All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-3


प्रेषक : राजेश


मित्रो आप लोगो ने प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-2 में अभी तक जो पढ़ा अब उसके आगे पढ़िए … विक्रम ने भी शायद उनकी आँखों में छिपी वेदना को पढ़ लिया था, “तुम दोनों चिंता मत करो, आज तुम दोनों की चूत से पानी की ऐसे बौछार छुटेगी जैसे इस कमरे में बाढ़ आ गयी हो। आज तुम को चुदाई का वो आनंद आयेगा कि तुम दोनों जीवन भर याद करोगी।” “लेकिन रानी की पहली बारी है, क्योंकि आज की दावत उसकी तरफ़ से थी। लेकिन ये बाद में… पहले मैं चाहता हूँ कि रानी अपने काबिल-ए-तारीफ़ मुँह से अजय के लंड से एक एक बूँद पानी निचोड़ ले। लेकिन वो अपनी जींस नहीं उतारेगी और ना ही अपनी चूत पर हाथ रख सकेगी। अगर अजय ने इसके काम की तारीफ़ की तो मैं इस विषय पर सोचूँगा। राजेश और शालिनी खड़े होकर इनहें देख सकते हैं लेकिन यही बात शालिनी पर भी लागू होती है। तब तक मैं और रोशनी मेहमानों का खयाल रखेंगे। जब अजय का काम हो जाये तो राजेश मेरे पास आकर, आगे क्या करना है, पूछ सकता है।” इतना कहकर विक्रम और रोशनी वापस हाल में चले गये। रानी अजय का हाथ पकड़ कर उसे गेस्ट बेडरूम मे ले गयी। मुझे विश्वास नहीं आ रहा था कि थोड़े दिन पहले तक जिस औरत ने शादी के बाद सिवाय मेरे किसी से नहीं चुदवाया था… आज वो फिर एक गैर मर्द का लंड चूसने जा रही है। मैंने मुड़ कर शालिनी की तरफ़ देखा। उसकी भी हालत खराब थी। शालिनी भी रूम की तरफ़ बढ़ी तो मैं उसके चूत्तड़ को देखने लगा। कितने गोल और भरे हुए थे। मैं जानता था कि उसकी चूत में डिल्डो होने की वजह से वो अपनी टाँगें सिकोड़ कर चल रही थी। जैसे ही हम रूम में पहुँचे मैंने दरवाज़ा लॉक कर दिया। रानी उत्तेजना में इतनी पागल थी कि बिना समय बिताये वो घुटनों के बल बैठ कर अजय की जींस के बटन खोलने लगी। वो जानती थी कि जितनी जल्दी वो अजय का लंड चूस कर उसका पानी छुड़ायेगी, उतनी जल्दी ही उसकी चूत को पानी छोड़ने का मौका मिलेगा। रानी ने जल्दी-जल्दी अजय की जींस के बटन खोले और उसकी जींस और अंडरवियर को नीचे खिसका दिया। जैसे कोई साँप बिल के बाहर आ गया हो, उस तरह उसका दस इंची लंड जो कि तीन इंच मोटा होगा, फुँकार कर खड़ा हो गया। रानी उस विशालकाय लंड को अपने हाथों में ले कर सहलाने लगी। पर देखने लायक तो उसके लंड की दो गोलाइयाँ थीं जो टेनिस बॉल की तरह नीचे लटकी हुई थी। इतनी बड़ी और भरी हुई थी कि शायद पता नहीं कितना पानी उनमें भरा हुआ है। रानी अब उसके लंड को जोर से रगड़ रही थी। उसे पता था कि उसका पति और अजय की बीवी उसे देख रहे हैं। मैं जानता था कि रानी के घुटनों के बल बैठते ही डिल्डो और अंदर तक उसकी चूत में घुस गया था। रानी ने अपनी जुबान बाहर निकाली और उसके लंड के सुपाड़े पे घुमाने लगी। मेरे और शालिनी के शरीर में गर्मी बढ़ती जा रही थी। शालिनी मेरे गले में बाहें डाल कर मेरे होंठों को चूसने लगी। उसके जिस्म में फ़ैली आग और बदन से उठती खुशबू मुझे पागल कर रही थी। मैं भी उसे सहयोग देते हुए अपनी जीभ उसके मुँह में डाल कर घुमाने लगा। मैं उसके होंठों और जीभ को चूस रहा था तो वो अपनी टाँगें फैला मुझसे बोली, “राजेश मेरे बदन को सहलाओ ना प्लीज़।” मैंने उसकी ड्रेस के सामने की ज़िप को नीचे कर दिया और उसकी चूचियों को बाहर निकाल लिया। उसके निप्पल इतने काले थे कि क्या बताऊँ। मैं उसकी एक चूँची को अपने हाथों मे पकड़ कर रगड़ने लगा और चूसने लगा। उसके शरीर की कंपन बता रही थी कि उसने अपने आप को मुझे सौंप दिया था लेकिन मैं उसकी चूत से नहीं खेल सकता था। मैं उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा और अपने हाथ के दबाव  से डिल्डो को और अंदर की तरफ़ धकेल दिया। मैं उसकी पैंटी को उतार कर उसकी चूत को चूमना चाहता था पर उसने मुझे रोक दिया, “राजेश नहीं शर्त का उसूल है कि तुम उसकी बात को टालोगे नहीं।” मैंने घूम कर रानी की तरफ़ देखा कि वो क्या कर रही है। मैंने देखा कि रानी अपना मुँह खोले अजय के लंड को चूस रही है और एक हाथ से उसकी गोलियों को सहला रही है। इतने में ही रानी ने अपने मुँह को पूरा खोला और अजय के दस इंची लंड को पूरा अपने गले तक ले लिया। अब उसके होंठ अजय की झाँटों को छू रहे थे। रानी धीरे से अपने मुँह को पीछे की और करके उसके लंड को बाहर निकालती और फिर गप से पूरा लंड ले लेती। रानी के दोनों छेदों में लंड घुसा हुआ था। असली दस इंची लंड उसके मुँह में और नकली प्लास्टिक का ग्यारह इंची उसकी चूत में। रानी अब जोरों से अजय के लंड को चूस रही थी। मेरी और शालिनी की आँखें इस दृश्य से हटाये नहीं हट रही थीं। इतने में शालिनी भी घुटनों के बल बैठ कर मेरी जींस के बटन खोलने लगी। उसके घुटनों को बल बैठते ही डिल्डो उसकी चूत के अंदर तक समा गया और उसके मुँह से सिस्करी निकल पड़ी, “आआआआआआआआआहहहहहह” शालिनी ने मुझे घुमा कर इस अंदाज़ में खड़ा कर दिया कि मैं उसके पति के सामने खड़ा था। अब वो मेरा लंड अपने मुँह मे ले जोरों से चूस रही थी। दोनों औरतें अपनी चूत में डिल्डो फ़ँसाय किसी दूसरे मर्द का लंड चूस रही थीं। आज की शाम रानी के लिए अजय दूसरा मर्द था जिसक लंड वो चूस रही थी और मेरे लिए शालिनी दूसरी औरत। एक की मैंने गाँड मारी थी और दूसरी अब मेरा लंड चूस रही थी। मैंने देखा कि वो औरत मेरे लंड को चूस रही थी जिससे मैं चंद घंटे पहले ही मिला था, और मेरी बीवी उसके पति के लंड को चूस रही थी। दोनों औरतें एक दूसरे के पति के लंड को चूसे जा रही थी। धीरे-धीरे उनके चूसने की रफ़्तार बढ़ने लगी और इतने में अजय के मुँह से एक सिस्करी निकली, “हाँ….. ऐसे ही चूसो… चूसती जाओ…।” शालिनी ने अपने पति की सिस्करियाँ सुनीं तो अपने मुँह से मेरे लंड को निकाल कर अपने पति को देखने लगी। जैसे-जैसे रानी की चूसने की रफ़्तार बढ़ रही थी वैसे ही अजय के शरीर की अकड़न बढ़ रही थी। उसका शरीर अकड़ा और उसके लंड ने अपने वीर्य की बौंछार रानी के मुँह में कर दी। मैंने देखा कि बिना एक बूँद भी बाहर गिराये रानी उसके सारे पानी को पी गयी। रानी की हरकत देख शालिनी भी जोश में भर गयी और मेरे लंड को जोर से चूसने लगी। मुझसे अब रुका नहीं जा रहा था। मैंने शालिनी के सर को पकड़ा और पूरी तरह अपने लौड़े पे दबा दिया। मेरा लंड उसके गले तक घुस गया और तभी लंड ने जोरों की पिचकारी उसके मुँह में छोड़ दी। हम चारों को अपनी साँसें संभालने में थोड़ा वक्त लगा। हम चारों ने कपड़े पहने और वापस पार्टी में आ गये जो करीब-करीब समाप्त होने के कगार पर थी। हम दोनों मर्दों के चेहरे पे तृप्ति के भाव थे पर दोनों औरतें अभी भी प्यासी थीं। एक तो उनकी चूत ने पानी नहीं छोड़ा था और दूसरा उनके मुँह में हम दोनों के लंड का पानी था। वो बार-बार अपनी जीभ से होंठों पे हमारे लंड के पानी को पोंछ रही थीं। वो दोनों जाकर विक्रम के पास खड़ी हो गयी जो पार्टी में आयी किसी महिला से बातों में व्यस्त था। हम दोनों भी विक्रम के पास पहुँच गये। शायद दोनों औरतों की तड़प उससे देखी नहीं गयी। वो भी जानता थी कि रानी और शालिनी पिछले तीन घंटे से डिल्डो अपनी चूत में लिए घूम रही हैं और अब उनकी चूत भी पानी छोड़ना चाहती होगी। “चलो सब मेहमानों को अलविदा कहते हैं और हम अपनी खुद की पार्टी शुरू करते हैं”, विक्रम ने कहा, “मेरा विश्वास करो रानी… आज की रात बहुत ही स्पेशल होगी। जो मज़ा तुम्हें आज मिलेगा उस मज़े की कभी तुमने कल्पना भी नहीं की होगी!” मैं सोच रहा था पता नहीं विक्रम के दिमाग में अभी और क्या है। रानी हाल में सभी मेहमानों का ख्याल रखने लगी। थोड़ी ही देर में सब मेहमान एक के बाद एक, जाने लगे। रानी जैसे ही किसी काम से नीचे को झुकती तो उसकी गाँड थोड़ा सा ऊपर को उठ जाती। विक्रम उसे ही घूर रहा था, “राजेश अब मैं तुम्हारी बीवी की गाँड मारूँगा जैसे तुमने मेरी बीवी की मारी थी।” मैं यह सुन कर दंग रह गया। विक्रम मेरी बीवी की कुँवारी गाँड मारेगा जैसे मैंने उसकी बीवी की मारी थी। फर्क सिर्फ़ इतना था कि उसकी बीवी की गाँड कुँवारी नहीं थी, वो इतनी खुली थी कि गाँड मरवाने में उसे कोई तकलीफ़ नहीं हुई थी। पर क्या रानी सह पायेगी? यह सोच कर ही मेरे बदन में एक सर्द लहर दौड़ गयी। पंद्रह मिनट में सभी मेहमान चले गये। “चलो अब सब मिलकर इन औरतों का खयाल रखते हैं, लेकिन सबको जैसा मैं कहुँगा वैसा ही करना होगा।” हम सब ने हाँ में गर्दन हिलायी और सब वापस गेस्ट बेडरूम में आ गये। रूम में आते ही विक्रम बिस्तर पर बैठ गया। उसने रानी और शालिनी को अपने सामने खड़े होने को कहा। फिर वो अपने हाथ दोनों की चूत पर रखकर डिल्डो को अंदर घुसाने लगा। रानी की जींस के ऊपर से और शालिनी की पैंटी के ऊपर से। “रोशनी अब तुम अजय का लंड आज की शानदार चुदाई के लिए तैयार करो, पर ध्यान रखना कि इसका पानी नहीं छूटना चाहिए।” विक्रम की बात सुनकर रोशनी अजय को उसकी कुर्सी के पास ले गयी जहाँ थोड़ी देर पहले विक्रम बैठा था। थोड़ी ही देर में रोशनी ने अजय का लंड बाहर निकाल लिया था और उसे अपने मुँह में ले कर चूस रही थी। अब सिर्फ़ मैं ही बचा था कि जो कुछ भी नहीं कर रहा था। फिर मैंने सुना कि विक्रम रानी को शालिनी के कपड़े उतारने को कह रहा था। रानी ने अपना हाथ बढ़ा कर शालिनी के टॉप की ज़िप खोल दी जो थोड़ी देर पहले इसी तरह मैंने खोली थी। पर रानी ने टॉप उसके कंधे से उठा कर उतार दिया और शालिनी की चूचियाँ फिर एक बार नंगी हो गयी। अजीब कामुक दृश्य था, मेरी बीवी किसी और औरत के कपड़े उतार रही थी। विक्रम खड़ा हुआ और दोनों औरतों के पास आ गया। उसने मेरी बीवी का बाँया हाथ पकड़ा और शालिनी की दाँयी चूंची पे रख दिया। फिर उसने रानी का दाँया हाथ पकड़ कर शालिनी की चूत पे रख दिया। मेरी बीवी की समझ में नहीं आ रहा था कि विक्रम क्या चाहता है। दोनों औरतों ने आज तक किसी औरत के साथ सैक्स नहीं किया था। विक्रम ने रानी की तरफ़ देखते हुए कहा, “मैं चाहता हूँ कि तुम शालिनी की चूत चूस कर उसका पानी छुड़ा दो… फ़िर हम सब मिलकर तुम्हारी चूत पर ध्यान देंगे।” यह कहकर विक्रम ने रानी को शालिनी के सामने घुटनों के बल बिठा दिया और उसके चेहरे को शालिनी की गीली हो चुकी पैंटी पे धकेल दिया। एक बार तो रोशनी और अजय भी रुक से गये और मैं भी हैरत में खड़ा सोच रहा था कि क्या सचमुच मेरी बीवी इस औरत की चूत चूसेगी। पर रानी जो पिछले चार घंटे से अपनी चूत में डिल्डो लिए घूम रही थी और उसकी चूत पानी छोड़ने को बेताब थी, रानी ने अपने हाथ शालिनी की पैंटी के इलास्टिक में फँसाये और उसे नीचे उतार दिया। जैसे ही शालिनी की पैंटी नीचे सरकी तो सबने देखा कि उसकी चूत भी साफ़ की हुई थी। बाल का तो नामो निशान नहीं था चूत पर। रानी ने उसकी पैंटी को और नीचे खिसकाते हुए उसके सैंडल युक्त पैरों के बाहर निकाल दिया। अब शालिनी सिर्फ हाई हील के सैंडल पहने, पूरी तरह से नंगी खड़ी थी। रानी ने अपने हाथ उसके कुल्हों पे रख कर उसे अपने पास खींचा और अपना मुँह उसकी चूत पे रख दिया। वो अब अपनी अँगुली से उसकी चूत का मुँह खोल कर अपनी जीभ डिल्डो के साथ अंदर घुमाने लगी। रानी अब जोरों से शालिनी की चूत को चाट और चूस रही थी और साथ ही उसकी चूत में फँसे डिल्डो को जोरों से अंदर-बाहर कर रही थी। “ओहहहहहह आहहआआआआआआ और जोर से…… हँआआआआआआ चूसो मेरी चूत को…. छुड़ाआआआ दो मेरा पानी।” शालिनी सिसक रही थी। शालिनी की साँसें तेज हो रही थी और साथ ही उसकी चूचियाँ उसकी छाती पर फुदक रही थीं। रानी अपनी जीभ और डिल्डो की रफ़्तार बढ़ाती जा रही थी, और साथ ही शालिनी की चूत पानी छोड़ने के कगार पर आ रही थी। शालिनी ने अपने दोनों हाथ रानी के सर पर रख दिए और उसे जोर से अपनी चूत पे दबा दिया। उसकी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया। फच-फच की आवाज़ के साथ उसकी चूत पानी छोड़ रही थी। रानी का पूरा चेहरा शालिनी की चूत से छुटे पानी से भर गया था। रानी और जोरों से चूसते हुए उसकी चूत के सारे पानी को पी रही थी। आखिर में थक कर शालिनी बिस्तर पर निढाल पड़ गयी और गहरी साँसें लेने लगी। रानी उठ कर खड़ी हो गयी। उसने अभी भी कपड़े पहने हुए थे। आज उसने पूरे दिन में पहले विक्रम के लंड को चूसा था और बाद में अजय के लंड को। और अब वो हम सब के सामने शालिनी की चूत का पानी पीकर खड़ी हुई थी। उसके चेहरे पर संतुष्टि के भाव थे पर उसके जिस्म की प्यास अभी बाकी थी। मैं आगे बढ़ा और अपनी बीवी को बांहों भर लिया। मैंने अपने होंठ उसके होंठों पर रखे तो मुझे शालिनी की चूत के पानी की महक और स्वाद आया। मैं उसके होंठों को चूसने लगा। मैंने अपना हाथ रानी की जींस के ऊपर से उसकी चूत पर रखा तो पाया कि वो पहले से ज्यादा गीली हो चुकी थी। जैसे ही मैंने उसकी चूत को सहलाया वो सिसक पड़ी, “ओहहहहहह आआआहहहहआआआआ हुम्म्म्म्म।” विक्रम ने हम दोनों को अलग किया और मेरी बीवी को चूमते हुए उसे बिस्तर के पास ले गया। फिर उसने रानी से पूछा, “क्या तुम मुझसे गाँड मरवाना पसंद करोगी?” रानी ने पहले तो उसकी तरफ़ देखा और फिर मेरी तरफ़। उसके पास कोई जवाब नहीं था क्योंकि अगर वो ना कहती तो हम शर्त हार जाते। मैं भी थोड़ी देर पहले उसकी बीवी की गाँड मार चुका था, इसलिए मेरे पास भी ना करने की कोई वजह नहीं थी। मैं सिर्फ़ वहाँ पर खड़ा अपनी बीवी की गाँड मरते देख सकता था। विक्रम ने रानी के होंठों को चूसते हुए उसके लाल टॉप के बटन खोल कर उसके टॉप को उतार दिया। अब वो अपने एक हाथ से उसकी चूँची को दबा रहा था और दूसरे हाथ से उसके निप्पलों को भींच रहा था। रानी के मुँह से सिस्करी फूट रही थी, “हाँ दबाओ न…. पर धीरे…. हाँ ऐसे ही… ओओहहहहहह आआआहहहह” रानी की चूचियों को मसलते हुए विक्रम अपने हाथ उसकी जींस पे ले जाकर बटन खोलने लगा। रोशनी आगे बढ़ कर उनके पास नीचे बैठ गयी और रानी की जींस को नीचे उतारने लगी। दोनों ने मिलकर मेरी बीवी को पूरा नंगा कर दिया। रानी भी अब शालिनी की तरह सिर्फ हाई हील के सैंडल पहने पूरी तरह नंगी खड़ी थी। उसकी चूत में घुसा डिल्डो साफ नज़र आ रहा था। विक्रम और रोशनी ने मिलकर उसे बेड के किनारे पर झुका दिया। रोशनी अब उसके सामने आकर बिस्तर पर बैठ गयी और रानी की चूचियों को चूसने लगी। थोड़ी देर चूसने के बाद वो बिस्तर पर इस तरह से लेट गयी कि रानी का मुँह ठीक उसकी चूत पे था। रोशनी ने रानी के सिर को पकड़ कर उसे अपनी चूत पे दबा दिया। रानी अब बिस्तर के किनारे पर झुकी रोशनी की चूत चूस रही थी। इस तरह झुकने से उसकी गाँड हवा में और ऊपर को उठ गयी थी। पीछे से उसकी चूत में फँसा डिल्डो तो दिख ही रहा था साथ ही उसकी गाँड का छेद भी दिखायी दे रहा था। हम सब जानते थे कि अब विक्रम अपना लंड उसकी गाँड मे घुसायेगा, पर उसके मन में तो कुछ और ही था। विक्रम मेरी तरफ़ मुस्कुरा के देख रहा था, “राजेश आज शाम को मेरी बीवी ने तुम्हें सिखा ही दिया होगा कि एक अच्छी गाँड को चुदाई के लिए कैसे तैयार किया जाता है। बाथरूम मे जाओ और क्रीम ले आओ और बताओ कि तुमने क्या सीखा।” फिर उसने शालिनी की तरफ़ देखकर कहा, “तुम मेरे लंड को तैयार करोगी?” बिना कुछ कहे मैं बाथरूम में जाकर वही क्रीम ले आया जो मैंने रोशनी पे इस्तमाल की थी। शालिनी मेरे पास आयी और मुझे थोड़ी क्रीम उसके हाथों पे देने को कहा। कैसी शर्त थी कि मैं अपने हाथों से अपनी बीवी की गाँड को किसी दूसरे मर्द के लंड के लिए तैयार करूँ। पर मैं शर्त हारना नहीं चाहता था इसलिए मैं क्रीम लिए रानी के पास आ गया। मैंने खूब सारी क्रीम अपनी अँगुलियों में ली और उसे रानी की गाँड के चारों और मलने लगा। फिर मैंने अपनी एक अँगुली उसकी गाँड में डाल दी, “ओहहहहह मर गयीईई,” रानी के मुँह से हल्की सी चींख निकल गयी। रानी अब भी रोशनी की चूत को चाटे जा रही थी। मैंने थोड़ी और क्रीम अपनी अँगुली में ली और दो अँगुलियाँ उसकी गाँड में डाल दीं।  अब मैं अपनी अँगुलियों को उसकी गाँड में चारों तरफ़ गोल गोल घुमा रहा था। विक्रम मेरे पास खड़ा मेरी सभी हर्कतों को देख रहा था और उसके पैरों में बैठी शालिनी उसके लंड को क्रीम से चिकना कर रही थी। अब मेरी अँगुलियाँ आसानी से रानी की गाँड में अंदर तक जा रही थीं। जब मैं अँगुलियाँ घुमाता तो उसकी चूत में फँसे डिल्डो का एहसास होता मुझे। मैं और अंदर तक क्रीम को मलने लगा। रानी को भी शायद मज़ा आने लगा था। उसने जोरों से रोशनी की चूत चूसते हुए अपने टाँगें और फैला दीं जिससे मैं और आसानी से उसकी गाँड में अँगुली कर सकूँ। शालिनी भी अब तक अच्छी तरह से विक्रम के लंड को क्रीम से चिकना कर चुकी थी। विक्रम अपनी जगह से हिला और मुझे साईड में कर दिया। अब उसका लंड क्रीम से चिकना था। उसका तना हुआ लंड एक हथियार की तरह चमक रहा था। जैसे ही विक्रम ने अपना लंड रानी की गाँड पे रखा वो सिसक कर और जोरों से रोशनी की चूत को चूसने लगी। वो उसकी चूत को ऐसे चूस रही थी कि जैसे वो इस कला में बरसों से माहिर हो। शालिनी और अजय भी पास में आकर खड़े हो गये। वो भी किसी कुँवारी गाँड की चुदाई देखना चाहते थे। मुझे अंदर से शरम आ रही थी कि अपनी बीवी की गाँड मैं सबसे पहले मारूँ, उसके बजाय मैंने ही अपनी बीवी की गाँड को दूसरे मर्द के लंड के लिए तैयार किया था। विक्रम ने रानी के कुल्हों को पकड़ कर उसकी गाँड के छेद को और फैला दिया। विक्रम के दोनों हाथ रानी के कुल्हों को पकड़े हुए थे। शालिनी ने आगे बढ़ कर विक्रम के लंड को ठीक रानी की गाँड के छेद पर रख दिया और विक्रम अब अपने लंड को अंदर घुसाने लगा। शालिनी अभी भी उसके लंड को पकड़े हुए थी। इतनी सारी क्रीम लगने से उसका लंड और रानी की गाँड पूरी तरह चिकनी हो गयी थी जिससे विक्रम के लंड का सुपाड़ा उसकी गाँड में आसानी से घुस गया। शालिनी ने अपना हाथ उसके लंड पर से हटा लिया। अब जबकि सुपाड़ा घुस चुका था,  विक्रम धीरे-धीरे अपने लंड को और अंदर तक घुसाने लगा। उसके हर धक्के के साथ रानी की सिस्कार गूँजती, “ओहहहहहह….. आआआहहहहहहह…. थोड़ा धीरे…. दर्द हो रहाआआआआ है।” थोड़ी देर में उसका पूरा लंड रानी की गाँड में घुस चुका था। अब उसकी गाँड कुँवारी नहीं रही थी।hindi sex kahaniya (www.mastaram (3)


रानी अब भी रोशनी की चूत चूसे जा रही थी। जब विक्रम का पूरा लंड उसकी गाँड मे घुस गया तो जोर की सिस्करी निकली, “ओहहहहह हँआँआँआँ।” विक्रम का लंड रानी की गाँड की दीवारों को रौंदता हुआ जड़ तक समा गया था।


विक्रम ने शालिनी और मेरा धन्यवाद दिया कि हम दोनों ने रानी की गाँड मारने में उसकी सहायता की और कैसे उसका लंड रानी की गाँड में अंदर तक घुसा हुआ है और कैसे रानी की गाँड उसके लंड को भींचे हुए है। उसने बताया कि उसे रानी की चूत में फँसे डिल्डो का भी एहसास हो रहा है और ये उत्तेजना उसके लंड से लेकर उसकी गोलियों तक जा रही थी। विक्रम जान बूझ कर ये सब बातें बता कर मुझे चिढ़ा रहा था। “हरामी साला” मेरे मुँह से गाली निकली।


लेकिन अब तक मैं अपना लंड अपनी पैंट में से निकाल कर सहला रहा था। सब जानते थे कि मेरी बीवी की गाँड की चुदाई ने मुझे भी उत्तेजित कर दिया था। पर जो होने वाला था उसके आगे ये कुछ भी नहीं था। शालिनी अब उनसे दूर जा कर खड़ी हो गयी। विक्रम का लंड रानी की गाँड में अंदर बाहर हो रहा था। विक्रम अपने लंड को करीब तीन इंच बाहर खींचता और अपने आठ इंच के लंड को पूरा जड़ तक पेल देता।


विक्रम जानबूझ कर धीरे-धीरे धक्के लगा रहा था। पर समय के साथ उसकी रफ़्तार तेज हो रही थी। अब वो पाँच इंच लंड को बाहर निकालता और पूरा पेल देता। थोड़ी देर में वो अपने लंड का सुपाड़ा सिर्फ़ अंदर रहने देता और एक झटके में पूरा लंड रानी की गाँड में डाल देता। रानी की गाँड पूरी तरह खुल गयी थी और हर झटके को वो अपने कुल्हों को पीछे कर के ले रही थी, “हाँ डाल दो पूरा लंड मेरी गाँड में…. ओहहहहहह हँआँआँ और जोर से…. हँआँआँ चोदो…. फाड़ दो मेरी गाँड को।”


रानी उन मिंया-बीवी के बीच सैंडविच बनी हुई थी। नीचे से रोशनी अपनी चूत को ऊपर उठा कर उसके मुँह में भर देती और पीछे से विक्रम उसके कुल्हों को पकड़ कर जोर से लंड पेल देता। जैसे ही उसका लंड अंदर तक जाता, रानी का मुँह रोशनी की चूत पे और जोर से दब जाता। विक्रम उसकी गाँड भी मार रहा था और उसकी चूत में फँसे डिल्डो को और अंदर की और घुसा देता।


अब अजय भी इस खेल में शामिल होना चाहता था। उसने भी अपने कपड़े उतार दिए और अपने लंड को सहलाने लगा। अपने लंड को सहलाते हुए वो रोशनी के चेहरे के पास आ गया। अजय अपने लंड को उसके मुँह के पास कर के उसके होंठों पर रगड़ने लगा। रोशनी ने अपने हाथ से उसका लंड पकड़ कर अपने मुँह में ले लिया और वो जोरों से अजय के लंड को चूसने लगी।


अब मैं और शालिनी ही बचे थे। शालिनी तो पहले ही नंगी थी। मैं भी कपड़े उतार कर पूरा नंगा हो कर अपने लंड को सहला रहा था। शालिनी मेरे पास आ कर मेरे नंगे बदन से सट गयी और सहलाने लगी। हम भूखे कुत्तों की तरह एक दूसरे के बदन को नोच रहे थे और मसल रहे थे, पर हम अपनी नज़रें बिस्तर से नहीं हटा पा रहे थे जहाँ एक का पति दूसरे की पत्नी से अपना लंड चूसवा रहा था और मेरी बीवी दूसरे की बीवी की चूत चूस रही थी और उसके पति से अपनी गाँड मरवा रही थी।


अचानक रानी ने अपना मुँह रोशनी की चूत से ऊपर उठाया और जोर से चींख पड़ी, “ओहहहह ये नहीं हो सकता।” मैं सोच में पड़ गया कि अचानक उसे क्या हुआ, क्या उसका पानी छूटने वाला है या उसकी गाँड दर्द कर रही है। “हे भगवान…. प्लीज़ ऐसा मत करो।” वो फिर बोली और उसकी आँखों मे आँसू आ गये। तब विक्रम ने उसके चींखने की वजह बतायी, “राजेश डरो मत यार… इसके डिल्डो की बेटरी खतम हो गयी है… बेचारी।” अब मेरी समझ में आया कि जब उसका पानी छूटने वाला था तभी डिल्डो की बेटरी खतम हो गयी। और कितना चलती… पाँच घंटे सो तो वो उसे अपनी चूत में डाले घूम रही थी। रानी फिर अपनी उत्तेजना के अंतिम कगार से वंचित रह गयी। विक्रम उसकी गाँड में जोर के धक्के मारते हुए बोला, “रानी डार्लिंग… चिंता मत करो, मैं वादा करता हूँ कि आज तुम्हें चुदाई का वो आनंद आयेगा कि तुम्हारी चूत खुले बाँध की तरह पानी फ़ेंकेगी।” रानी ने अपना चेहरा उठा कर विक्रम की और देखा। उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि और क्या उसके दिमाग में है। अभी आप लोग मस्तराम डॉट नेट पढ़ रहे है | हमने देखा कि अपनी चूत की प्यास बुझाने के लिए रानी खुद अपने बंद हुए डिल्डो को पकड़ कर अंदर बाहर करने लगी, पर विक्रम ने उसका हाथ हटा दिया। अब विक्रम ने रानी को उसकी छातियों से पकड़ा और पीछे की और हो गया। थोड़ी देर इस तरह होने के बाद उसने अपनी टाँगें सीधी की और पीठ के बल लेट गया। अब वो जमीन पर लेटा था और रानी उसके ऊपर उसका लंड अपनी गाँड मे लिए आधी लेटी थी। रानी ने अब अपनी टाँगें फैला दी जिससे विक्रम का लंड उसकी गाँड में घुसा हुआ दिख रहा था और साथ ही चूत में फँसा डिल्डो भी। रोशनी अब अजय के लंड को अपने मुँह से बाहर निकाल कर अपने हाथों से उसे मसल रही थी। पर वो खुद छूटने की कगार पर थी, इसलिए वो खड़ी हो गयी और अपनी दोनों टाँगें चौड़ी कर के अपनी चूत रानी के मुँह पर रख दी, “जो तुमने शुरू किया है उसे तुम्हें ही खतम करना पड़ेगा। मेरी चूत जोरों से चूसो और मेरा पानी छुड़ा दो।” रानी अपनी जीभ का तिकोण बना कर उसे चोद रही थी। रोशनी और थोड़ा झुकते हुए अपनी चूत को और दबा देती। उसका चेहरा पीछे की और था और उसके बाल विक्रम के पेट को छू रहे थे। “हँआँआँआँ चू..ऊऊऊऊऊस ओहहहहहह आहहहहहह “हाँआँआँ जोर से… हूँऊऊऊऊ….,” कहकर रोशनी की चूत ने रानी के मुँह में पानी छोड़ दिया। रानी गटक-गटक कर उसका पानी पी रही थी। जब एक-एक बूँद रोशनी की चूत से छूट चुका था तो वो निढाल हो बिस्तर पर गिर गयी। विक्रम अभी तक उसी तरह अपना लंड रानी की गाँड में घुसाये लेटा था। फिर उसने अपनी आखिरी चाल चली, “अजय मेरा तो पानी अब छूटने वाला है, ऐसा दृश्य देख कर… क्यों नहीं तुम अपना लंड इसकी चूत में डाल देते हो।” अब मेरे और अजय की समझ मे आया की विक्रम क्या चाहता था। अजय उछल कर रानी की टाँगों के बीच आ गया। उसने अपना हाथ रानी की चूत में फँसे डिल्डो पर रखा। पर उसे बाहर निकालने की बजाय वो उसे अंदर-बाहर करने लगा। थोड़ी देर बाद अजय अपने लंड को रानी की चूत के मुँह पे लगा कर धीरे-धीरे अंदर करने लगा और साथ ही डिल्डो को बाहर खींचने लगा। जितना उसका लंड अंदर जाता उतना ही वो डिल्डो को बाहर खींच लेता। मैंने देखा कि डिल्डो पूरी तरह से रानी की चूत के पानी से लसा हुआ था और चमक रहा था। जब अजय का पूरा लंड उसकी चूत में घुस गया तो उसने डिल्डो बाहर निकाल कर मेरे हाथ में पकड़ा दिया। मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि जो डिल्डो मेरी बीवी की चूत में पिछले पाँच घंटे से घुसा हुआ था, वही अब उसके पानी से लसा हुआ मेरे हाथ में है। मैंने बिना हिचकिचाते हुए उसे अपने मुँह में ले चाटने लगा। मुझे उसकी चूत के पानी का स्वाद सही में अच्छा लग रहा था। जब मैंने उसे चाट कर साफ कर दिया तो उसे बिस्तर पर रख दिया।


शालिनी अब तक मेरे लंड को पकड़े हुए थी। उसने मेरी तरफ देखा और घुटनों के बल बैठ कर मेरे लंड को अपने मुँह में ले कर चूसने लगी। वो एक हाथ से मेरा लंड पकड़ कर चूस रही थी और दूसरे हाथ की अँगुलियों से अपनी चूत को चोद रही थी। पर उसकी नज़रें वहीं गड़ी थीं जहाँ मेरी बीवी की दोहरी चुदाई हो रही थी। मैंने अपना ध्यान शालिनी से हटाया और फिर रानी पर केंद्रित कर दिया। मैंने देखा कि अजय आधा खड़ा हो अपने लंड को रानी के मुँह में दे कर धक्के मर रहा था। रानी भी पूरे जोर से उसे चूस रही थी। जब उसका लंड पूरी तरह से तन गया तो वो रानी के थूक से लसे अपने लंड को ले कर रानी की टाँगों के बीच आ गया। रानी अपनी टाँगें थोड़ी और चौड़ी कर के पीछे को पसर गयी। अजय एक हाथ से अपने लंड को पकड़ कर रानी की चूत पे रगड़ने लगा। अब मेरी बीवी की दो लंड से चुदाई होने वाली थी। एक उसकी गाँड में और दूसरा उसकी चूत में। अजय ने रानी की एक टाँग को जाँघों से पकड़ा और अपनी कोहनी पे रख दी। इससे रानी की चूत और खुल गयी। थोड़ी देर अपने लंड को रगड़ने के बाद उसने एक ही धक्के में अपना लंड उसकी चूत में पेल दिया। अब वो धक्के लगा कर उसकी चूत को चोद रहा  था। रानी विक्रम की छाती पर लेटी अपनी ज़िंदगी की सबसे भयंकर चुदाई का आनंद ले रही थी। उसका चेहरा इधर-उधर हो रहा था और साथ ही उसके मुँह से सिस्करियाँ फूट रही थी। अभी आप लोग मस्तराम डॉट नेट पढ़ रहे है |


मैं अंदाज़ा लगाने की कोशिश कर रहा था कि जब एक लंड चूत की जड़ों तक पहुँचता है और दूसरी तरफ़ दूसरा लंड गाँड की जड़ों तक पहुँचता है तो शरीर में दोनों लंड के संगम का आनंद कैसा रहता होगा। रानी इसी संगम का आनंद उठा रही थी, “मैं तुम दोनों के लंड को अपने में महसूस कर रही हूँ, अभी जोर से चोदो मुझे… हाँ और जोर से… रुको मत बस चोदते जाओ।”


विक्रम ने एक जोर की हुँकार भरी और अपने कुल्हे ऊपर को उठा दिए। अजय ने भी रानी के कुल्हों को पकड़ कर अपने लंड को अंदर तक पेल दिया। मैं समझ गया कि दोनों छूटने की कगार पर हैं। रानी का भी समय नज़दीक आता जा रहा था, “हँआआआआआआ और जोर से… ओओहहहहह ऊईईईईईईईईईईईई।”


मुझे खुद को रोकना मुश्किल हो रहा था। शालिनी इतनी जोर से मेरे लंड को चूस रही थी और साथ ही अपने दाँतों का भी इस्तमाल कर रही थी। पर शालिनी की आँखें अपने पति के लंड पे जमी थीं जो मेरी बीवी की चूत में एक पिस्टन की तरह अंदर बाहर हो रहा था। और फिर वो हुआ जिसका सबको इंतज़ार था, रानी जोर से चींखी “ओहहहहहहहह हाँआआआआआआआआ ओहहहहहहहहह हाय आआआआआआआआआ,” और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया। उसका शरीर इस तरह अकड़ रहा था कि क्या बताऊँ। इतने में विक्रम के लंड ने भी उसकी गाँड में अपना वीर्य उगल दिया।


अजय ने रानी की दोनों चूचियों को जोर से मसला और उसके लंड ने उसकी चूत में बौंछार कर दी। मैं कल्पना कर रहा था कि रानी की चूत और गाँड, वीर्य से भरी कैसी होगी कि तभी मेरा भी शरीर अकड़ा और मैंने अपना वीर्य शालिनी के मुँह में उगल दिया।


शालिनी ने मेरे लंड को अपने मुँह से निकाला और बेड पर से डिल्डो को उठा कर अपनी चूत के अंदर बाहर करने लगी। थोड़ी देर में उसकी चूत ने भी पानी छोड़ दिया। कसम से ऐसी सामुहिक चुदाई की कल्पना नहीं की थी मैंने। मुझे इस बात की खुशी थी कि हम शर्त जीत ना सके तो क्या पर हारे भी नहीं थे। अब देखते हैं कि छुट्टियों में क्या गुल खिलते हैं।


मित्रो आप लोगो को ये मेरी सच्ची कहानी कैसी लगी अपने अपने विचार कमेंट बॉक्स में लिख कर दे | धन्यवाद


The post प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-3 appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




प्लीज़ मुझे प्यार करो ना-3

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks