All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-1


प्रेषक : राजेश


मैं राजेश और मेरी पत्नी रानी मुम्बई शहर के ठाणे में रहते हैं। ये कहानी करीब आज से छः महीने पहले शुरू हुई जब हमारे बगल के फ्लैट में नये पड़ोसी रहने के लिये आये। हमारे नये पड़ोसी मिस्टर विक्रम एक कंसल्टेंट हैं, और उनकी पत्नी रोशनी एक घरेलू महिला थी। वैसे तो मुम्बई इतना व्यस्त शहर है कि यहाँ किसी को किसी के लिये फुर्सत ही नहीं है। नये पड़ोसी होने के नाते हमारी जान पहचान बढ़ी और हम दो परिवार काफी घुल मिल गये थे। मैं और मेरी पत्नी रानी के विचार एक समान थे। हम दोनों खुले सैक्स में विश्वास रखते थे। शादी के पहले ही हम दोनों सैक्स का मज़ा ले चुके थे। हम दोनों अपनी पूरानी सैक्स घटनाओं के बारे में अक्सर एक दूसरे को बताते रहते थे। चुदाई के किस्से सुनाते या सुनते वक्त रानी इतनी उत्तेजित हो जाती की उसकी चूत की प्यास मिटाना कभी मुश्किल हो जाता था। मैंने और रानी ने इस शनिवार को विक्रम और रोशनी को अपने यहाँ खाने की दावत दी। दोनों राज़ी हो गये। विक्रम एक शानदार व्यक्तित्व का मालिक था, ६’२ ऊँचाई और कसरती बदन। रोशनी भी काफी सुंदर थी, गोल चेहरा, लंबी टाँगें और खास तौर पर उसकी नीली आँखें। पता नहीं उसकी आँखों में क्या आकर्षण था कि जी करता हर वक्त उसकी आँखों में इंसान झाँकता रहे।


शनिवार की शाम ठीक सात बजे विक्रम और रोशनी हमारे घर पहुँचे। विक्रम ने शॉट्‌र्स और टी-शर्ट पहन रखी थी, जिससे उसका कसरती बदन साफ़ झलक रहा था। रोशनी ने कॉटन का टॉप और जींस पहन रखी थी। उसके कॉटन के टॉप से झलकते उसके निप्पल साफ़ बता रहे थे की उसने ब्रा नहीं पहन रखी है। उसकी काली जींस भी इतनी टाईट थी की उसके चूत्तड़ों की गोलाइयाँ किसी को भी दीवाना कर सकती थी। उसके काले रंग के ऊँची हील के सैंडल उसकी लंबी टाँगों को और भी सैक्सी बना रहे थे। उसे इस सैक्सी पोज़ में देख मेरे लंड में सरसराहट होने लग गयी थी।


मैंने देखा की रानी विक्रम की और आकर्षित हो रही है। वो अपने अधखुले ब्लाऊज़ से विक्रम को अपनी चूचियों के दर्शन करा रही थी। आज रानी अपनी टाईट जींस और लो-कुट टॉप में कुछ ज्यादा ही सुंदर दिख रही थी। वहीं रोशनी भी मेरे साथ ऐसे बरताव कर रही थी जैसे हम कई बरसों पुराने दोस्त हों।


हम चारों आपस में ऐसे बात कर रहे थे कि कोई देख के कह नहीं सकता था कि हमारी जान पहचान चंद दिनों पूरानी है। पहले शराब का दौर चला और फिर खाना खाने के बाद हम सब ड्राईंग रूम में बैठे थे। अभी आप लोग मस्तराम डॉट नेट पढ़ रहे है |


मैंने स्टीरियो पर एक री-मिक्स की कैसेट लगा दी। रोशनी ने खड़ी हो कर विक्रम को डाँस करने के लिये कहा, किंतु उसने उसे मना कर दिया। शायद उसे नशा हो गया था, मगर उसने रोशनी को मेरे साथ डाँस करने को कहा। रोशनी ने मुझे खींच कर खड़ा कर दिया।


हम दोनों गाने की धुन पर एक दूसरे के साथ नाच रहे थे। रोशनी ने अपने दोनों हाथ मेरी गर्दन पर रख हुए थे और मुझसे सटते हुए नाच रही थी। उसके बदन की गर्मी मुझे मदहोश कर रही थी। मैंने भी अपने दोनों हाथ उसकी कमर पे रख उसे अपने और करीब खींच लिया। hindi sex kahaniya (www.mastaram (1)


उसके बदन की गर्माहट और बदन से उठती खुशबू ने मुझे मजबूर कर दिया और मैंने कसके उसे अपनी छाती से चिपका लिया। मेरा लंड उसकी चूत पे ठोकर मार रहा था। तभी मुझे खयाल आया कि मेरी बीवी और उसका पति भी इसी कमरे में हैं। मैंने गर्दन घुमा के देखा तो पाया की रानी विक्रम को खींच कर डाँस के लिये खड़ा कर चुकी है। शायद मेरी बीवी की सुंदरता और खुलेपन ने विक्रम को डाँस करने पे मजबूर कर दिया था, इसलिए वो रानी को मना नहीं कर पाया। दोनों एक दूसरे को बांहों में ले हमारे पास ही डाँस कर रहे थे। नाचते-नाचते रानी ने लाईट धीमी कर दी। कमरे में बहुत ही हल्की रोशनी थी। हम चारों कामुक्ता की आग में जल रहे थे।रोशनी मुझसे और चिपकती हुई मेरे कान में बोली, “अच्छा है थोड़ा अंधेरा हो गया।”मैंने उसे और कस के अपनी बांहों में ले अपने होंठ उसके होंठों पे रख दिए। उसने भी सहयोग देते हुए अपना मुँह खोल दिया और जीभ मेरे मुँह में डाल दी। हम दोनों एक दूसरे की जीभ चुभलाने लगे।मेरे दोनों हाथ अब उसके चूत्तड़ों को सहला रहे थे। रोशनी के हाथ मेरी पीठ पर थे और वो कामुक हो मेरी पीठ को कस के भींच लेती थी। मेरा लंड पूरा तन कर उसकी चूत को जींस के ऊपर से ही रगड़ रहा था। अच्छा था कि वो हाई हील की सैंडल पहनी हुई थी जिससे की उसकी चूत बिल्कुल मेरे लंड के स्तर तक आ रही थी। रोशनी ने अपने आप को मुझे सोंप दिया था। मैंने पीछे से अपने दोनों हाथ उसकी जींस में डाल दिए और पाया की उसने पैंटी नहीं पहनी हुई है। मेरे हाथ अब उसके मुलायम चूत्तड़ों को जोर से भींच रहे थे, वो भी उत्तेजित हो अपनी चूत मेरे लंड पे रगड़ रही थी।


मेरी बीवी रानी का खयाल आते ही मैंने गर्दन घुमा के देखा तो चौंक पड़ा। दोनों एक दूसरे से चिपके हुए गाने की धुन पर डाँस कर रहे थे। विक्रम के हाथ रानी के शरीर पर रेंग रहे थे। रानी भी उसे अपने बांहों में भर उसके होंठों को चूस रही थी।


मैं रोशनी को बांहों में ले इस पोज़िशन में डाँस करने लगा कि मुझे रानी और विक्रम साफ़ दिखायी पड़ें। चार साढ़े-चार इंच की हाई हील की सैंडल पहने होने के बावजूद रानी विक्रम के कंधे तक मुश्किल से ही पहुँच पा रही थी। विक्रम का एक हाथ रानी की चूचियों को सहला रहा था और दूसरा हाथ दूसरी चूँची को सहलाते हुए नीचे की और बढ़ रहा था, और नीचे जाते हुए अब वो उसकी चूत को उसकी टाईट जींस के ऊपर से सहला रहा था।


मुझे हैरानी इस बात की थी कि उसे रोकने कि बजाय रानी विक्रम को सहयोग दे रही थी। उसने अपनी टाँगें थोड़ी फैला दी जिससे विक्रम के हाथों को और आसानी हो। पर मैं कौन होता हूँ शिकायत करने वाला। मैं खुद उसकी बीवी को बांहों में भरे हुए उसे चोदने के मूड में था।


मेरे भी हाथ रोशनी के चूत्तड़ों को सहला रहे थे। रोशनी उत्तेजना में मुझे चूमे जा रही थी। तभी मैंने देखा कि विक्रम ने अपना एक हाथ रानी के टॉप में डाल कर उसके मम्मों पे रख दिया था। जब उसने रानी की तरफ़ से कोई प्रतिक्रिया नहीं देखी तो उसने हाथ पीठ की और ले जाकर उसकी ब्रा के हुक खोल दिए। मुझे उस पारदर्शी टॉप से साफ दिखायी दे रहा था कि विक्रम के हाथ अब रानी के मम्मों को सहला रहे थे।


माहोल में जब चुदाई का आलम फ़ैलता है तो सब पीछे रह जाता है। मैंने भी आगे बढ़ कर रोशनी के चूत्तड़ से हाथ निकाल उसकी जींस के बटन खोल जींस उतार दी। पैंटी तो उसने पहनी ही नहीं थी।


“मैं सोच रही थी कि तुम्हें इतनी देर क्यों लग रही है।” रोशनी अपने सैंडल युक्त पैरों से अपनी जींस को अलग करती हुए बोली। “प्लीज़ मुझे प्यार करो ना!”


मैंने अपना हाथ बढ़ा कर उसकी चूत पे रख दिया। हाथ रखते ही मैंने पाया कि उसकी चूत एक दम सफ़ाचट थी। उसने अपनी चूत के बाल एक दम शेव किए हुए थे। बिना झाँटों की एक दम नयी चूत मेरे सामने थी। मैंने अपने हाथ का दबाव बढ़ा दिया और उसकी चूत को जोर से रगड़ने लगा। मैंने अपनी एक अँगुली उसकी चूत के मुहाने पर घुमायी तो पाया कि उसकी चूत गीली हो चुकी थी।


“तुम अपनी अँगुली मेरी चूत में क्यों नहीं डालते, जिस तरह मेरे पति ने अपनी अँगुली तुम्हारी बीवी की चूत में डाली हुई है।” उसने कहा तो मैंने घूम कर देखा और पाया कि विक्रम का एक हाथ मेरी बीवी की चूचियों को मसल रहा है और दूसरा हाथ उसकी खुली जींस से उसकी चूत पे था। उसके हाथ वहाँ क्या कर रहे थे मुझे समझते देर नहीं लगी।


अचानक मेरी बीवी रानी ने अपनी आँखें खोली और मेरी तरफ़ देखा। वो एक अनजान आदमी के हाथों को अपनी चूत पे महसूस कर रही थी और मैं एक परायी औरत की चूत में अँगुली कर रहा था। वो मेरी तरफ़ देख कर मुस्कुरायी और मैं समझ गया कि आज की रात हम दोनों के ख्वाब पूरे होने वाले हैं। रानी मुस्कुराते हुए अपनी जींस और पैंटी पूरी उतार कर नंगी हो गयी।


जैसे ही उसने अपनी जींस और पैंटी उतारी, उसने विक्रम के कान में कुछ कहा। विक्रम ने उसकी ब्रा और टॉप भी उतार दिए। अब वो एक दम नंगी उसकी बांहों में थी। विक्रम  के हाथ अब उसके नंगे बदन पर रेंग रहे थे।


“लगता है हम उनसे पीछे रह गये।” कहकर रोशनी ने मुझसे अलग होते हुए अपना टॉप उतार दिया। जैसे हम किसी प्रतिस्पर्धा में हों। रोशनी अब बिल्कुल नंगी हो गयी, उसने सिर्फ पैरों में हाई-हील के सैंडल पहने हुए थे।


“लगता है कि हमें उनसे आगे बढ़ना चाहिए,” कहकर रोशनी ने मेरी जींस के बटन खोल मेरे लंड को अपने हाथों में ले लिया। रोशनी मेरे लंड को सहला रही थी और मेरा लंड उसके हाथों की गर्माहट से तनता जा रहा था। रोशनी एक अनुभवी चुदक्कड़ औरत की तरह मेरे लंड से खेल रही थी।


मैं भी अपनी जींस और अंडरवियर से बाहर निकल नंगा रोशनी के सामने खड़ा था। रोशनी ने मेरे लंड को अपने हाथों में लिया, जो तन कर सढ़े आठ इंच का हो गया था। “बहुत मोटा और लंबा है” कहकर रोशनी लंड को दबाने लगी।अभी आप लोग मस्तराम डॉट नेट पढ़ रहे है |


मैंने घूम कर देखा तो पाया कि मेरी बीवी मुझसे आगे ही थी। रानी विक्रम के सामने घुटनों के बल बैठी उसके लंड को हाथों में पकड़े हुए थी। विक्रम का लंड लंबाई में मेरे ही साईज़ का था पर कुछ मुझसे ज्यादा मोटा था। रानी उसके लंड की पूरी लंबाई को सहलाते हुए उसके सुपाड़े को चाट रही थी।


मुझे पता था कि रानी की इस हर्कत का असर विक्रम पर बुरा पड़ने वाला है। रानी लंड चूसने में इतनी माहिर थी कि उसकी बराबरी कोई नहीं कर सकता था। उसका लंड चूसने का अंदाज़ ही अलग था। वो पहले लंड के सुपाड़े को अपने होठों में ले कर चूसती और फिर धीरे-धीरे लंड को अपने मुँह में भींचती हुई नीचे की और बढ़ती जिससे लंड उसके गले तक चला जाता। फिर अपनी जीभ से चाटते हुए लंड ऊपर की और उठाती। यही हर्कत जब वो तेजी से करती तो सामने वाले की हालत खराब हो जाती थी। इसी तरह से वो विक्रम के लंड को चूसे जा रही थी। जब वो उसके सुपाड़े को चूसती तो अपने थूक से सने हाथों से जोर-जोर से लंड को रगड़ती। मैं जानता था कि विक्रम अपने आपको ज्यादा देर तक नहीं रोक पायेगा।करीब दस मिनट तक रानी विक्रम के लंड की चूसाई करती रही। मैं और रोशनी भी दिलचस्पी से ये नज़ारा देख रहे थे। विक्रम ने अपने लंड को रानी के मुँह से बाहर निकाला और मेरे और रोशनी के पास आ खड़ा हो गया। रोशनी मेरे लंड को सहला रही थी और विक्रम अपने होंठ रोशनी के होंठों पे रख उन्हें चूमने लगा। रोशनी उससे अलग होते हुए बोली, “विक्रम! राजेश को बताओ न कि मुझे किस तरह की चुदाई पसंद है।”


फिर कामुक्ता का एक नया दौर शुरू हुआ। विक्रम अपनी बीवी रोशनी के पीछे आकर खड़ा हो गया और मुझे उसके सामने खड़ा कर दिया। फिर रोशनी के माथे पे आये बालों को हटाते हुए मुझसे बोला, “राजेश इसके होंठों को चूसो।”


मैंने एक आज्ञाकारी शिष्य की तरह आगे बढ़ कर अपने होंठ रोशनी के होठों पर रख दिए। रोशनी ने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी। हम दोनों एक दूसरे की जीभ को चूस रहे थे। “अब इसकी चूचियों को चूसो,” विक्रम ने कहा।


मैं नीचे झुक कर रोशनी की चूँची को हाथों में पकड़ कर उसका निप्पल अपने मुँह में ले चूसने लगा। उसकी चूचियाँ बहुत बड़ी और कसी हुई थी। गोल चूंची और काले सख्त निप्पल काफी मज़ा दे रहे थे।


“दूसरी को नज़र अंदाज़ मत करो” कहकर उसने रोशनी की दूसरी चूँची पकड़ मेरे मुँह के आगे कर दी। मैं अपने होंठ बढ़ा कर उसके दूसरे निप्पल को अपने मुँह मे ले चूसने लगा।


करीब पाँच मिनट तक मैं उसकी चूचियों को चूसता रहा, और मैंने पाया कि विक्रम के हाथ मेरे कंधों पे थे और मुझे नीचे की और दबा रहा था। मुझे इशारा मिल गया। कैसे एक पति दूसरे मर्द को अपनी बीवी से प्यार करना सिखा रहा था। मैंने नीचे बैठते हुए पहले उसकी नाभी को चूमा और फिर उसकी कमर को चूमते हुए अपने होंठ ठीक उसकी चूत के मुख पे रख दिए।


जब मैं उसकी चूत पे पहुँचा तो मैं दंग रह गया। विक्रम ने रोशनी के पीछे से अपने दोनों हाथों से उसकी चूत की पंखुड़ियाँ पकड़ के इस कदर फैला दी थीं, जिससे मुझे उसकी चूत को चाटने में आसानी हो। जैसे ही मैंने अपने जीभ उसकी चूत पे फ़िरायी, मैंने पाया कि मेरी बीवी रानी ठीक मेरे बगल में बैठी थी और उसकी निगाहें रोशनी की चूत पे टिकी हुई थी।


विक्रम को अच्छी तरह पता थी कि मर्द की कौन सी हर्कत उसकी बीवी की चूत में आग लगा सकती थी, “अब अपनी जीभ से इसकी चूत के चारों और चाटो”, उसने कहा।


आज मैं कई सालों के बाद किसी दूसरी औरत की चूत को चाट रहा था, वो भी जब कि मेरी बीवी छः इंच की दूरी पे बैठी मुझे निहार रही थी। मैंने अपना एक हाथ बढ़ा कर रानी की चूत पे रखा तो पाया कि उत्तेजना में उसकी चूत भी गीली हो चुकी थी। मैं अपनी दो अँगुलियाँ उसकी चूत में घुसा कर अंदर बाहर करने लगा। मैं रोशनी की चूत को चाटे जा रहा था और रानी मेरे लंड को पकड़ कर सहलाने लगी।


“अब इसकी चूत को नीचे से ऊपर तक चाटो और करते जाओ?” विक्रम ने रोशनी की चूत और फ़ैलाते हुए कहा। मैंने वैसे ही किया जैसा उसने करने को कहा। रोशनी की चूत से उठी मादक खुशबू मुझे और पागल किये जा रही थी।


“अब अपनी पूरी जीभ रोशनी की चूत में डाल दो?” विक्रम ने कहा। रोशनी ने भी अपनी टाँगें और फैला दी जिससे मुझे और आसानी हो सके। मैं अपनी जीभ उसकी चूत में घुसा कर उसे जोर से चोद रहा था। रोशनी की सिस्करियाँ शुरू हो चुकी थी, “हाँ राजेश… चूसो मेरी चूत को… निचोड़ लो मेरी चूत का सारा पानी, ओहहहहह हँआआआआआआँ!” विक्रम रोशनी के चूत को फ़ैलाये उसके पीछे खड़ा था। मैं और तेजी से उसकी चूत को चूसने लगा। इतने में रोशनी का शरीर अकड़ा और जैसे कोई नदी का बाँध खोल दिया गया हो, उस तरह से उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया। मेरा पूरा मुँह उसके रस से भर गया। रोशनी जमीन पे बैठ कर अपनी उखड़ी साँसों को संभालने लगी।


थोड़ी देर सुस्ताने के बाद उसने मेरे चेहरे को अपने नज़दीक कर मुझे चूम लिया, “राजेश अब मैं चुदवाने के लिये तैयार हूँ!” इतना कहकर रोशनी मेरा हाथ पकड़ मुझे सोफ़े के पास ले गयी।


रोशनी सोफ़े पे झुक कर घोड़ी बन गयी, और थोड़ा नीचे झुकते हुए उसने अपने गोरे चूत्तड़ ऊपर उठा दिए। उसकी गुलाबी और गीली चूत और उठ गयी थी। मैं अपने हाथ से उसके चूत्तड़ सहलाने लगा। फिर मैं अपना लंड उसकी चूत पर रख कर घिसने लगा। मैंने गर्दन घुमा कर देखा तो विक्रम और रानी मेरे बगल में खड़े एक दूसरे के नंगे बदन को सहला रहे थे, मगर उनकी आँखें मेरे लंड पे टिकी हुई थी। मैंने अपने लंड को धीरे से रोशनी की चूत में घुसा दिया।


रोशनी की चूत काफी गीली थी और एक बार वो झड़ भी चुकी थी, फिर भी मुझे उसकी चूत में लंड घुसाने में बहुत जोर लगाना पड़ रहा था। इतनी कसी चूत थी उसकी। मैंने एक जोर का धक्का मार अपना लंड उसकी चूत की जड़ तक डाल दिया और उसे चोदने लगा।


मैंने देखा कि विक्रम और रानी हमारे पास आ गये हैं। रानी ने ठीक रोशनी के बगल में सोफ़े पर लेट कर अपनी टाँगें फैला दी। उसकी चूत का मुँह और खुल गया था। उसकी गुलाबी चूत इतनी प्यारी थी और जैसे कह रही हो कि आओ मुझे चोदो। विक्रम उसकी टाँगों के बीच आकर अपना खड़ा लंड उसकी चूत पे घिसने लगा।


मैं रोशनी की चूत को पीछे से चोद रहा था इसलिए मुझे साफ और अच्छी तरह दिखायी दे रहा था कि विक्रम किस तरह अपना लंड रानी की चूत पे रगड़ रहा था। रोशनी ने अपना एक हाथ बढ़ा कर विक्रम के लंड को अपने हाथों में ले लिया और उसे रानी की चूत के मुँह पे रख दबाने लगी।


क्या नज़ारा था, एक औरत दूसरे मर्द से चुदवा रही थी और अपने पति का लंड उस मर्द की बीवी की चूत पे रगड़ उसे चोदने को कह रही थी। मैं उत्तेजना के मारे रोशनी के चूत्तड़ पकड़ कर कस-कस के धक्के लगा रहा था। रोशनी ने रानी की चूत अपने हाथों से और फैला दी और विक्रम के लंड को ठीक वहीं पे रख दिया। विक्रम ने इशारा समझ कर एक ही धक्के में अपना लंड पूरा पेल दिया। विक्रम मेरी बीवी रानी को जोर के धक्कों के साथ चोद रहा था और मैं उसकी बीवी रोशनी की चूत मे अपना लंड पेल रहा था। मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ायी तो रोशनी पीछे की और घूम कर बोली, “राजेश थोड़ा धीरे-धीरे चोदो और अपनी बीवी को देखो।” मैंने देखा कि रानी की टाँग मुड़ कर उसकी चूचियों पे थी और विक्रम धीमे धक्कों के साथ उसे चोद रहा था। उसका मोटा लंड वीर्य रस से लसा हुआ लाईट में चमक रहा था। इतने में रोशनी अपनी एक अँगुली रानी की चूत में डाल अंदर बाहर करने लगी। रोशनी की अँगुली और विक्रम का लंड एक साथ रानी की चूत में आ जा रहे थे। रानी भी पूरी उत्तेजना में अपने चूत्तड़ उछाल कर विक्रम के धक्कों का साथ दे रही थी।


इतनी जोरदार चुदाई देख मैंने भी अपने धक्कों में तेजी ला दी। रोशनी भी अपने चूत्तड़ पीछे की और धकेल कर ताल से ताल मिला रही थी। मैंने अपनी एक अँगुली रोशनी की चूत में डाल कर गीली की और फिर उसकी गाँड के छेद पे घुमा कर धीरे से अंदर डाल दी। रोशनी सिसक पड़ी, “ओहहहहह राजेश क्याआआआआ कर रहे हो?” मैंने उसकी बात पे ध्यान नहीं दिया और उसे जोर से चोदते हुए अपनी अँगुली उसकी गाँड के अंदर बाहर करने लगा। अब उसे भी मज़ा आने लगा था। वहीं पर विक्रम भी जम कर रानी की चुदाई कर रहा था। मैंने रोशनी के शरीर को अकड़ता पाया, और उसने मेरे लंड को अपनी चूत की गिरफ़्त में ले लिया। मैं जोर-जोर के धक्के लगा रहा था, मेरा भी पानी छूटने वाला था। मैंने दो चार धक्के मारे और मेरे लंड ने रोशनी की चूत में बौंछार कर दी, साथ ही रोशनी की चूत ने भी अपना पानी छोड़ दिया। अभी आप लोग मस्तराम डॉट नेट पढ़ रहे है |


मैं फिर भी धक्के मारे जा रहा था और अपनी बीवी रानी को देख रहा था। उसकी साँसें तेज थी और वो सिसक रही थी, “ओहहहहहह आआहहहहह विक्रम… चोदो मुझे… और जोर से…. हाँआआआ ऐसे ही चोदो…. और जोर से….!”


मैं समझ गया कि रानी का समय नज़दीक आ गया है। उसने जोर से अपने चूत्तड़ ऊपर उठा कर विक्रम के लंड को अपनी गिरफ़्त मे ले अपना पानी छोड़ दिया। विक्रम का भी  काम होने वाला था। वोह अपना लंड रानी की चूत से बाहर निकाल कर हिलाने लगा और फिर उसके पेट और छाती पर अपने वीर्य की बरसात कर दी।


विक्रम अपना लंड फिर उसकी चूत में घुसा कर धक्के मारने लगा। थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला तो वो रानी की चूत के पानी और खुद के सफ़ेद वीर्य से लिसड़ा हुआ था। विक्रम ने थोड़ा साईड में हो कर अपना लंड रानी के मुँह में दे दिया। और रोशनी अपने आप को एडजस्ट कर अपना मुँह रानी की चूत पर रख के उसे चाटने लगी।


मेरा लंड फिर तनाव में आ गया था और मैं जोर के धक्कों के साथ रोशनी को चोद रहा था। रोशनी मेरी बीवी की चूत को चूस रही थी और रानी विक्रम के लंड को। माहौल में काम की आग दहक रही थी और हम चारों उत्तेजना से भरे पड़े थे।


दो चार कस के धक्के मार कर मैंने एक बार फिर अपना पानी रोशनी की चूत में छोड़ दिया। रानी की चूत ने भी रोशनी के मुँह में अपना पानी छोड़ दिया और वहीं रानी भी विक्रम के लंड से छूटे पानी को पी रही थी।


हम चारों पसीने में लथ-पथ थे और साँसें तेज हो गयी थी। ऐसी जमकर चुदाई शायद सभी ने पहली बार की थी। हम सब लेट कर सुस्ताने लगे। रोशनी ने मुझे बांहों में भर कर चूमते हुए कहा, “राजेश ऐसी चुदाई मैंने आज पहली बार की है,तुम्हारे चोदने का अंदाज़ सही में निराला है।”


“रोशनी… ये तो मुझे विक्रम ने सिखाया कि तुम्हें किस तरह की चुदाई पसंद है,” मैंने उसे चूमते हुए जवाब दिया।


रात के बारह बज चुके थे और दूसरे दिन काम पर भी जाना था। विक्रम और रोशनी खड़े हो कर अपने कपड़े पहनने लगे। कपड़े पहन कर दोनों ने हमसे विदा ली और अपने घर चले गये। मैं और रानी भी एक दूसरे को बांहों में ले सो गये।


अगले कुछ दिनों तक हमारी मुलाकात विक्रम और रोशनी से नहीं हो पायी। उस रात की  चुदाई ने हमारी सैक्स लाईफ को एक नया मोड़ दिया था। अक्सर रात को बिस्तर में हम उस रात की चर्चा करते और जमकर चुदाई करते। हम दोनों की इच्छा थी कि विक्रम और रोशनी के साथ एक रात और गुज़ारी जाये।


मित्रो ये कहानी अभी जारी रहेगी पढ़ते रहिये मस्तराम डॉट नेट और मस्त रहिये | अपने विचार कमेंट बॉक्स में लिख कर दे | धन्यवाद


The post प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-1 appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-1

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks