All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

मेरी बीवी की चुदाई का बदला-1


प्रेषक: सोहन


दोस्तों मेरा नाम सोहन है और मेरी बीबी का नाम रोशनी है …मेरी शादी को ३ साल हो गए है …में १ कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हु और मेरा वेतन काफी अच्छा है ..मेरी एक बड़ी दीदी है जिनकी शादी ५ साल पहले हुई थी ,हम दोनों भाई बहन के बीच आपस में बहुत प्यार था,मेरे जीजाजी एक बिसनेस मैन है ,और वो भी दीदी कि तरह मेरा बहुत ख्याल रखते है

इस बार होली पर रोशनी ने मुझसे कहा कि हम दीदी और जीजाजी को होली खेलने हमारे यहाँ बुला लेते है ,हम होली भी खेल लेंगे और मिल भी लेंगे। मुझे रोशनी का यह आईडिया पसंद आया और मैंने दीदी और जीजाजी से आग्रह किया कि इस बार वो होली हमारे साथ ही मनाये ,मेरे कई बार कहने के बाद वो मान गए और होली के एक दिन पहले वो हमारे पास आ गए।

मेरी बीबी रोशनी एक आकर्षक वयक्तित्व कि धनि है ,उसका फिगर उसके वयक्तित्व में चार चाँद लगाता है ,खूबसूरत चेहरा ,लम्बे बाल ,भरी हुई छातिया ,पतली कमर,उभरे हुए कूल्हे उसको और भी सुन्दर बनाते है ,सबसे बड़ी बात है कि वो एक अच्छी मेजबान भी है और मेहमानो का पूरा ख्याल रखती है । दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

होली के दिन सुबह से ही वो होली कि तैयारिओं में जुट गयी, उसने दीदी और जीजाजी के लिए शानदार नाश्ता बनाया,मैंने जीजाजी को कहा कि नाश्ते से पहले वो कुछ ड्रिंक वगेरा लेने चाहेंगे तो उन्होंने कहा क्यू नही। हम दोनों ने रम के ३-३ पेग लिए ,इतने में रोशनी आ गयी और उसने हमारे लिए नाश्ता लगाने लगी रोशनी ने साड़ी पहनी हुई थी जिस पर बिना बाँहों का ब्लाउस था वो भी लो नेक का जिसमे वो बहुत ही सेक्सी लग रही थी.आदमी चाहे जितना भी अच्छा हो दुसरे की बीवी को देखकर उसके मुह में लार टपकने लगती है ! मैंने ध्यान दिया की जीजाजी बार बार रोशनी के उरोजो की तरफ ही देख रहे थे !जब रोशनी उसे पकोड़े देने झुकी तो वो उसके ब्लाउस में दिखती उरोजो की लकीर को देख रहे थे ! और जब रोशनी किचन की तरफ जाने लगी तब वो रोशनी के हिलते हुए कुलहो को घूरे जा रहे थे ! उसने जीजाजी को छेड़ते हुए कहा कि वो ड्रिंक ही करते रहेंगे या उसके साथ होली भी खेलेंगे,जीजाजी ने कहा सलहज साहिबा आपके साथ होली खेलने का ही तो मूड बनाया है ,और ये कहते ही वो उठ खड़े हुए।रोशनी ने कहा आपने गुलाल लगाना है तो कोई बात नहीं पर अगर आपने कोई पक्का रंग लगाया तो अच्छा नहीं होगा !

उन्होंने कहा नहीं भाभी हम कोई पक्का रंग नहीं लगाएँगे !जीजाजी उठे और रोशनी के गालो पर रंग लगाने लगे उन्होंने रोशनी का पूरा चेहरा गुलाल से रंग दिया। में जिस मकान में रहता था उसके पीछे एक खुला गार्डन था जिसके

चारो और चारदीवारी थी ,हमने होली खेलने का वंहा ही प्रोग्राम रखा था,मैंने दीदी और जीजाजी के गुलाल लगाया ,उन्होंने भी मेरे गुलाल लगाया,रोशनी ने भी दीदी के गुलाल लगाया और जीजाजी के भी गुलाल लगाया,मैंने दीदी से कहा कि हम तो अंदर बैठते है और इन दोनों को होली खेलने देते है ,दीदी मेरी बात मान गयी और वो मेरे साथ अंदर आ गयी,रोशनी और जीजाजी गार्डन में चले गए। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

हम जिस कमरे में बेठे थे उस से गार्डन का पूरा हिस्सा दीखता था,न जाने मुझे ऐसा क्यू लग रहा था कि ये होली कुछ खास होने वाली है ।

जीजाजी ने गार्डन में जाते ही एक पैकेटअपनी जेब से निकला उनके हाथ में एक पैकट रोशनी ने देखा तो वो चिल्ला पड़ी नहीं ये नहीं !!!! वो पक्का रंग था ! जीजाजी बोले भाभी कोई बात नहीं एक बार नहाते ही ये सब उतर जाएगा ! वो रोशनी की तरफ बढ़ने लगे। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

जीजाजी ने रोशनी को आखिर दबोच ही लिया और उसके चहरे पर रंग लगाने लगे ! रोशनी ने बहुत कोशिश की अपने आप को बचाने की पर जीजाजी के आगे उसकी एक न चली ! उन्होंने बुरी तरह उसका चेहरा रंग दिया ! रोशनी को रंग लगाने के लिए उसको घेरने लगे ! अब तो रोशनी ने वहा से भागने में ही भलाई समझी ! वो किचन की तरफ भागने लगी ! पर जीजाजी ने उसका रास्ता रोक लिया और उसके हाथों पर रंग लगाने लगा इस धक्का मुक्की में कई बार उन का हाथ रोशनी के स्तनों को छू जाता ! दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

रोशनी ने उन से निकलने की कोशिश की तो जीजाजी ने उसको पकड़ने की कोशिश की तो जल्दबाजी में उन्होंने रोशनी की कमर में हाथ डाल दिया और दोनों हाथों से घेरा बना कर उसे पीछे से कस कर पकड़ लिया !

ओह ये क्या !!!! रोशनी के पीछे जीजाजी बिलकुल उससे चिपक कर खड़ा हो गए और उसको अच्छी तरह से जकड लिया उसका फुला हुआ लंड रोशनी की गांड की दरारों के बिलकुल बीच में था !! रोशनी जितना अपने आप को जीजाजी से छुड़ाने की कोशिश करती उतना ही वो जीजाजी से रगड़ खाती और उतना ही जीजाजी को मज़ा आता ! वो भी जान बुझ कर रोशनी को दबाये जा रहा थे ! और अपने नीचे के हिस्से को रोशनी की गांड से रगड़े जा रहे थे ! इधर जीजाजी ने अब रोशनी के बदन का ऊपर का जो भी हिस्सा साफ़ देखा वहां वो कस कस के रंग लगाये जा रहे थे ! उसकी गरदन उसकी पीठ हाथों जहाँ भी नंगा हिस्सा था वहां उनका हाथ चलता जा रहा था ! रोशनी के साथ इस धक्कामुक्की में रोशनी की साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया !

रोशनी के ब्लाउस में झांकती उसकी दोनों स्तनों की लकीर उन के सामने थी ! ! मैंने सोचा अब ये क्या करेंगे ! कही कुछ ज्यादा ही न हो जाये ! रोशनी भी अब थोडा तेज़ चिल्लाने लगी थी !! पर उन पर तो अब वासना का भुत चढ़ चूका था ! जीजाजी ने एक रंग का पाकेट खोला और रोशनी के ब्लाउस की दरार को एक उंगली से हल्का सा उठाया और पूरा पाकेट अन्दर उड़ेल दिया ! पूरा रंग रोशनी के ब्लाउस में चला गया पर वो रंग सुखा हुआ था ! जीजाजी भाग कर बाथरूम से एक जग में पानी ले आये और उसने भी ब्लाउस को थोडा सा उठा कर पूरा पानी अन्दर डाल दिया ! अब रोशनी का पूरा ब्लाउस गिला और रंग से सरोबार हो गया था ! ब्लाउस गीला होने से अब उसके अन्दर की ब्रा भी अब साफ़ चमकने लगी थी जीजाजी का हाथ अब रोशनी की कमर से ऊपर आ कर उसके चूचो तक आ चूका था ! ! रोशनी बाथरूम की तरफ भागने लगी ! तभी जीजाजी ने रोशनी का जो पल्लू जमीन की तरफ था उस पर पाँव रख दिया ! रोशनी जब भागी तो पल्लू बड़ा होने के कारण उसकी साड़ी खुल गयी रोशनी ने अपनी साड़ी उठाना जरुरी नहीं समझा होगा उसे लगा होगा अब तो ये मुझे रंग लगा ही चुके है अब सीधा बाथरूम जाकर नहा लेती हूँ तो वो अपनी खुलती हुई साड़ी को और उतर कर बाथरूम की तरफ भागी ! अब ये सीन देख कर तो जीजाजी मचल उठे भागते हुए रोशनी के बदन से चिपका हुआ उसका पेटीकोट उसकी गांड की शेप बता रहा था ! ३६ की गांड को देखते ही जीजाजी रोशनी के पीछे भागे और रोशनी के बाथरूम का दरवाज़ा बंद करने से पहले ही दरवाज़ा पकड़ कर खड़े हो गए ! उसके पीछे जीजाजी भी रोशनी को धकेलते हुए अन्दर की तरफ आ गए ! अब रोशनी फिर से बाथरूम में उनसे घिर गयी ! अब रोशनी ने उनको कहना शुरू किया तो जीजाजी ने कहा देखो भाभी आज होली है ! और आज तो हम आप को तस्सली से रंग लगा कर ही रहेंगे अब चाहे अपनी मर्ज़ी से लगाने दो या फिर ज़बरदस्ती !!! बोलो क्या करना है ! रोशनी ने भी अब सोचा के अब ये मानने वाले नहीं है ! और वैसे भी इस रगडा रगड़ी में उसे भी जरुर मज़ा आया होगा ! उसने भी कहा ! देखो रंग लगा लो पर में चुपचाप नहीं लगवाने दूंगी ! आप अपनी कोशिश करों रंग डालने की में अपनी कोशिश करुँगी अपने को बचाने की !! ठीक है !!!

अब होली थोड़ी और गरम होने वाली थी क्योंकि रोशनी को भी अब मज़ा आने लगा था ! उसे तो लगा था के जीजाजी सच में वो सिर्फ होली खेलने आये है पर में जानता था क्या चल रहा है ! अब मेरी बीवी उन के सामने सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउस में होली खेलने को बिलकुल तैयार हो चुकी थी ! जीजाजी ने तुरंत एक जग पानी उठाया और रोशनी के वक्षस्थल की तरफ फ़ेंक दिया एक बार फिर रोशनी का उपरी हिस्सा गीला हो गया और उसकी ब्रा, ब्लाउस से झाकने लगी !फिर तो जीजाजी ने लगातार ३ ४ बार रोशनी के ऊपर जग से पानी डाल दिया जिससे रोशनी बिलकुल तरबतर हो गयी !! उसका पेटीकोट भी उसकी बदन से बुरी तरह चिपक गया और उसके पुरे बदन की शेप साफ़ साफ़ दिखने लगी ! अब तो जीजाजी ने जानबूझ कर रोशनी के कमर में हाथ डाल कर उसे उठा लिया और कहने लगा की अब तो आप को शावर के नीचे ही गीला करेंगे ! जीजाजी ने रोशनी को आगे की तरफ से उठा लिया जिससे रोशनी के चुचे जीजाजी के चहरे के सामने आ गए और उनके दोनों हाथ रोशनी के पीछे उसकी गांड के नीचे पहुच गए जीजाजी ने रोशनी को कस कर पकड़ा और उसे उठा कर शोवर के नीचे ले आये ये देख कर जीजाजी ने अब शोवर चालू कर दिया ! अब रोशनी और जीजाजी दोनों भीगने लगे !जीजाजी ने जिस तरह से रोशनी को उठाया था उससे रोशनी का पेटीकोट थोडा सा ऊपर को हो गया था ! जिस से उसकी टांगों का पिछला हिस्सा नंगा हो गया था ! मतलब उसके टांगों का पिछला हिस्सा घुटनों तक दिख रहा था !!! जीजाजी से रहा नहीं गया और उसने थोडा सा रंग लेकर उसकी टांगों में मसलना शुरू कर दिया !!

जबजीजाजी भी अच्छी तरह गीला हो गए तब उसने मेरी बीवी को नीचे उतारा रोशनी का एक एक अंग साफ़ दिख रहा था ! ! जीजाजी अब कुछ ज्यादा ही वहशी हो चूका थे क्योकि उसने अपने हाथ में रंग लेकर रोशनी के ब्लाउस के ऊपर लगा दिया ! रोशनी ने उन्हें मन किया पर अब वो कहा मानने वाला थे उन्होंने फिर से उसके एक साइड के चुचे पर रंग लगा दिया ! अब रोशनी कहा वो अब होली नहीं खेलेगी पर जीजाजी नही माने वो फिर भी उसके चुचों में रंग लगाता रहा रहे !!! रोशनी बाहर जाने को हुई तो जीजाजी ने उसको पीछे से दोनों हाथों से पकड़ लिया रोशनी के दोनों हाथ अब पीछे की तरफ थे और उसके चुचे सामने की तरफ को तने हुए जीजाजी ने रोशनी के ब्लाउस में हाथ डाल दिया और उसके चूचो में रंग लगाने लगे रोशनी चिल्लाई !!!! पर उन्हें कोई फरक नहीं पड़ा ! जीजाजी उसके दोनों चूचो को भिचने लगा और वो रोशनी के पीछे उसकी गांड से सट कर खड़ा हो गए और उसकी गांड पे अपने लंड से घिस्से लगाने लगे ! जीजाजी ने मौके का फायदा उठाया औरउन्होंने रोशनी का पेटीकोट उसकी जांघों तक उठा दिया !! जीजाजी उसकी जांघों पर रंग रगड़ने लगे ! रोशनी तड़पने लगी और बुरी तरह अपने आप को छुड़ाने की कोशिश करने लगी ! पर जितना वो हिलती उतना ही जीजाजी को मज़ा आता ! जीजाजी अब रोशनी की टांगों को रंग लगा कर उठ चूका थे और अब वो रोशनी के चुचिओं पर पिल पड़े ! जीजाजी ने रोशनी के ब्लाउस के हुक खोलने शुरू किये ! रोशनी अब जोर जोर से चिल्लाने लगी ये देख जीजाजी ने उसका मुह बंद कर दिया !जीजाजी ने कुछ देर में उसके हुक पुरे खोल दिए पर ब्लाउस को उतारा नहीं !! पर उसके मुम्मो को दबाता जरुर रहे , पीछेअपना लंड लगातार उसकी गांड से रगड़े जा रहाथे ! जीजाजी ने अब रोशनी के हाथ छोड़े और उसके दोनों चुचे पीछे से पकड़ लिए और जोर जोर से उन्हें मसलने लगे जीजाजी ने तभी रोशनी के पेटीकोट के नाड़े को खोलने की कोशिश की पर वो शायद अटक गया था इसलिए उस से वो खुला नहीं ! जीजाजी घुटनों के बल नीचे बैठ गया और वही से नाड़े को खोलने लगा पर नाड़ा फंस चूका था ! झल्ला कर जीजाजी ने रोशनी का पेटीकोट ऊपर उठा दिया और रोशनी की चूत पर अपना हाथ रख दिया और उसे भी रगड़ने लगे !!! अब तो ये तय था की अब वो मेरी बीवी का कांड करने ही वाले है ! जीजाजी ने पीछे अपना लंड निकल लिया था और रोशनी की गांड की दरार पर धक्के पर धक्का लगाये जा रहा थे ! !! मैंने रोशनी को देखा तो चूत में उंगली डालने पर उसकी आँखें बंद हो चुकी थी और वो भी जीजाजी के बाल पकड़ कर उसे अपनी चूत की तरफ खिंच रही थी ! थोड़ी देर में जीजाजी ने अपना मुह रोशनी की चूत की तरफ किया और उसकी दोनों टांगों को चौड़ा किया और अपनी जीभ उसकी चूत पर लगा दी !!! एकदम से रोशनी के मुह से आह निकली ! और उसने कस कर जीजाजी के बाल भीच लिए !!१ इस से रोशनी का पेटीकोट नीचे जीजाजी के सर के ऊपर आ गया अब रोशनी की चूत चाटते हुए वो दिख नहीं रहा था पर रोशनी का चेहरा देख कर साफ़ था की नीचे जीजाजी की जीभ रोशनी की चूत चोद रही है !!! बहुत गरम द्रश्य था ! जीजाजी ने अब रोशनी की ब्रा को ऊपर किया और उसके निप्पलों को चूसने लगा एक दम कड़क निप्पल हो चुके थे ! जीजाजी पीछे अपना लंड निकाल कर रोशनी की गांड पर रगड़ रहा थे ! काफी देर से रगड़ने की वज़ह से शायद वो झडने वाला था ! हा सच में उन्होंने पीछे रोशनी की गांड के ऊपर अपना सारा माल निकाल दिया था और अपने लंड को ख़ाली करने के लिए वो उसे आगे पीछे किये जा रहा था ! जीजाजी ने अपना लंड अपनी पेंट से नक़ल कर रोशनी के हाथ में दे दिए रोशनी उसके तने हुए लंड की मुठ मरने लगी ! और जीजाजी उसके चूचो को चूसते रहे !! रोशनी और जीजाजी कि गरम हरकतो ने मुझे भी काफी गरम कर दिया था,इधर दीदी भी जीजाजी कि सब हरकतो को देख रही थी तो उनका भी पूरा चेहरा लाल हो चूका था जबकि जीजाजी और रोशनी ये समझ रहे थे कि उन दोनों को कोई नही देख रहा है इसलिए वो ये सारा तमाशा कर रहे थे। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

शायद अब रोशनी भी काफी गरम हो गयी थी और उसको लगने लगा था कि जीजाजी उसे चोदे बगैर मानेगे नही तो उसने जीजाजी से धीरे से कहा कि जीजाजी अब सहन नही होगा पर ये भी है और दीदी भी बाकि होली आप रात को मना लेना। जीजाजी ने कहा सलहज जी क्या गारंटी है कि आप रात को मुझे होली मनाने देंगी?और सोहन का आप क्या करेंगी,तब रोशनी ने कहा कि आप रात को फिर से इनके साथ ड्रिंक करने बेठ जाना और इनको इतनी पिला देना कि इन्हे सुबह तक होश नही आये तब में आपके साथ अभी का अधूरा काम पूरा कर दूंगी,पर उन दोनों को ये पता नही था कि दीदी और में उनकी ये बात सुन रहे है ।  दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

दीदी ने मेरे पास आकर कहा कि कि सोहन मुझे पता नही था कि तेरे जीजाजी रोशनी के साथ ऐसी होली खेलेंगे ,मैंने कहा दीदी कोई बात नही,कभी कभी सब बहक जाते है ,मेरी समझ में ये तो आ गया था कि रोशनी के मन में भी आज जीजाजी से चुदाई का मन है ,पर न जाने क्यू में भी ये सोच रहा था कि आज जीजाजी और रोशनी कि चुदाई देखु।

हुआ रात को वो ही जीजाजी ने मुझसे कहा कि साले साहब थोड़ी ड्रिंक हो जाये,,मैंने सहमति से अपना सर हिला दिया और हम ड्रिंक करने बेठ गए,दीदी कमरे में सोने चली गयी और हम अपने रूम में आकर ड्रिंक करने लगे ,रोशनी ने नमकीन वगेरा रख दी और हम पेग पर पेग बनाते चले गए,में देख रहा था कि जीजाजी अपना पेग तो छोटा बना रहे थे पर मेरा पेग लार्ज बना रहे थे ,में भी उन दोनों कि चुदाई देखना चाहता था इसलिए उनकी नजरे बचाकर कभी कभी पेग को फेला भी देता था।

हम दोनों दारू पीते पीते बातें करने लगे ! पीते पीते रात के १०.३० बज गए ! रोशनी भी अब सो चुकी थी या कहे की सोने का नाटक कर रही थी ! मैंने इस तरह से नशा चड़ने की एक्टिंग की जीजाजी को लगा अब में जरुर सो जाऊंगा , और मैंने किया भी ऐसे ही में वही जहाँ नीचे बिस्तर लगा हुआ था वही लेट गया , अब जीजाजी उठे और रोशनी को जगाने लगा !

“भाभी देखो सोहन भाई तो यही लुड़क गए ! ”

“ओह हो ये भी ना इनको भी ज्यादा नहीं झिलती अब ये तो सुबह ही उठेंगे ”

मुझे पता था की वो दोनों जानबूझ कर ऐसी बातें कर रहे है ! रोशनी ने वहां से सारा सामान उठाया और किचन में रखने चली गयी जीजाजी वही मेरे पास लेट गए दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

“आप ऊपर सो जाए में यहाँ इनके पास नीचे लेट जाती हूँ , आप को नीचे नींद नहीं आएगी ” रोशनी ने जीजाजी को कहा !

“नहीं भाभी आप भाई को ऊपर बेड पर लेटा दो और आप भी ऊपर सो जाओ में यहाँ आराम से सो जाऊंगा ”

रोशनी ने मुझे उठाने की कोशिश की पर में भी तो पक्का खिलाडी था ! में भी इस तरह से बेसुध पड़ा रहा की उन दोनों को यकीं हो जाए की में सच में नशे में सो गया हूँ

“क्या भाई ऐसे ही नशे में ऐसे ही सो जाते है क्या भाभी”

“हा ज्यादा पी लेते है तो ऐसे ही हो जाते है अब ये सुबह ही उठेंगे और फिर सर पकड़ कर बैठ जाएँगे ”

“मतलब अब नहीं उठेंगे ”

“हा जी अब नहीं उठेंगे ”

“पक्का है ना ”

“हा हा पक्का है ”



में समझ गया अब काम शुरू होने वाला है , पर मुझे डर भी था की कही इन दोनों में मुझे इनको कुछ करते देख लिया तो रोशनी का क्या रिअक्शन होगा ! तो मुझे बड़ी सावधानी से सब कुछ देखना होगा !

“चलो अब रात बहुत हो गयी है मुझे नींद आ रही है , आप भी सो जाएँ ” रोशनी उठी और उसने टी वी और लाईट दोनों बंद कर दी !

धत तेरे की ये क्या ये लाईट बंद हो गयी अब क्या कद्दू दिखेगा मुझे, हो गया सारे प्लान का गुड़ गोबर !

जीजाजी मेरे बगल में आकर लेट गए और रोशनी ऊपर बेड पर ! काफी देर तक वो दोनों ऐसे ही पड़े रहे में भी ये सोच रहा था क्या हुआ क्या आज इन का मन नहीं हो रहा !

अब लेटे लेटे मुझे सही में नींद आने लगी थी ! तभी अचानक रोशनी उठी और किचन में फ्रीज़ में पानी पीने की लिए उसने लाईट जलाई मैंने चुपचाप देखा तो जीजाजी भी उठे हुआ थे और रोशनी को ही देख रहा था !

“क्या बात है भाभी नींद नहीं आ रही है ” उसने धीरे से कहा!

“आ तो रही है पर प्यास भी तो लग रही है ना , बिना प्यास मिटाए नींद कहा से आएगी” रोशनी ने भी धीरे से जवाब दिया

बस अब की बार लाईट बंद ना हो में ऐसा भगवान् से प्राथना कर रहा था

“प्यास तो मुझे भी लगी है ”

“तो बुझाते क्यों नहीं “दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

ऐसा सुन कर जीजाजी खड़े हुए और किचन की तरफ चले गए वहां उन्होंने भी पानी पिया और फिर मेरे पास आकर मुझे हिलाते हुए मुझसे पानी के लिए पूछा ! पर में कहाँ उठाने वाला था जब उसे तस्सली हो गयी की में अब नहीं उठूँगा तो वो फिर से किचन में गया जहाँ रोशनी खड़ी थी

उसने रोशनी के कान में कुछ कहा तो रोशनी मुस्कुरा दी , उसके बाद रोशनी ने लाईट बंद कर दी और वापस बिस्तर पर लेट गयी !जीजाजी मेरे पास दुबारा आ गए , में सोच रहा था ये हो क्या रहा है !

थोड़ी देर हुई होगी की जीजाजी चुपके से उठे और सीधा बिस्तर पर चढ़ गए ! अँधेरा होने की वज़ह से मुझे साफ़ साफ़ नहीं दिख रहा था पर उन दोनों की फुसफुसाहट थोड़ी थोड़ी सुनाई दे रही थी !

“आप यहाँ क्या कर रहे हो ” रोशनी ने अचानक उन्हें देख कर कहा

“भाभी अब तो नाराज़ ना हो दिन में में कुछ ज्यादा ही मस्त हो गया था इसलिए ”

“तो अब क्या इरादा है”

“अब तो सारी रात ही हमारी है ”

“अच्छा दिन में तो इतनी जल्दी हो गए अब रात भर क्या मुझे लोरी सुनाओगे”

“ये देखो ना क्या हाल है मेरा ”

“अरे बाप रे ये क्या है”

” भाभी देखो ना कैसे तड़प रहा है ”

“तो में क्या कर सकती हूँ इसका ”

“आप कुछ मत करो जो करूँगा में करूँगा ”

“देखते है ”

“ये क्या …? नहीं अभी कपडे मत उतारो ”

“तो भाभी मज़ा कैसे आएगा ”

“ऐसे ही करना है वो कर लो ”

जीजाजी उसके कपडे उतारने की कोशिश कर रहे होंगे और रोशनी उसे मना कर रही होगी ! अब तो मेरा तन कर आधा इंच और लम्बा हो गया था !

“बस नीचे की स्कर्ट उतारने दो ना भाभी ”

“नही , अरे …..नहीईइ ना ओह्ह हो आप मानोगे नहीं …..कही सोहन उठ गया तो ”

“अब वो नहीं उठता ”

“चलो नीचे उतारो मत बस ऊपर कर लो ”

“नहीं ना भाभी मज़ा तो नंगे बदन ही आता है ”

“प्लीस्स्स्स ….नहीई आप नहीं मानोगे ना ……ओह्ह्ह हो ….मत करो !!!!!!

“अब आएगा ना मज़ा” जीजाजी ने जितने वाली आवाज़ में कहा

मतलब स्कर्ट उतार चूका था !

“अब इसे मत उअतारो ना !!!!!!!! ऊपर कर लो !

“बस हो गया भाभी …अब देखो मज़े !!!!! “कुछ तो रहने दो शरीर पर ”

“बस बस देखो ….अहह क्या मज़ेदार बदन है तुम्हारा भाभी”

“मतलब आप नहीं मानने वाले ना पुरे उतार ही दिए ना”

“अब बताओ भाभी क्या मज़ा नहीं आ रहा तुम्हे ”

“क्यों नहीं आएगा , अपने ही पति के साथ दुसरे मर्द से मज़े ले रही हूँ तो मज़ा तो आएगा ही ”

“अह्ह्ह ह्ह्ह्हाआ नहीईइ कितना बड़ा है ये …..आराम से डालो ना ”

“बस बस आह्हा पूरा गया ना भाभी …..कैसा है मज़ेदार है ना”

“ओह्ह्ह्ह अहह्ह्ह्हा ईईइ क्या सीधा है ओह्ह उह्ह्ह्ह ”

“कैसे मज़े आते है जोर से या धीरे से ”

“तेज़ करो और तेज़ …..ओह्ह्हह्ह्ह्ह ईईईईइ मर गयीईई अह़ा आःह्हा उह्ह्हह्ह क्या शानदार है ”

उन दोनों की चुदाई शुरू हो चुकी थी पर मुझे कुछ नहीं दिख रहा था बस आवाजें आ रही थी मैंने अपना लंड निकल लिया और लगा मुठ मारने

सच में आज मुठ का मज़ा ही अलग था ,

बिस्तर पर धप धप की आवाजें तेज़ होती जा रही थी , मैंने थोडा सा उठकर ऊपर देखने की कोशिश की तो थोडा सा अँधेरे में दिखा की रोशनी दोनों टंगे फैलाए लेटी हुए है औरजीजाजी उसके ऊपर चढ़े हुआ धकाधक उसे चोदे जा रहे है !उनके झटको की स्पीड बदती ही जा रही थी रोशनी में मुह से मादक आवाजें निकले जा रही थी ! माहोल बहुत ही गरम हो चला था !

“अह्ह्ह बताओ ना भाभी किस है मेरा लंड ”

“आःह्ह्हा मज़ा आ गया ईई उह्ह्हह्ह क्या शानदार झटके है तुम्हारे उघ्ह्ह्हह्ह अह्ह्ह्ह मर गयीई आज तो !!!!!!!!!!!!!



” ””’ आह्ह्ह उह्ह्ह्ह फाड़ डाला आज तो मर गयीईई आज तो

“आहा भाभी आःह्ह्हा आह्ह्ह में होने वाला हूँ भाभी अह्ह्ह ” बताओ कहा डालू

“आःह्हा अन्दर ही रहने दो सस अहह उह्ह्ह बाहर मत निकालना ऊउह्ह्ह आईई ”

“में हुआ हुआ !!!! आःह्हा आह्ह्ह ”

“आहा आआह्ह्ह कितना गरम है आःह्ह्ह उह्ह्ह्ह ईईईई ”

जीजाजी के धक्के बंद हो गए अब उन दोनों की सांसे चल रही थी कुछ देर तक तो दोनों ऐसे ही पड़े रहे जीजाजी ने अपना सारा माल रोशनी की चुत में ही डाल दिया था !

“अब उठो मुझे बाथरूम जाने दो हटो मेरे ऊपर से ”

रोशनी उठ कर बत्रुम की तरफ गयी में दुबारा वैसे लेट गया रोशनी ने बाथरूम की लाईट जलाई और मेरी तरफ देखा निश्चिन्त होकर वो अन्दर चली गयी उस वक़्त वो पूरी नंगी थी जीजाजी भी उसके पीछे पीछे बाथरूम में चला गए वो भी पूरा नंगा थे उनका लोडा अब भी थोडा ताना हुआ था उसने जाते ही बाथरूम का दरवाज़ा बंद कर दिया ! में उठ कर दरवाज़े के पास आ गया और कान लगा कर सुनने लगा पर अन्दर से शावर की आवाज़ आ रही थी ! थोड़ी देर में बड़े जोर से पानी में भीगने और पट पट की आवाजें शुरू हो गयी ! और साथ साथ रोशनी की आहे भी सुनाई दे रही थी ! मतलब जीजाजी अब उसे शावर के नीचे ही चोदने लगा था ! बड़ी मस्त आवाजें थी ! में अंदाज़ा लगा रहा था की किस तरह रोशनी खड़ी होगी जरुर जीजाजी उसे एक टांग उठा कर पीछे की तरफ से उसकी चुत चोद रहा होगा ! करीब २० मिनट तक वो आवाजें लगातार आती रही ! फिर कुछ देर में सब शांत हो गया शावर बंद हो गया और फिर में अपनी जगह पर आ गया ! दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | पर मेरा मन अब नही लग रहा था मैंने सोचा दीदी के कमरे में चलकर देखु कि दीदी क्या कर रही है

दोस्तों सुबह कि एक बात में आपको कहना चाहूंगा,जीजाजी और रोशनी जब होली के मजे ले रहे थे और मैंने दीदी कि आँखों में वासना के लाल डोरे देख लिए थे तब दीदी नहाने के लिए बाथ रूम में चली गयी थी तब मैंने दीदी को नहाते देखने कि सोची। दीदी के साथ रहते हुए मैंने इस बात को महसूस किया की मेरी दीदी वाकई बहुत ही खूबसूरत औरत है. ऐसा नहीं था की दीदी शादी के पहले खूबसूरत नहीं थी. दीदी एकदम गोरी चिट्टी और तीखे नाक-नक्शे वाली थी. पर दीदी और मेरे उम्र के बीच फर्क था, इसलिए जब दीदी कुंवारी थी तो मेरी उतनी समझदारी ही नहीं थी की मैं उनकी सुन्दरता को समझ पाता या फिर उसका आकलन कर पाता. फिर शादी के बाद दीदी अलग रहने लगी थी. अब जब मैं जवान और समझदार हो गया था तो मुझे अपनी दीदी को काफी नजदीक से देखने का अवसर मिल रहा था और यह अहसास हो रहा था की वाकई मेरी बहन लाखो में एक हैं. शादी के बाद से उसका बदन थोड़ा मोटा हो गया था. मतलब उसमे भराव आ गया था. पहले वो दुबली पतली थी मगर अब उसका बदन गदरा गया था. शायद ये उम्र का भी असर था . उसके गोरे सुडौल बदन में गजब का भराव और लोच था. चलने का अंदाज बेहद आकर्षक और क्या कह सकते है कोई शब्द नहीं मिल रहा शायद सेक्सी था. कभी चुस्त सलवार कमीज़ तो कभी साडी ब्लाउज जो भी वो पहनती थी उसका बदन उसमे और भी ज्यादा निखर जाता था . चुस्त सलवार कुर्ती में तो हद से ज्यादा सेक्सी दिखती. दीदी जब वो पहनती थी उस समय सबसे ज्यादा आकर्षण उसकी टांगो में होता था . सलवार उसके पैरो से एकदम चिपकी हुई होती थी. जैसा की आप सभी जानते है ज्यादातर अपने यहाँ जो भी चुस्त सलवार बनती है वो झीने सूती कपड़ो की होती है. इसलिए दीदी की सलवार भी झीने सूती कपड़े की बनी होती थी और वो उसके टांगो से एकदम चिपकी हुई होती. कमीज़ थोरी लम्बी होती थी मगर ठीक कमर के पास आकर उसमे जो कट होता था असल में वही जानलेवा होता था. कमीज़ का कट चलते समय जब इधर से उधर होता तो चुस्त सलवार में कसी हुई मांसल जांघे और चुत्तर दिख जाते थे. दीदी की जांघे एकदम ठोस, गदराई और मोटी कन्दली के खंभे जैसी थी फिर उसी अनुपात में चुत्तर भी थे. एकदम मोटे मोटे , गोल-मटोल गदराये, मांसल और गद्देदार जो चलने पर हिलते थे. सीढियों पर चढ़ते समय कई बार मुझे कविता दीदी के पीछे चलने का अवसर प्राप्त हुआ था. सीढियाँ चढ़ते समय जब साडी या सलवार कमीज में कसे हुए उनके चुत्तर हिलते थे, तो पता नहीं क्यों मुझे बड़ी शर्मिंदगी महसूस होती थी. इसका कारण शायद ये था की मुझे उम्र में अपने से बड़ी और भरे बदन वाली लड़कियोँ या औरते ज्यादा अच्छी लगती थी. सीढियों पर चढ़ते समय जब दीदी के तरबूजे के जैसे चुत्तर के दोनों फांक जब हिलते तो पता नहीं मेरे अन्दर कुछ हो जाता था. मेरी नज़रे अपने आप पर काबू नहीं रख पाती और मैं उन्हें चोर नजरो से देखने की कोशिश करता. पीछे से देखते समय मेरा सामना चूँकि दीदी से नहीं होता था इसलिए शायद मैं उनको एक भरपूर जवान औरत के रूप में देखने लगता था और अपने आप को उनके हिलते हुए चूत्तरों को देखने से नहीं रोक पाता था. अपनी ही दीदी के चुत्तरों को देखने के कारण मैं अपराधबोध से ग्रस्त हो शर्मिंदगी महसूस करता था. कई बार वो चुस्त सलवार पर शोर्ट कुर्ती यानि की छोटी जांघो तक की कुर्ती भी पहन लेती थी. उस दिन मैं उनसे नज़रे नहीं मिला पाता था. मेरी नज़रे जांघो से ऊपर उठ ही नहीं पाती थी. शोर्ट कुर्ती से झांकते चुस्त सलवार में कसे मोटे मोटे गदराये जांघ भला किसे अच्छे नहीं लगेंगे भले ही वो आपकी बहन के हो. पर इसके कारण आत्मग्लानी भी होती थी और मैं उनसे आंखे नहीं मिला पाता था.

दीदी की चुत्तर और जांघो में जो मांसलता आई थी वही उनकी चुचियों में भी देखने को मिलती थी. उनके मोटे चुत्तर और गांड के अनुपात में ही उनकी चुचियाँ भी थी. चुचियों के बारे में यही कह सकते है की इतने बड़े हो की आपकी हथेली में नहीं समाये पर इतने ज्यादा बड़े भी न हो की दो हाथो की हथेलियों से भी बाहर निकल जाये. कुल मिला कर ये कहे तो शरीर के अनुपात में हो. कुछ १८-१९ साल की लड़कीयों जो की देखने में खूबसूरत तो होंगी मगर उनकी चुचियाँ निम्बू या संतरे के आकार की होती है. जवान लड़कियोँ की चुचियों का आकार कम से कम बेल या नारियल के फल जितना तो होना ही चाहिए. निम्बू तो चौदह-पंद्रह साल की छोकरियों पर अच्छा लगता है. कई बार ध्यान से देखने पर पता चल पाता है की पुशअप ब्रा पहन कर फुला कर घूम रही है. इसी तरह कुछ की ऐसी ढीली और इतनी बड़ी-बड़ी होगी की देख कर मूड ख़राब हो जायेगा. लोगो का मुझे नहीं पता मगर मुझे तो एक साइज़ में ढली चूचियां ही अच्छी लगती है. शारीरिक अनुपात में ढली में हुई, ताकि ऐसा न लगे की पुरे बदन से भारी तो चूचियां है या फिर चूची की जगह पर सपाट छाती लिए घूम रही हो. सुन्दर मुखड़ा और नुकीली चुचियाँ ही लड़कियों को माल बनाती है. एकदम तीर की तरह नुकीली चुचिया थी दीदी की. भरी-भरी, भारी और गुदाज़. गोल और गदराई हुई. साधारण सलवार कुर्ती में भी गजब की लगती थी. बिना चुन्नी के उनकी चूचियां ऐसे लगती जैसे किसी बड़े नारियल को दो भागो में काट कर उलट कर उनकी छाती से चिपका दिया गया है. घर में दीदी ज्यादातर साड़ी या सलवार कमीज़ में रहती थी . गर्मियों में वो आम तौर पर साड़ी पहनती थी . शायद इसका सबसे बड़ा कारण ये था की वो घर में अपनी साड़ी उतार कर, केवल पेटीकोट ब्लाउज में घूम सकती थी. ये एक तरह से उसके लिए नाईटी या फिर मैक्सी का काम करता था. अगर कही जाना होता था तो वो झट से एक पतली सूती साड़ी लपेट लेती थी. मेरी मौजूदगी से भी उसे कोई अंतर नहीं पड़ता था, केवल अपनी छाती पर एक पतली चुन्नी डाल लेती थी. पेटीकोट और ब्लाउज में रहने से उसे शायद गर्मी कम लगती थी. मेरी समझ से इसका कारण ये हो सकता है की नाईटी पहनने पर भी उसे नाईटी के अन्दर एक स्लिप और पेटीकोट तो पहनना ही पड़ता था, और अगर वो ऐसा नहीं करती तो उसकी ब्रा और पैन्टी दिखने लगते, जो की मेरी मौजूदगी के कारण वो नहीं चाहती थी. जबकि पेटीकोट जो की आम तौर पर मोटे सूती कपड़े का बना होता है एकदम ढीला ढाला और हवादार. कई बार रसोई में या बाथरूम में काम समय मैंने देखा था की वो अपने पेटीकोट को उठा कर कमर में खोस लेती थी जिससे घुटने तक उसकी गोरी गोरी टांगे नंगी हो जाती थी. दीदी की पिंडलियाँ भी मांसल और चिकनी थी. वो हमेशा एक पतला सा पायल पहने रहती थी. मैं दीदी को इन्ही वस्त्रो में देखता रहता था मगर फिर भी उनके साथ एक सम्मान और इज्ज़त भरे रिश्ते की सीमाओं को लांघने के बारे में नहीं सोचता था. वो भी मुझे एक मासूम सा लड़का समझती थी और भले ही किसी भी अवस्था या कपड़े में हो , मेरे सामने आने में नहीं हिचकिचाती थी.  दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

खेर दीदी जिस बाथरूम में गयी थी उसमे लैट्रीन और बाथरूम दोनों को सेपरेट कर दिया गया. इसके लिए बाथरूम के बीच में लकड़ी के पट्टो की सहायता से एक दिवार बना दी गई. ईट की दीवार बनाने में एक तो खर्च बहुत आता दूसरा वो ज्यादा जगह भी लेता, लकड़ी की दीवार इस बाथरूम के लिए एक दम सही थी. लैट्रीन के लिए एक अलग दरवाजा बना दिया गया.

दीदी बाथ रूम में थी और में लेट्रीन में घुस गया ताकि दीदी को नहाते देख सकू .. दीदी शायद कोई गीत गुनगुना रही थी. लैट्रीन में उसकी आवाज़ स्पष्ट आ रही थी.दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

बहुत आराम से उठ कर लकड़ी के पट्टो पर कान लगा कर ध्यान से सुन ने लगा. केवल चुड़ियो के खन-खनाने और गुन-गुनाने की आवाज़ सुनाई दे रही थी. फिर नल के खुलने पानी गिरने की आवाज़ सुनाई दी. मेरे अन्दर के शैतान ने मुझे एक आवाज़ दी, लकड़ी के पट्टो को ध्यान से देख. मैंने अपने अन्दर के शैतान की आवाज़ को अनसुना करने की कोशिश की, मगर शैतान हावी हो गया था. दीदी जैसी एक खूबसूरत औरत लकड़ी के पट्टो के उस पार नहाने जा रही थी. मेरा गला सुख गया और मेरे पैर कांपने लगे. अचानक ही पजामा एकदम से आगे की ओर उभर गया. दिमाग का काम अब लण्ड कर रहा था. मेरी आँखें लकड़ी के पट्टो के बीच ऊपर से निचे की तरफ घुमने लगी और अचानक मेरी मन की मुराद जैसे पूरी हो गई. लकड़ी के दो पट्टो के बीच थोड़ा सा गैप रह गया था. सबसे पहले तो मैंने धीरे से हाथ बढा का बाथरूम स्विच ऑफ किया फिर लकड़ी के पट्टो के गैप पर अपनी ऑंखें जमा दी. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

दीदी की पीठ लकड़ी की दिवार की तरफ थी. वो सफ़ेद पेटिको़ट और काले ब्लाउज में नल के सामने खड़ी थी. नल खोल कर अपने कंधो पर रखे तौलिये को अपना एक हाथ बढा कर नल की बगल वाली खूंटी पर टांग दिया. फिर अपने हाथों को पीछे ले जा कर अपने खुले रेशमी बालो को समेट कर जुड़ा बना दिया. बाथरूम के कोने में बने रैक से एक क्रीम की बोतल उठा कर उसमे से क्रीम निकाल-निकाल कर अपने चेहरे के आगे हाथ घुमाने लगी. पीछे से मुझे उनका चेहरा दिखाई नहीं दे रहा था मगर ऐसा लग रहा था की वो क्रीम निकाल कर अपने चेहरे पर ही लगा रही है. लकड़ी के पट्टो के गैप से मुझे उनके सर से चुत्तरों के थोड़ा निचे तक का भाग दिखाई पड़ रहा था. क्रीम लगाने के बाद अपने पेटिको़ट को घुटनों के पास से पकर कर थोड़ा सा ऊपर उठाया और फिर थोड़ा तिरछा हो कर निचे बैठ गई. इस समय मुझे केवल उनका पीठ और सर नज़र आ रहा थे. पर अचानक से सिटी जैसी आवाज़ जो की औरतो के पेशाब करने की एक विशिष्ट पहचान है वो सुनाई दी. दीदी इस समय शायद वही बाथरूम के कोने में पेशाब कर रही थी. मेरे बदन में सिहरन दौर गई. मैं कुछ देख तो सकता नहीं था मगर मेरे दिमाग ने बहुत सारी कल्पनाये कर डाली. पेशाब करने की आवाज़ सुन कर लण्ड ने झटका खाया. मगर अफ़सोस कुछ देख नहीं सकता था.

फिर थोड़ी देर में वो उठ कर खड़ी हो गई और अपने हाथो को कुहनी के पास से मोर कर अपनी छाती के पास कुछ करने लगी. मुझे लगा जैसे वो अपना ब्लाउज खोल रही है. मैं दम साधे ये सब देख रहा था. मेरा लण्ड इतने में ही एक दम खड़ा हो चूका था. दीदी ने अपना ब्लाउज खोल कर अपने कंधो से धीरे से निचे की तरफ सरकाते हुए उतार दिया. उनकी गोरी चिकनी पीठ मेरी आँखों के सामने थी. पीठ पर कंधो से ठीक थोड़ा सा निचे एक काले रंग का तिल था और उससे थोड़ा निचे उनकी काली ब्रा का स्ट्रैप बंधा हुआ था. इतनी सुन्दर पीठ मैंने शायद केवल फ़िल्मी है रोइनो की वो भी फिल्मो में ही देखी थी. वैसे तो मैंने दीदी की पीठ कई बार देखि थी मगर ये आज पहली बार था जब उनकी पूरी पीठ नंगी मेरी सामने थी, केवल एक ब्रा का स्ट्रैप बंधा हुआ था. गोरी पीठ पर काली ब्रा का स्ट्रैप एक कंट्रास्ट पैदा कर रहा था और पीठ को और भी ज्यादा सुन्दर बना रहा था. मैंने सोचा की शायद दीदी अब अपनी ब्रा खोलेंगी मगर उन्होंने ऐसा नहीं किया. अपने दोनों हाथो को बारी-बारी से उठा कर वो अपनी कांख को देखने लगी. एक हाथ को उठा कर दुसरे हाथ से अपनी कांख को छू कर शायद अपने कांख के बालो की लम्बाई का अंदाज लगा रही थी. फिर वो थोड़ा सा घूम गई सामने लगे आईने में अपने आप को देखने लगी. अब दीदी का मुंह बाथरूम में रखे रैक और उसकी बगल में लगे आईने की तरफ था. मैंने सोच रहा था काश वो पूरा मेरी तरफ घूम जाती मगर ऐसा नहीं हुआ. उनकी दाहिनी साइड मुझे पूरी तरह से नज़र आ रही थी. उनका दाहिना हाथ और पैर जो की पेटिको़ट के अन्दर था पेट और ब्रा में कैद एक चूची, उनका चेहरा भी अब चूँकि साइड से नज़र आ रहा था इसलिए मैंने देखा की मेरा सोचना ठीक था और उन्होंने एक पीले रंग का फेसमास्क लगाया हुआ था. अपने सुन्दर मुखरे को और ज्यादा चमकाने के लिए. अब दीदी ने रैक से एक दूसरी क्रीम की बोतल अपने बाएं हाथ से उतार ली और उसमे से बहुत सारा क्रीम अपनी बाई हथेली में लेकर अपने दाहिने हाथ को ऊपर उठा दिया. दीदी की नंगी गोरी मांसल बांह अपने आप में उत्तेजना का शबब थी और अब तो हाथ ऊपर उठ जाने के कारण दीदी की कांख दिखाई दे रही थी. कांख के साथ दीदी की ब्रा में कैद दाहिनी चूची भी दिख रही थी. ब्रा चुकी नोर्मल सा था इसलिए उसने पूरी चूची को अपने अन्दर कैद किया हुआ था इसलिए मुझे कुछ खास नहीं दिखा, मगर उनकी कांख कर पूरा नज़ारा मुझे मिल रहा था. दीदी की कांख में काले-काले बालों का गुच्छा सा उगा हुआ था. शायद दीदी ने काफी दिनों से अपने कांख के बाल नहीं बनाये थे. वैसे तो मुझे औरतो के चिकने कांख ही अच्छे लगते है पर आज पाता नहीं क्या बात थी मुझे दीदी के बालों वाले कांख भी बहुत सेक्सी लग रहे थे. मैं सोच रहा था इतने सारे बाल होने के कारण दीदी की कांख में बहुत सारा पसीना आता होगा और उसकी गंध भी उन्ही बालों में कैद हो कर रह जाती होगी. दीदी के पसीने से भीगे बदन को कई बार मैंने रसोई में देखा था. उस समय उनके बदन से आती गंध बहुत कामोउत्तेजक होती थी और मुझे हवा तैरते उसके बदन के गंध को सूंघना बहुत अच्छा लगता था. ये सब सोचते सोचते मेरा मन किया की काश मैं उसकी कांख में एक बार अपने मुंह को ले जा पाता और अपनी जीभ से एक बार उसको चाटता. मैंने अपने लण्ड पर हाथ फेरा तो देखा की सुपाड़े पर हल्का सा गीलापन आ गया है. तभी दीदी ने अपने बाएं हाथ की क्रीम को अपनी दाहिने हाथ की कांख में लगा दिया और फिर अपने वैसे ही अपनी बाई कांख में भी दाहिने हाथ से क्रीम लगा दिया. शायद दीदी को अपने कान्खो में बाल पसंद नहीं थे.

कान्खो में है यर रिमूविंग क्रीम लगा लेने के बाद दीदी फिर से नल की तरफ घूम गई और अपने हाथ को पीछे ले जाकर अपनी ब्रा का स्ट्रैप खोल दिया और अपने कंधो से सरका कर बहार निकाल फर्श पर दाल दिया और जल्दी से निचे बैठ गई. अब मुझे केवल उनका सर और थोड़ा सा गर्दन के निचे का भाग नज़र आ रहा था. अपनी किस्मत पर बहुत गुस्सा आया. काश दीदी सामने घूम कर ब्रा खोलती या फिर जब वो साइड से घूमी हुई थी तभी अपनी ब्रा खोल देती मगर ऐसा नहीं हुआ था और अब वो निचे बैठ कर शायद अपनी ब्लाउज और ब्रा और दुसरे कपड़े साफ़ कर रही थी. मैंने पहले सोचा की निकल जाना चाहिए, मगर फिर सोचा की नहाएगी तो खड़ी तो होगी ही, ऐसे कैसे नहा लेगी. इसलिए चुप-चाप यही लैट्रिन में ही रहने में भलाई है. मेरा धैर्य रंग लाया थोड़ी देर बाद दीदी उठ कर खड़ी हो गई और उसने पेटीकोट को घुटनों के पास से पकड़ कर जांघो तक ऊपर उठा दिया. मेरा कलेजा एक दम धक् से रह गया. दीदी ने अपना पेटिकोट पीछे से पूरा ऊपर उठा दिया था. इस समय उनकी जांघे पीछे से पूरी तरह से नंगी हो गई थी. मुझे औरतो और लड़कियों की जांघे सबसे ज्यादा पसंद आती है. मोटी और गदराई जांघे जो की शारीरिक अनुपात में हो, ऐसी जांघे. पेटीकोट के उठते ही मेरे सामने ठीक वैसी ही जांघे थी जिनकी कल्पना कर मैं मुठ मारा करता था. एकदम चिकनी और मांसल. जिन पर हलके हलके दांत गरा कर काटते हुए जीभ से चाटा जाये तो ऐसा अनोखा मजा आएगा की बयान नहीं किया जा सकता. दीदी की जांघे मांसल होने के साथ सख्त और गठी हुई थी उनमे कही से भी थुलथुलापन नहीं था. इस समय दीदी की जांघे केले के पेड़ के चिकने तने की समान दिख रही थी. मैंने सोचा की जब हम केले पेड़ के तने को अगर काटते है या फिर उसमे कुछ घुसाते है तो एक प्रकार का रंगहीन तरल पदार्थ निकलता है शायद दीदी के जांघो को चूसने और चाटने पर भी वैसा ही रस निकलेगा. मेरे मुंह में पानी आ गया. लण्ड के सुपाड़े पर भी पानी आ गया था. सुपाड़े को लकड़ी के पट्टे पर हल्का सा सटा कर उस पानी को पोछ दिया और पैंटी में कसी हुई दीदी के चुत्तरों को ध्यान से देखने लगा. दीदी का हाथ इस समय अपनी कमर के पास था और उन्होंने अपने अंगूठे को पैंटी के इलास्टिक में फसा रखा था. मैं दम साधे इस बात का इन्तेज़ार कर रहा था की कब दीदी अपनी पैंटी को निचे की तरफ सरकाती है. पेटीकोट कमर के पास जहा से पैंटी की इलास्टिक शुरू होती है वही पर हाथो के सहारे रुका हुआ था. दीदी ने अपनी पैंटी को निचे सरकाना शुरू किया और उसी के साथ ही पेटीकोट भी निचे की तरफ सरकता चला गया. ये सब इतनी तेजी से हुआ की दीदी के चुत्तर देखने की हसरत दिल में ही रह गई. दीदी ने अपनी पैंटी निचे सरकाई और उसी साथ पेटीकोट भी निचे आ कर उनके चुत्तरों और जांघो को ढकता चला गया. अपनी पैंटी उतार उसको ध्यान से देखने लगी पता नहीं क्या देख रही थी. छोटी सी पैंटी थी, पता नहीं कैसे उसमे दीदी के इतने बड़े चुत्तर समाते है. मगर शायद यह प्रश्न करने का हक मुझे नहीं था क्यों की अभी एक क्षण पहले मेरी आँखों के सामने ये छोटी सी पैंटी दीदी के विशाल और मांसल चुत्तरों पर अटकी हुई थी. कुछ देर तक उसको देखने के बाद वो फिर से निचे बैठ गई और अपनी पैंटी साफ़ करने लगी. फिर थोड़ी देर बाद ऊपर उठी और अपने पेटीकोट के नाड़े को खोल दिया. मैंने दिल थाम कर इस नज़ारे का इन्तेज़ार कर रहा था. कब दीदी अपने पेटीकोट को खोलेंगी और अब वो क्षण आ गया था. लौड़े को एक झटका लगा और दीदी के पेटीकोट खोलने का स्वागत एक बार ऊपर-निचे होकर किया. मैंने लण्ड को अपने हाथ से पकर दिलासा दिया. नाड़ा खोल दीदी ने आराम से अपने पेटीकोट को निचे की तरफ धकेला पेटीकोट सरकता हुआ धीरे-धीरे पहले उसके तरबूजे जैसे चुत्तरो से निचे उतरा फिर जांघो और पैर से सरक निचे गिर गया. दीदी वैसे ही खड़ी रही. इस क्षण मुझे लग रहा था जैसे मेरा लण्ड पानी फेंक देगा. मुझे समझ में नहीं आ रहा था मैं क्या करू. मैंने आज तक जितनी भी फिल्में और तस्वीरे देखी थी नंगी लड़कियों की वो सब उस क्षण में मेरी नजरो के सामने गुजर गई और मुझे यह अहसास दिला गई की मैंने आज तक ऐसा नज़ारा कभी नहीं देखा. वो तस्वीरें वो लड़कियाँ सब बेकार थी. उफ़ दीदी पूरी तरह से नंगी हो गई थी. हालाँकि मुझे केवल उनके पिछले भाग का नज़ारा मिल रहा था, फिर भी मेरी हालत ख़राब करने के लिए इतना ही काफी था. गोरी चिकनी पीठ जिस पर हाथ डालो तो सीधा फिसल का चुत्तर पर ही रुकेंगी. पीठ के ऊपर काला तिल, दिल कर रहा था आगे बढ़ कर उसे चूम लू. रीढ़ की हड्डियों की लाइन पर अपने तपते होंठ रख कर चूमता चला जाऊ. पीठ पीठ इतनी चिकनी और दूध की धुली लग रही थी की नज़र टिकाना भी मुश्किल लग रहा था. तभी तो मेरी नज़र फिसलती हुई दीदी के चुत्तरो पर आ कर टिक गई. ओह, मैंने आज तक ऐसा नहीं देखा था. गोरी चिकनी चुत्तर. गुदाज और मांसल. मांसल चुत्तरों के मांस को हाथ में पकर दबाने के लिए मेरे हाथ मचलने लगे. दीदी के चुत्तर एकदम गोरे और काफी विशाल थे. उनके शारीरिक अनुपात में, पतली कमर के ठीक निचे मोटे मांसल चुत्तर थे. उन दो मोटे मोटे चुत्तरों के बीच ऊपर से निचे तक एक मोटी लकीर सी बनी हुई थी. ये लकीर बता रही थी की जब दीदी के दोनों चुत्तरों को अलग किया जायेगा तब उनकी गांड देखने को मिल सकती है या फिर यदि दीदी कमर के पास से निचे की तरफ झुकती है तो चुत्तरों के फैलने के कारण गांड के सौंदर्य का अनुभव किया जा सकता है. तभी मैंने देखा की दीदी अपने दोनों हाथो को अपनी जांघो के पास ले गई फिर अपनी जांघो को थोड़ा सा फैलाया और अपनी गर्दन निचे झुका कर अपनी जांघो के बीच देखने लगी शायद वो अपनी चूत देख रही थी. मुझे लगा की शायद दीदी की चूत के ऊपर भी उसकी कान्खो की तरह से बालों का घना जंगल होगा और जरुर वो उसे ही देख रही होंगी. मेरा अनुमान सही था और दीदी ने अपने हाथ को बढा कर रैक पर से फिर वही क्रीम वाली बोतल उतार ली और अपने हाथो से अपने जांघो के बीच क्रीम लगाने लगी. पीछे से दीदी को क्रीम लगाते हुए देख कर ऐसा लग रहा था जैसे वो मुठ मार रही है. क्रीम लगाने के बाद वो फिर से निचे बैठ गई और अपने पेटीकोट और पैंटी को साफ़ करने लगी. मैंने अपने लौड़े को आश्वाशन दिया की घबराओ नहीं कपरे साफ़ होने के बाद और भी कुछ देखने को मिल सकता है. ज्यादा नहीं तो फिर से दीदी के नंगे चुत्तर, पीठ और जांघो को देख कर पानी गिरा लेंगे. करीब पांच-सात मिनट के बाद वो फिर से खड़ी हो गई. लौड़े में फिर से जान आ गई. दीदी इस समय अपनी कमर पर हाथ रख कर खड़ी थी. फिर उसने अपने चुत्तर को खुजाया और सहलाया फिर अपने दोनों हाथों को बारी बारी से उठा कर अपनी कान्खो को देखा और फिर अपने जांघो के बीच झाँकने के बाद फर्श पर परे हुए कपड़ो को उठाया. यही वो क्षण था जिसका मैं काफी देर से इन्तेज़ार कर रहा था. फर्श पर पड़े हुए कपड़ो को उठाने के लिए दीदी निचे झुकी और उनके चुत्तर लकड़ी के पट्टो के बीच बने गैप के सामने आ गए. निचे झुकने के कारण उनके दोनों चुत्तर अपने आप अलग हो गए और उनके बीच की मोटी लकीर अब दीदी की गहरी गांड में बदल गई. दोनों चुत्तर बहुत ज्यादा अलग नहीं हुए थे मगर फिर भी इतने अलग तो हो चुके थे की उनके बीच की गहरी खाई नज़र आने लगी थी. देखने से ऐसा लग रहा था जैसे किसी बड़े खरबूजे को बीच से काट कर थोड़ा सा अलग करके दो खम्भों के ऊपर टिका कर रख दिया गया है. दीदी वैसे ही झुके हुए बाल्टी में कपड़ो को डाल कर खंगाल रही थी और बाहर निकाल कर उनका पानी निचोड़ रही थी. ताकत लगाने के कारण दीदी के चुत्तर और फ़ैल गए और गोरी चुत्तरों के बीच की गहरी भूरे रंग की गांड की खाई पूरी तरह से नज़र आने लगी. दीदी की गांड की खाई एक दम चिकनी थी. गांड के छेद के आस-पास भी बाल उग जाते है मगर दीदी के मामले में ऐसा नहीं था उसकी गांड, जैसा की उसका बदन था, की तरह ही मलाई के जैसी चिकनी लग रही थी. झुकने के कारण चुत्तरों के सबसे निचले भाग से जांघो के बीच से दीदी की चूत के बाल भी नजर आ रहे थे. उनके ऊपर लगा हुआ सफ़ेद क्रीम भी नज़र आ रहा था. चुत्तरो की खाई में काफी निचे जाकर जहा चूत के बाल थे उनसे थोड़ा सा ऊपर दीदी की गांड की सिकुरी हुई भूरे रंग की छेद थी. ऊँगली के अगले सिरे भर की बराबर की छेद थी. किसी फूल की तरह से नज़र आ रही थी. दीदी के एक दो बार हिलने पर वो छेद हल्का सा हिला और एक दो बार थोड़ा सा फुला-पिचका. ऐसा क्यों हुआ मेरी समझ में नहीं आया मगर इस समय मेरा दिल कर रहा था की मैं अपनी ऊँगली को दीदी की गांड की खाई में रख कर धीरे-धीरे चलाऊ और उसके भूरे रंग की दुप-दुपाती छेद पर अपनी ऊँगली रख हलके-हलके दबाब दाल कर गांड की छेद की मालिश करू. उफ़ कितना मजा आएगा अगर एक हाथ से चुत्तर को मसलते हुए दुसरे हाथ की ऊँगली को गांड की छेद पर डाल कर हलके-हलके कभी थोड़ा सा अन्दर कभी थोड़ा सा बाहर कर चलाया जाये तो. पूरी ऊँगली दीदी की गांड में डालने से उन्हें दर्द हो सकता था इसलिए पूरी ऊँगली की जगह आधी ऊँगली या फिर उस से भी कम डाल कर धीरे धीरे गोल-गोल घुमाते हुए अन्दर-बाहर करते हुए गांड की फूल जैसी छेद ऊँगली से हलके-हलके मालिश करने में बहुत मजा आएगा. इस कल्पना से ही मेरा पूरा बदन सिहर गया. दीदी की गांड इस समय इतनी खूबसूरत लग रही थी की दिल कर रहा थी अपने मुंह को उसके चुत्तरों के बीच घुसा दू और उसकी इस भूरे रंग की सिकुरी हुई गांड की छेद को अपने मुंह में भर कर उसके ऊपर अपना जीभ चलाते हुए उसके अन्दर अपनी जीभ डाल दू. उसके चुत्तरो को दांत से हलके हलके काट कर खाऊ और पूरी गांड की खाई में जीभ चलाते हुए उसकी गांड चाटू. पर ऐसा संभव नहीं था. मैं इतना उत्तेजित हो चूका था की लण्ड किसी भी समय पानी फेंक सकता था. लौड़ा अपनी पूरी औकात पर आ चूका था और अब दर्द करने लगा था. अपने अंडकोष को अपने हाथो से सहलाते हुए हलके से सुपाड़े को दो उँगलियों के बीच दबा कर अपने आप को सान्तवना दिया.इस समय में रोशनी को बिलकुल भुला हुआ था।

सारे कपड़े अब खंगाले जा चुके थे. दीदी सीधी खड़ी हो गई और अपने दोनों हाथो को उठा कर उसने एक अंगराई ली और अपनी कमर को सीधा किया फिर दाहिनी तरफ घूम गई. मेरी किस्मत शायद आज बहुत अच्छी थी. दाहिनी तरफ घूमते ही उसकी दाहिनी चूची जो की अब नंगी थी मेरी लालची आँखों के सामने आ गई. उफ़ अभी अगर मैं अपने लण्ड को केवल अपने हाथ से छू भर देता तो मेरा पानी निकल जाता. चूची का एक ही साइड दिख रहा था. दीदी की चूची एक दम ठस सीना तान के खड़ी थी. ब्लाउज के ऊपर से देखने पर मुझे लगता तो था की उनकी चूचियां सख्त होंगी मगर साल की होने के बाद भी उनकी चुचियों में कोई ढलकाव नहीं आया था. इसका एक कारण ये भी हो सकता था की उनको अभी तक कोई बच्चा नहीं हुआ था. दीदी को शायद ब्रा की कोई जरुरत ही नहीं थी. उनकी चुचियों की कठोरता किसी भी 17-18 साल की लौंडिया के दिल में जलन पैदा कर सकती थी. जलन तो मेरे दिल में भी हो रही थी इतनी अच्छी चुचियों मेरी किस्मत में क्यों नहीं है. चूची एकदम दूध के जैसी गोरे रंग की थी. चूची का आकार ऐसा था जैसे किसी मध्यम आकार के कटोरे को उलट कर दीदी की छाती से चिपका दिया गया हो और फिर उसके ऊपर किशमिश के एक बड़े से दाने को डाल दिया गया हो. मध्यम आकार के कटोरे से मेरा मतलब है की अगर दीदी की चूची को मुट्ठी में पकड़ा जाये तो उसका आधा भाग मुट्ठी से बाहर ही रहेगा. चूची का रंग चूँकि हद से ज्यादा गोरा था इसलिए हरी हरी नसे उस पर साफ़ दिखाई पर रही थी, जो की चूची की सुन्दरता को और बढा रही थी. साइड से देखने के कारण चूची के निप्पल वन-डायेमेन्शन में नज़र आ रहे थे. सामने से देखने पर ही थ्री-डायेमेन्शन में नज़र आ सकते थे. तभी उनकी लम्बाई, चौड़ाई और मोटाई का सही मायेने में अंदाज लगाया जा सकता था मगर क्या कर सकता था मजबूरी थी मैं साइड व्यू से ही काम चला रहा था. निप्पलों का रंग गुलाबी था, पर हल्का भूरापन लिए हुए था. बहुत ज्यादा बड़ा तो नहीं था मगर एक दम छोटा भी नहीं था किशमिश से बड़ा और चॉकलेट से थोड़ा सा छोटा. मतलब मुंह में जाने के बाद चॉकलेट और किशमिश दोनों का मजा देने वाला. दोनों होंठो के बीच दबा कर हलके-हलके दबा-दबा कर दांत से काटते हुए अगर चूसा जाये तो बिना चोदे झर जाने की पूरी सम्भावना थी दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | दाहिनी तरफ घूम कर आईने में अपने दाहिने हाथ को उठा कर देखा फिर बाएं हाथ को उठा कर देखा. फिर अपनी गर्दन को झुका कर अपनी जांघो के बीच देखा. फिर वापस नल की तरफ घूम गई और खंगाले हुए कपरों को वही नल के पास बनी एक खूंटी पर टांग दिया और फिर नल खोल कर बाल्टी में पानी भरने लगी. मैं समझ गया की दीदी अब शायद नहाना शुरू करेंगी. मैंने पूरी सावधानी के साथ अपनी आँखों को लकड़ी के पट्टो के गैप में लगा दिया. मग में पानी भर कर दीदी थोड़ा सा झुक गई और पानी से पहले अपने बाएं हाथ फिर दाहिनी हाथ के कान्खो को धोया. पीछे से मुझे कुछ दिखाई नहीं पर रहा था मगर. दीदी ने पानी से अच्छी तरह से धोने के बाद कान्खो को अपने हाथो से छू कर देखा. मुझे लगा की वो है यर रेमोविंग क्रीम के काम से संतुष्ट हो गई और उन्होंने अपना ध्यान अब अपनी जांघो के बीच लगा दिया. दाहिने हाथ से पानी डालते हुए अपने बाएं हाथ को अपनी जांघो बीच ले जाकर धोने लगी. हाथों को धीरे धीरे चलाते हुए जांघो के बीच के बालों को धो रही थी. मैं सोच रहा था की काश इस समय वो मेरी तरफ घूम कर ये सब कर रही होती तो कितना मजा आता. झांटों के साफ़ होने के बाद कितनी चिकनी लग रही होगी दीदी की चुत ये सोच का बदन में झन-झनाहट होने लगी. पानी से अपने जन्घो के बीच साफ़ कर लेने के बाद दीदी ने अब नहाना शुरू कर दिया. अपने कंधो के ऊपर पानी डालते हुए पुरे बदन को भीगा दिया. बालों के जुड़े को खोल कर उनको गीला कर शैंपू लगाने लगी. दीदी का बदन भीग जाने के बाद और भी खूबसूरत और मदमस्त लगने लगा था.


The post मेरी बीवी की चुदाई का बदला-1 appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




मेरी बीवी की चुदाई का बदला-1

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks