझे मोना कहें ना। घर वाले मुझे मोना ही कहते हैं!”
“और डॉक्टर साहब ?” मैंने पूछा
“वो तो मुझे हनी कहते हैं” वो शरमा गई। इस्स्स्स … इस अदा पर मैं तो मर ही मिटा। मैं तो बेसाख्ता उसे देखता ही रह गया। “एक्चुअली जब मैं एम.बी.बी.एस. की स्टुडेंट थी डॉक्टर साहब से प्रेम हो गया था। उन दिनों डॉक्टर साहब मुझे मिक्की माउस कह कर बुलाते थे। डॉक्टर साहब मुझ से 12 साल बड़े हैं ना। और फिर एम.बी.बी.एस. पास करते ही हमने जल्दी ही शादी कर ली। वैसे भी मैं मांगलिक हूँ ना मेरी शादी 24 वें साल में ही हो गई।”
मैं सोच रहा था ‘ये डॉक्टर भी एक नंबर का गधा है इतनी खूबसूरत बला को छोड़ कर न्यूयार्क गांड मरवाने गया है चूतिया साला !’ मैंने कहा “ये तो आप जैसी खूबसूरत … मेरा मतलब है नव विवाहिता के साथ ना इंसाफी ही है ना ?”
“पर प्यार अँधा होता है ना ?”
उसकी यह बात सुनकर मुझे अटपटा सा लगा। मैं कुछ अंदाजा नहीं लगा पाया। ये लड़की तो रहस्यमयी लग रही है। उसने मांग नहीं भर रखी थी और ना ही मुझे कहीं उस चूतिये डॉक्टर की कोई फोटो नजर आई। अब मुझे लगने लगा कि कहीं ना कहीं कोई गड़बड़ जरूर है। पर मेरा पप्पू तो अकड़ रहा था ‘गुरु अच्छा मौका है ठोक दो साली को। डॉक्टर तो चूतिया है साला उसने भला क्या चुदाई की होगी इस मस्त मोरनी की एक दम गुलाब की कली ही है बिलकुल मिक्की और निशा की तरह। थोड़ा सा ड्रामा करो और लौंडिया तुम्हारी बाहों में। किसी को क्या पता चलेगा ’ मैंने उसे चोदने का मन बना ही लिया। आखिर मैं अपने पप्पू की नाराजगी कैसे मोल लेता। मैंने अपना ड्रामा (चुदाई की तैयारी का प्रोजेक्ट) चालू कर दिया :
“सच में मोनाजी आप सही कह रही हैं” मैंने उदास स्वर में कहा तो वो मेरी ओर हैरानी से देखने लगी। मैंने आगे कहा “मैं तो आज तक भी अँधा बना हुआ हूँ”
“क्या मतलब ?”
“अब देखो ना मोना को इस दुनिया से गए 8 साल हो गए पर मैं अभी तक उसे भुला नहीं पाया” मैंने लगभग रो देने वाली एक्टिंग की। वो मेरे पास आ गई। उसकी गरम होती साँसे मैं अपने चहरे पर साफ़ महसूस कर रहा था। उसके जवान जिस्म की खुशबू मुझे अन्दर तक मदहोश करती जा रही थी। मेरा पप्पू तो अकड़ कर लोहे की रोड ही बना था। “वो कहती थी कि मैं जरूर तुम्हारी बनूंगी चाहे मुझे फिर से क्यों ना जन्म लेना पड़े। पर एक बार जो इस दुनिया से चला जाता है वो वापस कब आता है ?” मेरी आँखों से टप टप आंसू निकलने लगे।
“ओह … आई ऍम सॉरी … वो … वो … प्लीज आप ऐसा ना करें वरना मैं भी रो पडूँगी, मेरा दिल बहुत भारी हो रहा है !”
‘मेरी जान हल्का तो अब मैं कर ही दूंगा अभी तो शुरुवात है नाटक की, आगे आगे देखो !’ मैंने सचमुच ऐसी एक्टिंग की थी कि मेरी आँखों से आंसू निकलने लगे। आप सोच रहे होंगे आंसू भला कैसे निकल आये इतनी जल्दी ? औरतें तो चलो इस काम में माहिर होती है पर आदमी ? आप को बता दूँ अगर आप 2-3 मिनट तक आँखें नहीं झपकाएं तो आपकी आँखों से पानी अपने आप निकलने लग जाएगा। और फिर मैं तो पक्का प्रेम गुरु हूँ मुझे से ज्यादा ये टोटके भला कौन जानता है। अब तो वो इतना भावुक हो गई थी कि वो मेरे आंसू पोंछने लगी। आह … क्या मस्त चिकनी अंगुलियाँ थी। बिलकुल मिक्की और निशा की तरह।
“आप शादी क्यों नहीं कर लेते ?” उसने मेरे आंसू पोंछते हुए कहा।
“अब मोना जैसी तो मिल नहीं सकती। अगर आप बुरा न माने तो एक बात पूछूं ?”
“हूँ … हां …आं क्यों नहीं”
“क्या आपकी कोई छोटी बहन है ?”
“क … क्या मतलब … ओह … ” वो खिलखिला कर हंस पड़ी।
“आप हंस रही हैं … आपने ही तो कहा था कि इस दुनिया में हर व्यक्ति का एक डुप्लीकेट भगवान् ने जरूर बनाया है”
“ओह … वो … पर मेरी तो कोई बहन नहीं है पर … पर ऐसा क्या है मुझ में ?”
“ओह तुम नहीं जानती ” मैं आप से तुम पर आ गया “हीरा अपनी कीमत खुद नहीं जानता।”
“क्या मैं सचमुच इतनी सुन्दर हूँ …?”
“तुम मेरी आँखों में झाँक कर तो देखो अपने रूप और हुश्न को। मेरे धड़कते दिल को छू कर तो देखो। मेरी साँसों को महसूस तो कर के देखो” मेरी एक्टिंग चालू थी। चिड़िया दाना चुगने को बेताब लगाने लगी है। जाल की ओर बढ़ाना शुरू कर दिया है। अब तो बस थोड़ी सी देर है जाल की रस्सी खींचने में।
“ओह आप तो ऐसे ही मजाक कर रहे हैं !” वो मेरी आँखों में झांकने लगी। उसकी आँखों में लाल डोरे तैरने लगे थे। उसकी साँसे तेज होती जा रही थी। होंठ काँप रहे थे। दिल की धड़कन साफ़ सुनाई दे रही थी। अब प्रोग्राम की अंतिम लाइन लिखनी थी। मैंने कहा “ओह … मेरी मोना मेरी मिक्की। तुम क्यों मुझे छोड़ कर चली गई मिक्की मेरी जान, मेरी आत्मा, मेरी प्रेयसी, मेरी प्रियतमा मैं तुमसे प्रेम करता था, आज भी करता हूँ और करता रहूँगा”। मेरी आँखों से आंसू निकलते जा रहे थे। उसने अपने कांपते हाथों की अंगुलियाँ मेरे होंठो पर रख दी। मैं उन्हें हाथ में लेकर चूमने लगा। वो मेरी ओर बढ़ी और फिर उसने अपने कांपते और जलते होंठ मेरे होंठों पर रख दिए।
जैसे कोई गुलाब की पंखुडिया हों रस से लबालब भरी हुई। मैं तो मस्त हुआ उन्हें चूसने लगा। उसने मुझे बाहों में भर लिया। वो तो मुझे ऐसे चूमती जा रही थी जैसे कितने ही जन्मों की प्यासी हो, “ओह मेरे प्रेमदेव, मेरे शहजादे, मेरे मन मयूर तुम कहाँ थे इतने दिन !” अब मेरे हैरान होने की बारी थी। ये शब्द तो … मिक्की या निशा के थे। हे भगवान् ये क्या मामला है ? वोही आवाज वोही हावभाव वो ही शक्ल-ओ-सूरत। मैं किसी आत्मा, पुनर्जनम या भूत प्रेत में विश्वास नहीं करता पर अब तो मुझे भी थोड़ा डर सा लगाने लगा था।
“ओह प्रेम अब कुछ मत सोचो बस मुझे प्यार करो।” उसने मुझे अपनी बाहों में जकड़ सा रखा था। वो मुझे चूमते जा रही थी और कभी मेरी पीठ सहलाती कभी सिर के बालों को जोर से पकड़ लेती। मैं अपने खयालों से जैसे जागा। दिल ने कहा यार छोड़ो फजूल के इन चक्करों को इतनी हसींन लौंडिया तुम्हारी बाहों में है चुदवाने के लिए तैयार है क्यों बेकार की बातों में वक़्त जाया कर रहे हो। ठोक दो साली को बड़ी मुश्किल से मिली है। पता नहीं बाद में कभी मिले ना मिले। पप्पू तो जैसे खूनी शेर ही बना हुआ था।
मैंने भी कस कर उसे बाहों में भर लिया और अपनी जीभ उसके मुंह में डाल दी। वो तो उसे कुल्फी की तरह चूसने लगी। मैंने एक हाथ से उसके उरोज मसलने शुरू कर दिए। मोटे मोटे जैसे कंधारी अनार हों। एक दो बार उसके नितम्बों पर हाथ फेरा। चूत की दरार का पता नहीं चल रहा था। वो भी जोश में आकर आह … ओह … करने लगी थी। उसने भी मेरे लंड को पकड़ लिया और ऊपर से ही मसलने लगी। कोई 10 मिनट तो जरूर हमारी चूसा चुसाई चली ही होगी। फिर मैंने उस से कपड़े उतारने को कहा तो वो बोली “मुझे शर्म आती है तुम खुद ही उतार दो ना ?” वो घुटनों के बल खड़ी हो गई और उसने अपने हाथ ऊपर उठा दिए।
पहले मैंने उसका टॉप उतरा। और फिर पाजामा उफ़ … वही डोरी वाली काली ब्रा और पेंटी जो मधु की फेवरेट थी। 2 इंच पट्टी वाली। पता नहीं आजकल भरतपुर में इन ब्रा और पेंटीज का फैशन ही हो गया है जैसे। टॉप उतारते हुए मैंने गौर किया की उसकी कांख में एक भी बाल नहीं है। मैं तो रोमांच से ही भर गया। मेरा पप्पू तो यह सोच कर ही मस्त हुआ जा रहा था कि अगर कांख में बाल नहीं है तो चूत का क्या हाल होगा।
ये तो मुझे बाद में उसने बताया था कि उसने लेजर ट्रीटमेंट करवा लिया था। और उसकी चूत पर भी कोई बाल नहीं है। डॉक्टर साहब को चूत और कांख पर बाल बिलकुल पसंद नहीं है। साला ये डॉक्टर भी शौकीन तो है पर है चूतिया, इतनी मस्त क़यामत को मेरे लिए छोड़ गया। पजामा उतारते हुए मैंने देखा था उसकी जांघें तो मधु और सुधा की तरह मोटी मोटी थी। दायीं जांघ पर वो ही काला तिल। हे भगवान् मैं तो पागल ही हो जाऊँगा। एक बार अगर गांड मारने को मिल जाए तो मैं सारी कायनात ही न्योछावर कर दूँ। क्या मस्त मोटे मोटे नितम्ब है साली के। ऐसे नितम्ब तो अनारकली के भी नहीं थे। हे भगवान् कहीं साले डॉक्टर ने गांड तो नहीं मार ली होगी इस कमसिन कली की। फिर मैंने अपने आप को तसल्ली दी कि जो साला चूत ही ठीक से नहीं मार पाया है वो भला गांड क्या मारेगा। और अगर एक दो बार गांड मार भी ली होगी तो भी कोई बात नहीं कुंवारी जैसी ही होगी। मैं तो यही सोच कर पागल हो रहा था कि उसकी गांड का छेद। कितना बड़ा होगा और उसकी सिलवटें और रंगत कैसी होंगी।
अब मैंने भी अपना कुरता और पाजामा उतार दिया। चड्डी और बनियान तो मैंने पहनी ही नहीं थी। मेरा 7 इंच का लंड तो 120 डिग्री पर खड़ा उसे सलाम बजा रहा था।
मैंने उसकी ब्रा की डोरी खोल दी। मोटे मोटे दो हापुस आम जैसे अमृत कलश मेरे सामने थे। बिलकुल गोरे गुलाबी पतली पतली नीली नशे। निप्पल्स मूंग के दाने जितने। डॉक्टर तो वैसे ही चूतिया है किसी और ने भी नहीं चूसे होंगे। एरोला कोई 1.5 इंच का। कैरम की गोटियों वाली रानी की तरह बिलकुल लाल सुर्ख।
हे भगवान् अगर पुनर्जन्म जैसी कोई बात अगर है तो जरूर ये मिक्की ही है। मैं शर्त लगा कर कह सकता हूँ अब तक मैंने जितने भी उरोज देखे है इतने सुडौल तो किसी के भी नहीं थे। जैसे शहद से भरी हुई दो कुप्पियाँ हों। पतली कमर कोई 23-24 इंच की। गहरी नाभि और उसके नीचे का भाग कुछ उभरा हुआ। अब मैंने उसकी पेंटी को धीरे धीरे उतरना चालू कर दिया। वो तो बस आँखें बंद किये लेती हुई सीत्कार किये जा रही थी। धीरे धीरे मैंने उसकी पेंटी उतार दी। चूत पर कोई बाल नहीं। रोएँ भी नहीं। तिकोने आकार की फूली हुई पाँव रोटी हो जैसे। वाह … क्या मस्त चीज है। छोटी सी सेब की तरह लाल-गुलाबी रंग की चूत। दो मोटी मोटी संतरे जैसी फांके। बीच की दरार (चीरा) कोई 3 इंच लम्बी – गहरे बादामी रंग की जैसे किसी नई दुल्हन ने अपनी मांग भर रखी हो। मुझे तो लगा जैसे किसी 13-14 साल की लड़की की पिक्की ही है जैसे। ओह कहीं ये मिक्की ही तो नहीं ? पता नहीं साले चूतिये डॉक्टर ने इसके साथ सुहारात भी ठीक से मनाई है या नहीं।
मैंने उसका एक रस कूप (उरोज) अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगा। उसने एक जोर की किलकारी मारी और मेरे लंड को अप्पने हाथ में लेकर मसलने लगी। लुंड ने 2-3 ठुमके लगाए और प्री कम के 3-4 तुपके छोड़ दिए। मैं कभी एक उरोज चूसता कभी दूसरा। एक हाथ से कभी उसके नितम्ब सहलाता कभी बुर (ये चूत तो हो ही नहीं सकती) पर मसलता। वो तो बस मस्त हुई किलकारियाँ मारती जा रही थी। उसने मेरे सिर के बाल अपने हाथों में पकड़ लिए। फिर मैंने उसके होंठ चूमने चालू कर दिए और उसके ऊपर आ गया। पप्पू तो अँधा धुंद चूत (सॉरी बुर) पर धक्के लगा रहा था पर उसे इतनी जल्दी रास्ता कहाँ मिलने वाला था।
मैंने उसके कपोलों पर, आँखों की पलकों पर, गले पर, छाती पर, नवल पर चुम्बनो की झड़ी लगा दी। वो तो मस्त हुई आह… उह्ह … करती जा रही थी। उसकी आँखें बंद थी। मैंने उसकी कांख सूंघी। आह … इस मस्त तीखी खुशबू को तो मैं मरते दम तक नहीं भूल सकता। ये तो वोही मिक्की वाली खुशबू थी। अब चूत रानी की बारी थी। अब मैंने उस कातिल तिल वाली जगह पर चुम्बन लिया तो उसने इतनी जोर से किलकारी मारी कि मुझे लगा वो झड़ गई है। वो तो बड़ी ही कच्ची निकली मैंने तो अभी उसकी चूत को तो चूमा ही नहीं था। अब मैंने उसकी चूत की पंखुडियों को खोला। अन्दर से एक दम गुलाबी रस से भरी। लाल नसें बिलकुल सिर के बालों जितनी पतली। अनारदाना तो गोल लाल मोती जैसा।
मैंने जीभ उसके अनारदाने पर जैसे ही रखी उसने मेरा सिर पकड़ लिया और अपनी बुर की और दबा दिया। मैं भी तो यही चाहता था। मैंने उसकी बुर को पहले चाटा। पसीने, पेशाब और नारियल पानी जैसी जानी पहचानी खुशबू से मेरा स्नायु तंत्र (नाक की मांस पेशियाँ) भर उठा। मैंने उसकी बुर को पूरा अपने मुंह में भर लिया और जोर से चूसने लगा जैसे कोई टपका आम चूसता है।
वो तो उत्तेजना में कांपने ही लगी। उसने अपने पैर ऊपर उठा लिए और मेरी गर्दन के चारों ओर लपेट लिए। उसने एक किलकारी और मारी और वो एक बार फिर झड़ गई। उसकी बुर ने कामरज की 2-3 चम्मच मुझे अर्पित कर दी। उसके मदन जल से मेरा मुंह भर गया। मैं एक हाथ से उसके उरोज मसलता जा रहा था और एक हाथ उसके ऊपर उठे नितम्बों पर फेरता जा रहा था। अचानक मेरी एक अंगुली उसकी गांड के छेद से टकराई। दरदरी (कंघी के दांतों जैसी) सिलवटें महसूस करके मैं तो रोमांच से भर गया। ये सोच कर तो मेरा पप्पू निहाल ही हो गया कि ये गांड तो बिल्कुल कोरी झकास है। मैंने जैसे ही अपनी अंगुली उसकी गांड के छेद पर फिराई वो एक बार फिर झड़ गई। मैं तो चटखारे लेकर उसके काम रज़ को पीता जा रहा था।
कुछ देर बाद वो निढाल सी हो गई। अब मैंने उसकी बुर चूसना बंद कर दिया। और थोड़ा सा ऊपर आया और उसके होंठों को चूम लिया। वो अचनाक खड़ी हुई और झुक कर मेरे पप्पू से खेलने लगी। मेरे शेर ने एक झटका लगाया तो उसके हाथों से फिसल गया। अब तो उसने उसे ऐसे दबोचा जैसे बिल्ली किसी कबूतर या मुर्गे की गर्दन पकड़ लेती है। मैं अधलेटा सा था। उसने अपने दोनों पैर मोड़कर मेरे सिर के दोनों ओर कर दिए। अब मैं नीचे चित लेटा था और वो लगभग मेरे ऊपर 69 की पोजिसन में हो गई। उसने पहले मेरे सुपाडे को जीभ से चाटा और फिर एक चटखारा सा लिया और फिर गप्प से आधा लंड अपने मुंह में ले लिया।
मैंने भी उसकी गांड के सुनहरे छेद पर अपनी जीभ लगा दी। उसकी खुरदरी सिलवटें तो कमाल की थी। मैंने ऊपर से नीचे तक 3-4 बार अपनी जीभ फेरी। उसकी गांड का छेद अब कभी खुल रहा था कभी बंद हो रहा था। जब गांड का छेद खुलता तो वो अन्दर से गुलाबी नजर आता। मेरा अनुमान है इस गांड की चुदाई तो क्या लगता है साली ने कभी अंगुली भी नहीं डाली होगी। वो मस्ती में आकर मेरा पूरा लंड अपने मुंह में लेने की कोशिश करने लगी तो उसे खांसी आ गई। मैंने झट से उसकी चूत को अपने मुंह में भर लिया और उसकी जाँघों को कस कर पकड़ लिया। मुझे डर था कहीं खांसी के चक्कर में मेरा लंड चूसना न बंद कर दे। एक दो मिनट के बाद फिर उसने पहले मेरे अण्डों पर जीभ फिराई उन्हें चूमा और फिर मेरा लंड चूसना चालु कर दिया अबकी बार उसने कोई हड़बड़ी नहीं की प्यार से धीरे धीरे कभी जीभ फिराती कभी मुंह में लेती कभी थोड़ा सा दांतों से दबाती। पप्पू महाराज तो अपना आप ही खोने को तैयार हो गए। मैंने मिक्की और निशा के मुंह में अपना वीर्य नहीं छोड़ा था। मैं चाहता था कि उसे चोदने से पहले एक बार उसे अपना अमृत जरूर पिलाना है। तभी तो मेरी और मिक्की की तड़फती आत्मा को संतोष मिलेगा।
अब मैंने एक अंगुली धीरे से उसकी बुर में डालनी शुरू कर दी। छेद तो कमाल का टाइट था। मुझे तो लगा साले डॉक्टर ने सुहागरात ही नहीं मनाई है ? इतनी टाइट बुर तो कुंवारी अनचुदी लड़कियों की होती है। मैं तो रोमांच से भर गया। मुझे लगने लगा था कि मेरा पप्पू हथियार डालने वाला है तो मैंने उससे कहा- जानू मैं तो जाने वाला हूँ।
उसने मेरा लंड हाथ में पकड़ लिया और बोली “चिंता मत करो इस अमृत की एक भी बूँद इधर उधर नहीं जा सकती।”
और उसके साथ ही उसने फिर मेरा लंड गप्प से अन्दर ले लिया जैसे एक बिल्ली चूहे को गप्प से अन्दर ले लेती है। और उसे फिर चूसने लगी। मैंने भी उसकी बुर को पूरा मुंह में भर लिया और चूसने लगा। और फिर एक … दो … तीन… चार ना जाने कितनी पिचकारियाँ मेरे पप्पू ने छोड़ी। इस बेचारे का क्या दोष पिछले 8-10 दिन का भरा बैठा था (मधु के जयपुर जाने वाली रात को सिर्फ एक बार उसकी गांड मारी थी। उसकी चुत को तो लाल बाई ने पकड़ रखा था) वो गटागट मेरा सारा कामरस पी गई और फिर जीभ चाटती हुई एक ओर लुढ़क गई।
अब वो पेट के बल लेटी थी। उसने अपना मुंह तकिये पर लगा रखा था। उसके नितम्ब तो कमाल के थे। मोटे मोटे दो खरबूजे हों जैसे। रंग एकदम गुलाबी। इतने नाजुक कि अगर गलती से नाखून भी लग गया तो खून निकल आएगा। दोनों गोलाइयों के नीचे चाँद (आर्क) बना था। संगमरमर जैसी चिकनी कसी हुई जांघें। मैंने धीरे धीरे उसके नितम्बों और जांघों पर हाथ फेरना शुरू कर दिया। वो सीत्कार करने लगी। अचानक वो उठी और मेरी गोद में आकर बैठ गई और अपनी दोनों बाहें मेरे गले में डाल दी और मेरी नाक पर एक चुम्बन ले लिया और हंसने लगी। “एक बात बोलूँ ?”
“हूँ ” मैंने भी उसके होंठों पर एक चुम्बन लेते हुए हामी भरी।
“आप का उदास चेहरा बिलकुल अच्छा नहीं लगता। आप ऐसे ही खुश रहा करो !” और उसने एक बार मुझे फिर चूम लिया। मैं जानता हूँ मेरी जान अब तुम चुदवाने को तैयार हो पर मैं तो उसकी चूत नहीं पहले गांड मारना चाहता था। मुझे अभी थोड़ी सी एक्टिंग और करनी थी।
मैंने कहा, “मिक्की भी ऐसा ही बोलती थी !”
“ओह … अच्छा …? एक बात बताओ … क्या आपने मिक्की के साथ …?” वो बोलते बोलते रुक गई।
“नहीं हमारा प्रेम बिलकुल सच्चा था” मैं साफ़ झूठ बोल गया।
“ओह … क्या आपकी कोई फंतासी थी मिक्की के साथ ?”
“उन … हाँ …”
“क्या बताओ … ना … प्लीज”
“नहीं शायद तुम्हें अच्छा नहीं लगे …?”
“ओह। मेरे प्रेम दीवाने तुम्हारे लिए मैं सब कुछ करने कराने को तैयार हूँ आज की रात तुम हुक्म तो करो मेरे शहजादे !” उसने तड़ से एक चुम्बन मेरे होंठों पर ले लिया और कस कर मुझे अपनी बाहों में जकड़ लिया। मैं सोच रहा था कि कैसे कहूँ कि मैं तो सबसे पहले तुम्हारी गांड मारना चाहता हूँ। फिर मैंने कहा “क्या तुम्हारी भी कोई फंतासी है ?”
ईशशशस … वो इतना जोर से शरमाई कि मैं तो निहाल ही हो गया। “मेरी … ओह … पता नहीं तुम क्या समझोगे …?”
“प्लीज बताओ ना ?” मैंने पूछा
“मैं तो बस यही चाहती हूँ कि बस आज की रात मुझे प्यार ही करते रहो। ऊपर से नीचे से आगे से पीछे से हर जगह। कोई अंग मत छोडो। मैं तो जन्म जन्मान्तर की प्यासी हूँ तुम्हारे प्रेम के लिए मेरे प्रेम देव, मेरे प्रथम पुरुष !” वो मुझे चूमती जा रही थी।
हे भगवान् ये क्या लीला है तेरी। ये तो मिक्की की ही आवाज और भाषा है।
“ओह प्रेम अब मुझे और अपने आप को मत तड़फाओ जो मन की अधूरी इच्छा है पूरी कर लो” और उसके साथ ही वो अपने घुटनों और कोहनियों बे बल हो गई। जैसे उसने मेरे मन की बात जान ली हो। और मैं सब कुछ भूल कर उसके नितम्बों की ओर देखने लगा। दो पहाड़ियो के बीच एक मोटी सी खाई हो जैसे और गुलाबी रंग की छोटी सी गुफा जिसका द्वार बंद था। मैंने फिर अपनी जीभ उसपर लगा दी और उसे अपने थूक से गीला कर दिया।
“वैसलीन लगाना मत भूलना … मैंने अब तक किसी को …”
“ओह थैंक्यू मेरी मैना ! तुम चिंता मत करो।”
“ओह मुझे मिक्की बोलो ना ?”
मैंने उसकी गांड के छेद पर वैसलीन लगाईं और एक अंगुली का पोर अन्दर डाल दिया। छेद बहुत टाइट था। वो थोड़ा सा चिहुंकी “ओह गुदगुदी हो रही है … धीरे !”
मैंने उसकी कोई परवाह नहीं की और धीरे धीरे अपनी अंगुली अन्दर बाहर करने लगा। फिर थोड़ी सी क्रीम लेकर अन्दर तक लगा दी। इस बार उसने एक हलकी सी किलकारी मारी “ऊईई … माँ … ओह प्रेम जल्दी करो ना …!”
अब मैंने जल्दी से अपने लंड पर भी वैसलीन लगाईं और ……………
मेरा पप्पू जैसे छलाँग ही लगाने वाला था। ऐसी मस्त गांड देखकर तो वो काबू में कहाँ रहता है। मैंने धीरे से अपना सुपाड़ा उसकी गांड के खुलते बंद होते छेद पर टिका दिया। उसने एक जोर का सांस लिया और मुझे लगा कि उसने भी बाहर की ओर थोड़ा सा जोर लगाया है। मैंने उसकी कमर कस कर पकड़ ली और अपने पप्पू को आगे बढ़ाया। छेद बहुत टाइट था पर मेरा सुपाड़ा चूँकि आगे से थोड़ा पतला है धीरे धीरे एक इंच तक बिना दर्द के चला गया। अब मैंने दबाव लगाना शुरू कर दिया। ऐसी नाजुक गांड मारने में जोर का धक्का नहीं मारना चाहिए नहीं तो गांड फटने का डर रहता है।
जैसे ही उसकी गांड का छल्ला चौड़ा हुआ उसके मुंह से एक हल्की सी चीख निकल ही गई। “ओईई माँ आ अ …” पर उसने अपना मुंह जोर से बंद कर ऐसी अवस्था में कोई और होता तो एक धक्का जोर से लगाता और लंड महाराज जड़ तक अन्दर चले जाते पर मैं तो मिक्की से प्यार करता था और ये मोनिशा भी मेरे लिए इस मिक्की ही बनी थी। मैं उसे ज्यादा कष्ट कैसे दे सकता था मैं थोड़ी देर ऐसे ही रहा। 3 इंच तक लंड गांड में चला गया था।
मिक्की दर्द के मारे काँप रही थी पर दर्द को जैसे तैसे बर्दाश्त कर रही थी। कोई 2-3 मिनट के बाद वो कुछ नोर्मल हुई और अपना मुंह मेरी ओर मोड़ कर कहने लगी। “अब रुको मत मुझे तुम्हारी खुशी के लिए सारा दर्द मंजूर है मेरे प्रियतम !”
हे भगवान् ये तो मिक्की की ही आवाज है इसमें कोई संदेह नहीं। ये कैसे संभव है। कहीं मैं सपना तो नहीं देख रहा। मैंने अपना अंगूठा दांतों के बीच दबाया। मेरा अंगूठा थोड़ा सा छिल सा गया और दर्द की एक लहर सी दौड़ गई। अंगूठे से थोड़ा खून भी निकल आया। ये सपना तो नहीं हो सकता। पता नहीं क्या चक्कर है !
“ओह … प्रेम अब क्या सोच रहे हो क्यों इन खूबसूरत पलों को जाया (बर्बाद) कर रहे हो। ओह मैं कब की प्यासी हूँ प्लीज कुछ मत सोचो बस मुझे प्रेम करो मेरे प्रेम दीवाने !”
मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए। क्या मस्त गांड थी। लंड बिना परेशानी के अन्दर बाहर होने लगा। इस तरह से तो मेरा लंड मधु की गांड में भी नहीं जाता। मेरा पप्पू तो मस्त ही हो गया। उसने एक बार जोर से अपनी गांड अन्दर की ओर सिकोड़ी। मैं तो उसे मना करता ही रह गया। उसके ऐसा करने से मुझे लगा कि मेरा लंड और सुपाड़ा अन्दर कुछ फूल सा गया है। अब तो इसे बिना पानी निकाले बाहर नहीं निकाला जा सकता है। अब मैंने धक्कों कि रफ्तार (गति) बढ़ानी शुरू कर दी। वो तो बस मस्त हुई आह… उईई … करने लगी। उसने अपना एक अंगूठा अपने अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगी। मैंने उसका एक उरोज अपने हाथ में ले लिया और उसे मसलने लगा। उसका गांड का छल्ला (ऐनल रिंग) अन्दर बाहर होता साफ़ नजर आ रहा था। बिलकुल लाल रंग का। जैसे कोई पतली सी गोल ट्यूब लाईट जल और बुझ रही हो जैसे ही मेरा लंड अन्दर जाता छल्ला भी अन्दर चला जाता और जैसे ही लंड बाहर निकालता छल्ला बाहर आ जाता। मैंने देखा उसकी गांड से थोड़ा खून भी निकल रहा है पर वो तो दर्द की परवाह किये बिना मेरे धक्कों के साथ ताल मिला रही थी। उसके मुंह से सीत्कार निकल रही थी।
मुझे नहीं पता कितनी देर मैं अपने लंड को उसकी गांड में अन्दर बाहर करता रहा। मुझे तो लगा जैसे वक़्त रुक सा गया है। एक उचटती सी निगाह मैंने दीवाल घडी पर डाली। घडी की सुई अब भी 11:59 ही दिखा रही थी। पता नहीं ये कोई चमत्कार है या घडी या समय बंद हो गया है। मेरी धड़कने तेज होती जा रही थी और मोनिशा तो मस्त हुई बस आह उईई … येस … हाँ … या … करती जा रही थी। मैंने उसके नितम्बों पर एक थपकी लगाईं तो उसने मेरी ओर मुड़कर देखा और फिर हंसने लगी। जैसे उसे मेरी मनसा समझ लग गई हो। मैं कुछ समझा नहीं। अगर ये मधु या अनारकली होती तो बात समझ आती पर ये तो … कमाल ही होता जा रहा था।
मेरे थपकी लगाने का मतलब होता है कि मैं झड़ने वाला हूँ। ऐसी अवस्था में मधु और अनारकली धीरे धीरे अपने पैर पीछे करके पेट के बल लेटना शुरू कर देती है और मैं उनके ऊपर लेट सा जाता हूँ और फिर धीरे धीरे धक्के लगा कर अपना वीर्य उनकी गांड में छोड़ता हूँ। पानी निकलने के बाद भी इसी अवस्था में कोई 10 मिनट तक हम लेटे रहते हैं।
वो धीरे धीरे नीचे होने लगी और अपनी जांघें चोड़ी करके पेट के बल लेट गई। मेरा लंड अन्दर फूल सा गया था इसलिए बाहर तो निकल ही नहीं सकता था। मैं भी उसके ऊपर ही पसर गया। अब मैंने एक हाथ में उसके एक उरोज को पकडा और दूसरे हाथ की तर्जनी अंगुली उसकी चूत में घुसेड़ दी। और उसके कान की लोब को मुंह में लेकर चूसने लगा। “ओह …उईई … मा …” इसके साथ ही उसने अपने नितम्ब थोड़े से ऊपर उठाये मैंने एक धक्का दिया और उसके साथ ही मेरे लंड ने पिचकारियाँ छोड़नी शुरू कर दी। मैंने उसे जोर से अपनी बाहों में जकड़ लिया और उस के ऊपर ही लेट गया। पता नहीं कितनी देर ……
धीरे धीरे मेरा लंड सिकुड़ने लगा और बाहर फिसलने लगा। एक पुच की आवाज के साथ पप्पू (लंड) हँसता हुआ बाहर आ गया। हँसे भी क्यों नहीं आज पप्पू पास जो हो गया था। वो भी उठ खड़ी हुई। उसने अपनी गांड के छेद पर हाथ लगा कर देखा। उसका हाथ मेरे वीर्य से भर गया। उसने उछल कर एक चुम्बन मेरे लंड पर लिया और बोली “बदमाश कहीं का ! अब तो खुश है ना ? एक नंबर का बदमाश है मिट्ठू कहीं का ?”
“हाँ … अब तो ये तुम्हारा मिट्ठू बन ही गया है !”
“ओह जिज्जू मुझे गुदगुदी सी हो रही है मुझे बाथरूम तक ले चलो देखो मेरी जांघें कैसे गीली हो गई है। उई इ… इ …………”
मैंने उसे गोद में उठा लिया। उसने अपनी बाहें मेरे गले में डाल दी और आँखें बंद करके अपनी टाँगे मेरी कमर से लपेट ली। बिलकुल मिक्की की तरह। साफ़ सफाई के बाद हम फिर बेड पर आ गए। मैं बेड पर टेक लगा कर बैठ गया। वो मेरी गोद में अपना सिर रख कर लेट गई। उसकी आँखें बंद थी। वो धीरे से बोली “मेरे प्रियतम अब तो मिक्की की याद नहीं आएगी ना ?”
“मिक्की तो नहीं पर अब मैं मोना मेरी मोनिशा के बिना कैसे रह पाऊंगा !” मैंने नीचे झुक कर उसके गाल और होंठ चूम लिए। उसने थोड़ा सा ऊपर उठकर अपनी बाहें फिर फैला दी। मैंने उसे फिर अपने आगोश में ले लिया। इस बार वो मेरे ऊपर आ गई। उसने एक चुम्बन मेरी नाक और होंठों पर लिया और बोली
“तुम पुरुष हम स्त्री जाति के मन को कभी नहीं समझोगे तुम तो स्त्री को मात्र कोमल सी देह ही समझते हो तुम्हें उस कोमल मन के अन्दर प्रेम की छुपी परतों का कहाँ आभास है। तुम तो फूलों के रसिये भंवरों की तरह होते हो। जानते हो जब एक लड़की या औरत किसी से सच्चे दिल से प्रेम करती है तो दुनिया का कोई बंधन उसे नहीं रोक पाता। तुम नहीं समझ पाओगे। पर मिक्की की याद में अब रोना नहीं वरना तुम्हारे प्रेम में बुझी मेरी आत्मा को कभी शान्ति नहीं मिलेगी। समझे मेरे प्रथम पुरुष ?”
मैं तो मुंह बाए उसे देखता ही रह गया। मुझे लगा उसकी आवाज कुछ भारी सी होती जा रही है और कहीं दूर सी होती जा रही है। मुझे लगा कि जैसे मुझे नींद सी आने लगी है। पता नहीं ये नींद है या मैं बेहोशी हो रहा हूँ। मैंने कुछ बोलना चाहा पर मेरे मुंह से कोई आवाज नहीं निकल रही थी। पर मोना की दूर होती सी आवाज अब भी सुनाई दे रही थी “मेरे प्रियतम अलविदा …” और मैं गहरी नींद या बेहोशी में खोता चला गया ………
***
अचानक मुझे लगा मोबाइल की घंटी बज रही है। मैंने अपनी जेब टटोली। जैसे ही मैंने अंगूठे से बटन दबाने की कोशिश की मुझे लगा कि उस पर खून सा लगा है और दर्द कर रहा है। “ओह…। हेलो … कौन ?”
“ओह … तुम फ़ोन क्यों नहीं उठा रहे थे। रात से ट्राई कर रही हूँ अब 6 बजे जाकर तुम्हारा फ़ोन मिला है।”
ओह…। ये तो मधु की आवाज थी। “पर वो … पर वो … ”
“ओह मेरे मिट्ठू सपने छोड़ो मैं स्टेशन से बोल रही हूँ। तुम्हारे बिना दिल नहीं लगा इसलिए जल्दी ही वापस आ गई ”उसने फ़ोन पर ही एक चुम्बन ले लिया। “तुम आ रहे हो ना मुझे लेने स्टेशन पर ?”
“ओह … हाँ … हाँ … आ रहा हूँ” और मैंने फ़ोन काट दिया। अब मैंने चारों ओर देखा। मैं तो उसी मील-पत्थर (माइल स्टोन) भरतपुर 13 कि. मी. के पास बैठा था। अरे ? वो बारिश ? … बंगला ? वो मोनिशा… वो गाड़ी ? … वो नेम प्लेट ? वहाँ तो कोई नहीं था। तो क्या मैं सपना देख रहा था। ये कैसे हो सकता है। मेरे अंगूठे पर तो अब भी खून जमा था। वो नेम प्लेट ओह… “मो-निशा पी.जी.एम. नहीं प्रेम गुरु माथुर” हे भगवान् ये क्या चमत्कार था। मैं उठकर गाड़ी की ओर गया। चाबी लगाते ही इंजिन गाड़ी चालू हो गया। इंडिकेटर बता रहा था फ्यूल टेंक तो पूरा भरा है ?
“ओह … मेरी मिक्की … तूने अपना वादा निभा दिया !” मेरी आँखों में आंसू उमड़ पड़े। मैं उन अनमोल कतरों को भला नीचे कैसे गिरने देता मैंने अपनी जेब से वोही रेशमी रुमाल एक बार फिर निकाला और अपनी आँखों पर रख लिया।
मिक्की ने तो अपना वादा निभा दिया पर मेरी प्यारी पाठिकाओं आप भी मुझे मेल करने का वादा मत भूलना !

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks