All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

खाला और अम्मी की चुदा‌ई-3


प्रेषक: शाकिर अली


दोस्तों मेरी पिछली कहानी खाला और अम्मी की चुदा‌ई-1 और  खाला और अम्मी की चुदा‌ई-2 में आप लोगो ने तो कुछ पढ़ा ही होगा सो अब उसके आगे की कहानी लिख रहा हु ….नज़ीर ने घस्से मारने बंद कर दिये और अम्मी की कमर पकड़ कर अपने ऊपर झुका लिया। अम्मी भी अपने हाथ उसके कंधों पर टिका कर अपने निचले होंठ दाँतों में दबा कर करामत के लंड का इंतज़ार करने लगीं। खाला अमबरीन ने थोड़ा सा थूक अपनी उंगलियों पे ले कर अम्मी की गाँड के सुराख पर मल दिया। करामत अम्मी के पीछे आ गया और अपना लौड़ा मुठ्ठी में पकड़ कर उनके चूतड़ों के बीच की दरार में रगड़ने लगा। फिर उसने अपने लंड का टोपा अम्मी की गाँड के सुराख पर रख के धीरे से दबया तो टोपा उनकी गाँड में घुस गया। अम्मी ने शायद अपनी साँसें रोक रखी थीं और टोपा अंदर जाते ही साँस छोड़ते हुए “ऊँहह” करके सिसकीं। करामत ने एक बार टोपा बाहर निकाल कर फिर अम्बरीन खाला के मुँह में दे दिया। अम्बरीन खाला ने उसके टोपे को दो-तीन दफ़ा चूसा और उस पर थूक कर उसे फिर भिगो दिया। करामत ने फिर एक दफ़ा अपना टोपा अम्मी की गाँड के सुराख पर रख के अंदर दबा दिया। नज़ीर नीचे से बोला – “हाँ यार! पेल दे साली की गाँड में पूरा लंड… जल्दी से!”


अम्बरीन खाला भी घुटनों पर बैठी हवस-ज़दा नज़रों से ये नज़ारा देख रही थीं। मुझे भी नज़ीर के टट्टे और उसके लंड का बुनियादी हिस्सा तिर्छा होकर अम्मी की चूत में घुसा हुआ दिख रहा था और करामत के लंड का टोपा मेरी अम्मी की गाँड में घुसा हुआ था। “ज़रा आहिस्ता-आहिस्ता डालो… चीर ना देना मुझे दो हिस्सों में अपने शदीद लौड़ों से!” अम्मी सिसकते हुए नशे में लरज़ती आवाज़ में बड़बड़ायीं।


नज़ीर करामत को जोश दिलाते बोला – “इसकी बात पे तवज्जो ना दे! घुसेड़ दे गश्ती की गाँड मे लंड एक बार में… मज़ा आयेगा इसे भी…।” करामत ने जोर से अपना लंड अम्मी की गाँड में दबा कर और अंदर घुसेड़ना शुरू किया लेकिन अम्मी की गाँड शायद चूत में नज़ीर का लंड मौजूद होने से और ज्यादा टाईट हो गयी थी। करामत ने लंड घुसाना ज़ारी रखा और आहिस्ता-आहिस्ता उसक लंड और ज्यादा अंदर फिसलने लगा। अम्मी अब मुसलसल ज़ोर-ज़ोर से “ऊँहह आँहह” करते हुए कराह रही थीं। बीच-बीच में उनकी आवाज़ टूट रही थी। अम्बरीन खाला भी मस्ती में ज़ोर से बोल पड़ीं – “जा रहा है अंदर! रुको मत! यास्मीन देख तेरी गाँड कैसे चौड़ी होकर लौड़ा अंदर ले रही है… मैंने कहा था ना कि कुछ नहीं होगा!”


अम्मी कराहते हुए बोलीं – “हाय अल्लाह.. आआआईईई… अम्बरीन… जब तेरी चूत और गाँड एक साथ फटेगी तब पता चलेगा… आआईईई…. ऊँऊँहहह!”


“मुझे तेरा लंड इसकी गाँड में महसूस हो रहा है करामत!” नज़ीर मस्ती से बोला। करामत का दो-तीन इंच लौड़ा अभी भी बाहर था। करामत कुछ लम्हों के लिये रुका और फिर अपना लंड आगे-पीछे करते हुए अम्मी की गाँड मारने लगा।नज़ीर भी नीचे से अम्मी की चूत में घस्से मार रहा था। करामत के हर धक्के के साथ अम्मी का जिस्म आगे झुक जाता था और उनके बड़े मम्मे नज़ीर के चेहरे पर टकरा जाते थे। दो बड़े- बड़े खौलनाक लौड़े मेरी अम्मी की चूत और गाँड में एक साथ अंदर-बाहर घस्से मार रहे थे। इससे पहले ब्लू-फिल्मों में इस तरह की दोहरी चुदाई देखी थी और अब अपनी अम्मी की दोहरी चुदाई का मंज़र मेरे लिये निहायत सैक्सी था। अगर मैंने थोड़ी देर पहले मुठ नहीं मारी होती तो इस वक़्त मैं पैंट में ही फारिग हो जाता।


करामत अब पूरा लंड अम्मी की गाँड में डाल कर घस्से मार रहा था और नज़ीर नीचे से अम्मी की चूत फाड़ रहा था। अब अम्मी की सिसकियों से ज़ाहिर था कि उन्हें भी मज़ा आने लगा था। अपनी चूत और गाँड में दो अज़ीमतन लौड़ों को झटक कर उनके घस्सों को बर्दाश्त करते हुए अम्मी का जिस्म इधर-उधर मरोड़ जाता था। वो मस्ती में और भी ज़ोर-ज़ोर से कराहने लगीं। फिर अचानक अपनी गर्दन पीछे उठा कर छत्त की तरफ मुँह करके जोर से चिल्लाते हुए नशे में लरज़ती आवाज़ में बोलीं – “या खुदाऽऽऽ चोदो मुझे… हरामी कुत्तों! फाड़ दो मेरी चूत और गाँड अपने जसीम लौड़ों से… मज़ा आ गया… बे-इंतेहा मज़ा… चोदो… और ज़ोर-ज़ोर से!” मैं कभी सोच भी नहीं सकता था कि अम्मी ऐसे गंदे अल्फाज़ भी इस्तेमाल कर सकती हैं।


अम्बरीन खाला ज्यादा देर तक अपनी बहन की दोहरी चुदाई देख नहीं सकीं और उनके बगल में लेट कर अपनी चूत में तीन उंगलियाँ घुसेड़ कर मुठ मारने लगीं। इतनी देर में अम्मी का जिस्म ऐंठ गया और वो जोर से चींखते हुए खल्लास हो गयीं और नज़ीर के सीने पर गिर पड़ीं।mast chudasi bhbhi ki kahani (www.mastaram (29)


करामत और नज़ीर ने घस्से मारने बंद कर दिये। एक-दो मिनट रुके रहने के बाद नज़ीर के कहने पर करामत ने अपना अज़ीम लंड धीरे से अम्मी की गाँड के फैले हुए छेद में से ‘प्लॉप’ की आवाज़ के साथ बाहर निकाला और अम्मी भी पलट कर नज़ीर के लंड से उतर के बेड पर लेट के उखड़ी हुई साँसें संभालने लगीं। नज़ीर और करामत के बड़े लंड अभी भी अकड़े हुए थे। नज़ीर का लंड अम्मी की चूत के पानी से भीगा हुआ था जबकि करामत का लंड खाला के थूक के साथ-साथ अम्मी की गाँड की नजासत से सना हुआ था। नज़ीर ने अम्बरीन खाला से कहा कि अब उनकी बारी है लंदन की सैर करने की और उनसे पूछा कि वो किसका लंड गाँड में पसंद करेंगी। अम्बरीन खाला शराब और हवस के नशे में मदहोश थीं और बिल्कुल बेहया और बे-तकल्लुफ़ हो चुकी थीं। “पहले तो करामत का ही लुँगी और बाद में तुम्हारा भी लंड लुँगी अपनी गाँड में… तुम दोनों जगह बदल लेना“– अम्बरीन खाला नशे में लरज़ती आवाज़ में बोलीं और ये कहते हुए उन्होंने जो किया वो देखकर एक बार तो मुझे मतलाई आ गयी। अम्बरीन खाला ने करामत के लंड का सुपाड़ा अपने मुँह में लिया जो दो मिनट पहले अम्मी की गाँड में से निकला था और अम्मी की नसाजत से सना हुआ था। खाला की आँखों में शोखी और चेहरे के तासुरात से ज़ाहिर था कि उन्होंने जानबूझ कर करामत का आलूदा लंड अपने मुँह में लिया था और उसपे लगी अपनी बहन की नजासत बड़े मजे से चाट रही थी। करामत और नज़ीर भी अम्बरीन खाला की इस हर्कत से हैरान रह गये। अम्मी को एहसास हुआ तो उन्होंने खाला को टोका भी कि ये कैसी ग़लीज़ हर्कत है लेकिन अम्बरीन खाला तो करामत का नजिस लौड़ा चूस-चूस कर उसपे से अपनी बहन की गाँड के ज़ायक़े का पूरा मज़ा ले रही थीं। कुछ ही देर में उन्होंने करामत के लौड़े से नजिस रस का एक-एक कतरा चाट कर साफ कर दिया और उसका लौड़ा जड़ से टोपे तक अम्बरीन खाला के थूक से भीग कर चमकने लगा। उसका लंड अपने मुँह में से निकाल कर खाला ने शरारत से मुस्कुराने लगीं और अम्मी से मुखातिब होकर लरज़ते आवाज़ में बोलीं – “यास्मिन! मज़ा आ गया… तेरी गाँड तो बेहद लज़ीज़ है!” लेखक: शकिर अली।


नज़ीर एक दफ़ा फिर बेड पर कमर के बल लेट गया। अम्मी की चूत के रस से सना हुआ उसका शदीद लौड़ा मिनार की तरह सीधा खड़ा था। अम्बरीन खाला ने उसे ललचायी नज़रों से एक बार निहारा और फिर नज़ीर के चूतड़ों के दोनों तरफ अपने घुटने टिका कर उसके ऊपर सवार हो गयीं और उसका लौड़ा पकड़ कर उसका टोपा अपनी चूत में ले लिया। नज़ीर के ऊपर झुक कर उसके कंधों को कस कर पकड़ के अम्बरीन खाला अपने चूतड़ गोल-गोल घुमाते हुए नीचे ठेल कर वो अकड़ा हुआ लौड़ा अपनी मक्खन जैसी चूत में लेने लगीं। नज़ीर ने भी नीचे से अपने चूतड़ उछाल कर अम्बरीन खाला की चूत में अपना अज़ीम लौड़ा उनकी चूत में अंदर तक पेलना सुरू कर दिया। इस दफ़ा अम्बरीन खाला के चेहरे पर ज़रा सा भी शिकन नज़र नहीं आया। वो खुद ज़ोर-ज़ोर से उछल-उछल कर नज़ीर के लौड़े पे अपनी रसीली चूत से ऊपर-नीचे घस्से मारने लगीं और सिसकते हुए बिल्कुल बिंदास होकर बेशरमी से बोलने लगीं – “चोद मुझे… ऊँऊँघघ! चोद मेरी चूत! ओह फक मी!”


कुछ ही देर में दोनों मिलकर एक ताल में उछलते हुए चुदाई कर रहे थे। खाला ने नज़ीर के कंधे पकड़े हुए थे और उसने खाला के चूतड़ों को जकड़ा हुआ था। करामत अपने लंड को सहलाते हुए उन्हें देख रहा था कि कब वो खाला की गाँड में अ[पना लंड घुसेड़े। फिर वो खाला के चूतड़ों के पीछे झुक गया। खाला को जब अपने पीछे करामत की मौजूदगी का एहसास हुआ तो वो नज़ीर की छाती पर पूरी तरह झुक कर करामत का लंड अपनी गाँड में लेने के लिये तैयार हो गयीं। फिर खुद ही अपने हाथ पीछे लेकर उन्होंने अपने चूतड़ फैला कर अपनी गाँड का सुराख नमूद कर दिया। मैंने देखा कि खाला के गोरे-गोरे चूतड़ों के बीच उनकी गाँड के सुराख के चारों तरफ गहरी सी कटोरी बनी हुई थी जोकि नज़ीर के मुताबिकसालों तक खूब गाँड मरवाने से बनती है। करामत ने झुक कर अपने अज़ीम लंड का टोपा खाला की गाँड में घुसाया तो खाला फिर मस्ती में कराहते हुए बोली – “ओहह अल्लाह! चोद दे मेरी गाँड! ओह हाँ… चोद… कितना शदीद लौड़ा है तेरा! घुसेड़ दे अंदर!” करामत ने ज़ोर लगाना शुरू कर दिया। लंड के आगे वाला कुछ हिस्सा तो आसानी से खाला की गाँड में दाखिल हो गया और फिर करामत को बाकी का लंड घुसेड़ने के लिये थोड़ा ज़ोर लगाना पड़ा। खाला भी बेकरार होकर उन दोनों के बीच में अपने चूतड़ घुमा-घुमा कर उछलने लगीं और नज़ीर के लंड पर अपनी चूत के घस्से मारते हुए करामत के लंड पर भी अपनी फैली हुई गाँड के घस्से मारने लगीं।


अपना लंड जड़ तक खाला की गाँड में घुसेड़ने के बाद करामत कुछ सेकेंड रुका और फिर ज़ोर-ज़ोर से अपना लंड उनकी गाँड में अंदर बाहर पेलने लगा। “मेरी चूत चोदो! मारो मेरी गाँड! आआआह्हहह… मारो… चोदो…!” – अम्बरीन खाला ज़ोर से चिल्लाते हुए बोलीं। दोनों अज़ीम लौड़े ज्यादा से ज्यादा अपनी चूत और गाँड में लेने की बेकरारी में वो खुद भी ज़ोर-ज़ोर से अपने चूतड़ आगे-पीछे और ऊपर नीचे चला रही थीं। कुछ ही देर में अम्बरीन खाला का जिस्म ऐंठ कर ज़ोर-ज़ोर से थरथराने लगा औ वो ज़ोर से चिल्लायीं – “ऊँऊँहहह! चोदो… चोदो मेरी फुद्दी… मेरी गाँड… मेरा निकला… आआआआईईई!” ये कहते हुए उनकी चूत ने पानी छोड़ दिया। तकरीबन एक मिनट तक उनका जिस्म ऐंठ कर इसी तरह थरथराता रहा और उनकी आँखें पलट सी गयीं। फिर वो नज़ीर की छाती पर सिर रख कर हाँफने लगीं और आहिस्ता से बोलीं – “अब अपनी जगह बदल लो… नज़ीर तुम गाँड में और करामत मेरी चूत में!”


थोड़ी देर में करामत बेड पर खाला के नीचे लेट कर उनकी चूत में अपना लंड पेल रहा था और नज़ीर पीछे से खाला के चूतड़ों पर झुका हुआ उनकी गाँड अपने लौड़े से मार रहा था। अम्बरीन खाला पुरजोश होकर फिर से ज़ोर-ज़ोर से कराहते हुए और मस्ती में अनापशनाप बोलते हुए अपनी गाँड और चूत में एक साथ दो-दो अज़ीम लौड़ों के घस्सों का मज़ा ले रही थीं। जल्दी ही खाला अमबरीन का जिस्म एक दफ़ा फिर ऐंठ कर थरथराने लगा और वो खल्लास हो गयीं।उसी वक्त करामत के लंड ने भी उनकी चूत में अपनी मनी छोड़ दी। नज़ीर ने ज़ोर-ज़ोर से खाला की गाँड में घस्से मारना ज़ारी रखा और फिर उसने भी खाला की गाँड में अपनी मनि भर दी।


मैंने देखा कि अम्मी तो इतनी देर में शायद नशे और थकान से चूर होकर सो गयीं थीं। सोते हुए भी उनके चेहरे पर तस्कीन नुमाया नज़र आ रही थी। नज़ीर और करामत ने अपने लंड अम्बरीन खाला की गाँड और चूत में से निकालने के बाद बारी-बारी बाथरूम गये। अम्बरीन खाला ने मुझे इशारे से रुपये लाने को कहा तो मैंने दूसरे कमरे से पचास-हज़ार रुपये लाकर नज़ीर को दे दिये। अम्बरीन खाला ने उससे कहा कि अब वो फिल्म हमारे हवाले कर दे तो उसने कहा कि – “मेरे साथ चलो।“ अम्बरीन खाला तो नशे और थकान में कहीं जाने की हालत में थी नहीं तो उन्होंने मुझे नज़ीर के साथ अकेले जाने को कहा। मैं नज़ीर और करामत के साथ रिक्शा में हज़ुरी बाग़ गया जहाँ पर नज़ीर ने डी-वी-डी मुझे दी और कहा कि – “ये लो मज़े कर!” मैंने पूछा कि इसकी क्या गारंटी है कि उसने फिल्म कि और कॉपियाँ नहीं बनायीं। वो बोला कि वो मुल्क से बाहर जा रहा है और उसे अब इस फिल्म कि ज़रूरत नहीं है।


करीब एक घंटे बाद जब मैं घर पहुँचा तो अम्मी और अम्बरीन खाला दोनों बेडरूम में उसी नंगी हालत में बेखबर सो रही थीं। मैं भी अपने कमरे में आ गया। मेरे ज़हन में अम्मी और अम्बरीन खाला की चुदाई की फिल्म मुसलसल चल रही थी। नज़ीर और करामत कैसे खौफ़नाक तरीके से अम्मी और अम्बरीन खाला को चोद रहे थे और वो दोनों बहनें भी कितनी बेशरम और बिंदास होकर मज़े लेते हुए चुदवा रही थीं। अम्मी और अम्बरीन खाला ने शराब नशे की हालत में अपनी हरामकारी के कितने ही राज़ भी फ़ाश कर दिये थे। अब मुझे यकीन हो गया था कि अम्बरीन खाला को चुदाई के लिये मनाना मुश्किल नहीं होगा।


कुछ देर बाद अम्मी के बेडरूम की तरफ से कुछ आवाज़ें आयी तो मैंने वहाँ जाकर देखा कि अम्मी और अम्बरीन खाला जाग गयी थीं। अम्मी अपने कपड़े पहन चुकी थीं और खाला उस वक़्त बाथरूम में थीं। फिर खाला कपड़े पहन कर तैयार होके बाथरूम से बाहर अयीं। दोनों की आँखें थोड़ी लाल थीं लेकिन अम्मी और अम्बरीन खाला दोनों ही बिल्कुल नॉर्मल और हशाश-बशाश नज़र आ रही थीं। हमने नज़ीर की दी हुई डी-वी-डी को डी-वी-डी प्लयेर में लगा कर चेक किया और फिर उसे तोड़ कर उसके कईं टुकड़े कर दिये तकि वो दोबारा कभी इस्तेमाल ना हो सके। एक बहुत बड़ा बोझ हमारे सर से उतर गया था। मेरी छठी हिस कह रही थी कि नज़ीर अब हमारी ज़िंदगी से हमेशा के लिये निकल चुका है।अगर वो मुल्क से बाहर ना भी जाता तो बार-बार यहाँ आ कर अपने आप को खतरे में नहीं डाल सकता था।


फिर अम्मी बोलीं कि – “अब हमें परेशान होने की ज़रूरत नहीं है! हमने जो किया खानदान को एक बहुत बड़ी मुश्किल से निकालने के लिये किया!” अम्बरीन खाला बोलीं कि – “वो तो ठीक है मगर मेरी और तुम्हारी इज़्ज़त भी तो लुट गयी इस सारे-मामले में!” अम्बरीन खाला को अपनी इज़्ज़त का राग अलापने का बहुत शौक था। मैं कसम खा सकता था कि अगर उन्हें दोबारा मौका मिलता और उन पर को‌ई इल्ज़ाम ना आता तो वो ज़रूर नज़ीर और करामत से चूत और गाँड मरवाने के लिये फौरन नंगी हो जाती। अम्मी और अम्बरीन खाला को शायाद एहसास नहीं था कि शराब और हवस के नशे में वो अपनी ज़िनाकारी और शहवत-परस्ती मेरे सामने कबूल कर चुकी हैं। मैंने कहा कि – “ऐसा बिल्कुल नहीं हु‌आ क्योंकि किसी को कुछ पता नहीं है। हमें ऐसी बात सोचनी भी नहीं चाहिये!” फिर अम्बरीन खाला ने अपने ड्रा‌इवर को फोन करके कार लाने को कहा और थोड़ी देर में वो अपने घर चली गयीं।


फिर मैं इम्तिहान के तैयारी में मसरूफ़ हो गया लेकिन अम्मी को रोज़ाना एक बार तो चोदता ही था और राशिद भी हर दूसरे दिन मेरी गैर-हाज़िरी में आकर अम्मी को चोद जाता था। दो-तिन दिन के बाद चुदाई के दौरान मैंने अम्मी से कहा कि – “मैं भी अम्बरीन खाला को चोदना चाहता हूँ।“ अम्मी बोलीं – “मुझे को‌ई एतराज़ नहीं है अगर तुम अम्बरीन को चोदो लेकिन अम्बरीन क्यों इसके लि‌ए रज़ामंद होगी?” मैंने कहा कि – “मुझे यकीन है कि वो मुझे अपनी चूत देने के लिये राज़ी हो जायेंगी। जरूरत पड़ी तो मैं उन्हें बता दुँगा कि राशिद ने आपके साथ क्या किया है।” अम्मी बोलीं – “हो सकता है कि वो नाराज़ हो कर राशिद को ही घर से निकाल दें या अपने शौहर से उसकी शिकायत कर दे।” मैंने कहा– “अम्मी आप फिक्र ना करें… मैं ऐसी को‌ई नौबत नहीं आने दुँगा!” अम्मी बोलीं – “ठीक है, मुझे को‌ई ऐतराज़ नहीं है। लेकिन पहले अपने इम्तिहान पर ध्यान दो। इम्तिहान खतम के बाद तुम कोशिश कर के देखो। अगर अम्बरीन मान गयी तो वो बार-बार तुम्हें अपनी चूत देना चाहेगी।”


यह सुन कर तो फख्र से मेरा सीना तन गया, और सीना ही नहीं मेरा हथियार भी। जब उन्होंने अपनी रानों पर उसका तनाव महसूस किया तो हमारा खेल फिर शुरू हो गया और काफी लंबा चला। उनकी चूत का लुत्फ़ लेते हु‌ए मैं अम्बरीन खाला की चूत के बारे में ही सोचता रहा।


इम्तिहान खतम होने के अगले दिन मैं खाला के घर गया। नज़ीर और करामत वाले वाक़िये के बाद मैं पहली बार उनसे रूबरू हु‌आ था। अम्बरीन खाला बिल्कुल नॉर्मल तरीके से पेश आयीं और मेरी खैरियत वगैरह पूछी और पीने के लिये जूस दिया। फिर उन्होंने मुझे शुक्रिया कहा कि उस दिन नज़ीर और करामत वाले वाक़िये में मैंने काफी समझदारी से सब कुछ संभाला और मैं ध्यान रखूँ कि किसी को भी पता ना चले तो उनकी और मेरी अम्मी की इज्ज़त महफूज़ रहेगी। अब भी वो अपनी इज़्ज़त का राग़ अलाप रही थीं लेकिन मैंने उन्हें यकीन दिलाते हु‌ए कहा – “आप मेरी तरफ से बेफिक्र रहें। मैं आपकी इज्ज़त पर कभी आंच नहीं आने दुँगा।”


फिर खाला बोलीं – “वैसे काफी अर्से से आये नहीं तुम… खाला अच्छी नहीं लगती क्या अब?” मैं थोड़ा शर्मिंदा होते हु‌ए कहा कि – “नहीं खाला ऐसी बात नहीं है… वो बस इम्तिहान की मसरूफियत की वजह से नहीं आ सका!”


फिर वो तंज़िया अंदाज़ में मुस्कुराते हु‌ए बोली – “पींडी में अपनी उस रात की हर्कत की वजह से तो नहीं डर गये थे?” मैं कुछ नहीं बोला और अपनी नज़रें झुका लीं तो वो बोली – “इसमें शर्माने की ज़रूरत नहीं… तुम्हें क्या लगता है कि उस दिन जो तुम मेरे साथ कर रहे थे वो क्या मेरी रज़ामंदी के बगैर मुमकिन था!” खाला की बात सुन कर मैं चौंकते हु‌ए बोला – “मैं समझा नहीं खाला!” खाला बोलीं – “मैं उस दिन नशे में ज़रूर थी लेकिन इतना भी मदहोश नहीं थी कि तुम्हारे मंसूबे ना समझ पाती… उस दिन जो कुछ तुम मेरे साथ कर रहे थे और आगे करने वाले थे उसमें मेरी पूरी रज़ामंदी शामिल थी…!”


उनकी बात सुनकर मेरा दिल खुशी से उछलने लगा मगर मैं अपने जज़बतों पर काबू रखते हु‌ए बोला – “ये.. ये सच कह रही हैं आप?” वो हंसते हु‌ए बोलीं – “एक औरत को मर्द की नज़र पहचानते देर नहीं लगती। मैं तो काफ़ी अर्से से तुम्हारे दिल की बात जानती थी… तुम्हें क्या लगा कि मुझे पता नहीं चलता था कि अक्सर मेरी ब्रा-पैंटी और सैंडलों तक पे अपनी मनि इखराज़ करने वाला कौन है? फिर उस दिन होटल में जब तुम मुझे ज्यादा शराब पिलाने लगे तो मैं उसी वक़्त तुम्हारे इरादे समझ गयी थी। उस दिन अगर नज़ीर नहीं आता तो…. वैसे तुम्हें अफ़्सोस तो खूब हु‌आ होगा उस दिन कि जो मज़े तुम मेरे साथ करना चाहते थे वो मज़े तो मुझे चोद कर नज़ीर ले गया!”


खाला अब काफ़ी खुल कर बोल रही थीं तो मैंने भी खुल कर जवाब दिया कि – “उस दिन तो मैं काफ़ी खतावार महसूस कर रहा था लेकिन जब उस दिन नज़ीर और करामत हमारे घर पे अम्मी को और आपको चोद कर गये तो ज़रूर दिल में ये ख्याल आया कि जब नज़ीर और करामत जैसे ग़लीज़ इंसान आप जैसी हसीन औरत को चोद सकते हैं मैं क्यों नहीं?”


“तो तुम्हारा ख़याल है कि तुम चोदने में नज़ीर और करामत जैसे तजुर्बेकार मर्दों से बेहतर हो… अपनी उम्र देखी है… इतनी सी उम्र में कुछ ज्यादा पर-पुर्ज़े नहीं निकल आये तुम्हारे?” – अम्बरीन खाला तंज़िया लहज़े में बोलीं तो जोश में मेरे मुँह से निकल गया – “लेकिन मैं भी बच्चा नहीं हूँ और फिर राशिद तो मुझसे भी छोटा है…?” मुझे अपनी गलती का एहसा‌अस हु‌आ तो मैं आगे बोलते-बोलते रुक गया लेकिन गोली तो बंदुक से निकल चुकी थी।


“राशिद? राशिद का इस सबसे क्या ताल्लुक.. क्या मतलब है तुम्हारा?” – अम्बरीन खाला ने चौंकते हु‌ए पूछा। मैंने उन्हें हिचकते-हिचकते बताया कि उनके बेटे ने मेरी अम्मी के साथ क्या किया था। सुन कर उन्हें यकीन नहीं हु‌आ। उन्होंने हैरत से कहा – “राशिद ऐसा कैसे कर सकता है? और वो भी अपनी खाला के साथ! तुम झूठ तो नहीं बोल रहे हो?” मैंने अपना मोबा‌ईल निकाला और उन्हें कहा – “आपको लगता है मैं झूठ बोल रहा हूँ तो ये देखिये।” तस्वीरें देख कर वो चौंक गयीं। वो बोलीं – “तुमने यास्मीन या राशिद को तो नहीं बताया ना कि तुम यह जान चुके हो?” मैंने उन्हें जवाब दिया – “ये देख कर मुझे इतना गुस्सा आया कि मैं राशिद की गर्दन नापने वाला था। किसी तरह मैंने अपने गुस्से पर काबू किया पर मैं यह राज़ अम्मी के सामने जाहिर करने से अपने आपको नहीं रोक पाया।”


यह सुन कर खाला कर बोलीं – “राशिद पे क्यों गुस्सा हो रहे हो, शाकिर। मैं तुम्हारी खाला हूँ और तुम भी तो मुझे चोदने के कितने अर्से से ख्वाब देख रहे हो और फिर होटल में तुमने भी मेरे साथ वही करने की कोशिश की थी जो राशिद ने अपनी खाला के साथ किया है।” मैंने कहा – “खालाजान, मैंने तो सिर्फ कोशिश की थी। राशिद ने तो मेरी अम्मी की चूत हासिल भी कर ली। और होटल में वो दो कौड़ी का नजीर आपकी इज्ज़त का मज़ा लूट कर चला गया पर मुझे क्या मिला?”


खाला मेरा गाल सहलाते हु‌ए प्यार से बोलीं – “तो मैं कहाँ इंकार कर रही हूँ… अगर उस रात होटल में नज़ीर नहीं आ गया होता तो मैं तो मैं उसी रात तुम्हें अपनी चूत दे चुकी होती!” “तो आपको सच में मुझसे चुदवाने में को‌ई एतराज़ नहीं है!” – मैंने पूछा। खाला बोलीं – “मुझे तो क्या एतराज़ हो सकता है लेकिन ये बता‌ओ तुम्हारी अम्मी का क्या रियेक्शन था जब तुमने उन्हें बताया कि तुम्हें उनके और राशिद के नाजायज़ रिश्ते का इल्म हो चुका है?”


मैंने अपनी और अम्मी की सारी हक़ीकत बयान कर दी। खाला ये सुन कर हैरान हु‌ई लेकिन फिर तंज़िया मुस्कान के साथ बोलीं – “यास्मीन को लगता है कि कुछ ज्यादा ही गर्मी चढ़ी है… अपने भांजे के साथ-साथ बेटे का भी लंड ले रही है… तभी उस दिन तुम्हारे सामने नज़ीर और करामत से चुदवाने में उसे ज़रा भी शरम नहीं आयी!”


मैं अपनी अम्मी की हिमायत करते हु‌ए बोला – “खाला आप भी तो कुछ कम नहीं हैं… आपको शायद याद नहीं है लेकिन उस दिन नशे में आपने अपनी हरामकारी के कईं राज़ फ़ाश कर दिये थे…!” मेरी बात सुनकर शर्म से उनके गाल लाल हो गये और पूछा कि नशे मे वो क्या-क्या बोल गयीं। मैंने उन्हें जब सब कुछ तफ़्सील से बताया तो वो काफ़ी शर्मिंदा हु‌ईं। मैंने कहा कि –  “मेरे हाथों में आपकी इज्ज़त भी महफूज़ रहेगी क्योंकि मैं ये बातें कभी किसी से नहीं कहुँगा।”


फिर अम्बरीन खाला बोलीं – “मैं तुमसे चुदवाने को तैयार हूँ लेकिन मेरी एक शर्त है कि जब तुम मुझे चोदो तो यस्मीन और राशिद भी उस वक्त मौजूद हों… जब तुम मुझे चोदो तो राशिद भी यास्मीन को चोदेगा… बस तुम उन दोनों को इस बात के लिये राज़ी कर लो!”


मुझे भी खाला की बात सुनकर बेहद खुशी हु‌ई क्योंकि अनजाने में ही सही राशिद ने मेरी अम्मी को मेरी आँखों के सामने चोदा था। मैं भी उसकी अम्मी को उसके सामने चोदना चाहता था। मैंने कहा कि – “अम्मी को तो इसमें को‌ई एतराज़ नहीं होगा और राशिद को भी मैं किसी तरह राज़ी कर लुँगा।“ फिर उसी दिन मैंने राशिद से भी बात की। इधर-उधर की बात ना करके मैंने सीधे उस से पूछा – “तुमने कितनी बार ली है मेरी अम्मी की?”


वो चौंक कर बोला – “खाला की…? क्या…? ये क्या कह रहे तो तुम?” मैं गुस्से से बोला – “क्या का क्या मतलब? तुमने उनकी चूत के अलावा कुछ और भी ली है?” राशिद सकपका कर बोला – “ये क्या बक रहे हो तुम, शाकिर भा‌ई? तुम्हें जरूर को‌ई गलतफहमी हु‌ई है।” मैंने उसे मोबा‌ईल वाला वीडियो दिखाते हु‌ए पूछा – “अच्छा, तो ये क्या है?”


वीडियो देखते ही उसकी सिट्टी-पिट्टी गुम हो गयी। वो सर झुका कर बोला – “शाकिर भा‌ई, इसमें मेरी को‌ई गलती नहीं है। मुझे ये नहीं करना चाहि‌ए था पर मैं बहकावे में आ गया।” मैंने उसके गाल पर एक थप्पड़ रसीद किया और कहा –“अच्छा, तो मेरी चालाक अम्मी ने तुम्हारे जैसे मासूम बच्चे को बहका दिया था?” राशिद बोला – “मुझे माफ कर दो, भा‌ई। मैं अब ऐसी गलती कभी नहीं करुँगा। मैं अपनी अम्मी की कसम खाता हूँ… यास्मीन खाला ने ही पहल की थी… मेरा यक़ीन करो!”


मुझे अंदाज़ा तो था कि राशिद सही बोल रहा है लेकिन मैं फिर गुस्से से बोला – “क्या बकवास कर रहा है… मेरी अम्मी ऐसा क्यों करेंगी!” फिर राशिद ने तफ़्सील से बताया कि मेरी अम्मी एक नम्बर की ऐय्याश हैं और कईं गैर-मर्दों से उनके जिस्मानी ताल्लुकात हैं। अब्बू और हम भा‌ई-बहन की गैर-हाज़री में अम्मी घर में अक्सर गैर-मर्दों से चुदवाती हैं और कईं दफ़ा तो दो-तीन मर्दों के साथ ग्रुप-चुदा‌ई का मज़ा लेती हैं।


मुझे तो पहले से ही अपनी अम्मी की हरामकारी का अंदाज़ा था और अब राशिद ने भी तसदीक़ कर दी। मैंने राशिद से कहा कि – “जो भी हो लेकिन तूने मेरी अम्मी की चूत ली है, अब मुझे अपनी अम्मी की चूत दिला।” राशिद बोला –“भा‌ई मैं ये कैसे कर सकता हूँ…? मैं अपनी अम्मी से ऐसी बात कैसे कर सकता हूँ? हाँ तुम खुद उन्हें तैयार कर लो तो मुझे को‌ई ऐतराज़ नहीं है…।” यह सुन कर मेरी साँस में साँस आयी। खाला तो पहले ही मान चुकी थीं। मुझे सिर्फ राशिद के सामने ड्रामा करना था। मैंने कहा – “ठीक है, मैं ही कोशिश करता हूँ। पर तुम वही करोगे जो मैं कहुँगा?” राशिद बोला – “शाकिर भाई, मुझे तुम्हारी हर बात मंज़ूर है और तुम फ़िक्र ना करो… तुम्हारे लिये अम्मी को राज़ी करना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा!”


मैंने पूछा – “क्या मतलब?” तो उसने बताया कि किस तरह उसकी अम्मी तो मेरी अम्मी से भी ज्यादा ऐय्याश और बदकार है। अपनी अम्मी और अम्बरीन खाला के ज़निब जो बातें मैं ऊपरी तौर पे जानता था वो अब राशिद तफ़सील से बता रहा था। उसने बताया कि मेरे नवाज़ खालू तो काफी वक़्त दुबा‌ई में रहते हैं और अम्बरीन खाला रात-रात भर क्लबों और पार्टियों में गैर-मर्दों के साथ ऐय्याशियाँ करती हैं और अक्सर पूरी-पूरी रात घर नहीं आती। अक्सर घर पे भी रात को अपने बेडरूम में गैर-मर्दों के साथ चुदवाती हैं और उसने खुद छुपकर अपनी अम्मी को कईं दफ़ा गैर-मर्दों की बाहों में नंगी होकर चुदते देखा है। राशिद ने बताया कि उसकी अम्मी अपने ड्रा‌इवर और नौकरों से भी चुदवाती है।लेखक: शकिर अली।


फिर राशिद बोला – “शाकिर भाई…, अब तो तुम मेरे से नाराज़ नहीं हो?” मैंने उसे कहा कि मैं चाहता हूँ कि वो अपनी अम्मी को मुझसे चुदते हु‌ए देखे। मुझे लगा था कि ये बात सुनकर शायद राशिद मना करेगा लेकिन वो बोला कि –“शाकिर भा‌ई, मैं तुम्हारी बात मानने के लि‌ए तैयार हूँ पर तुम बुरा ना मानो तो मैं एक तजबीज तुम्हारे सामने रखूँ?” मैंने कहा – “ठीक है, बता‌ओ।” तो वो बोला कि – “भा‌ई थोडा मेरा भी खयाल रखना… आजकल यास्मीन खाला मुझे ज्यादा तवज्जो नहीं दे रही हैं… मेरी अम्मी को चोदने के बाद किसी तरह मुझे भी मेरी अम्मी की दिलवा दो तो मेरा भी घर में ही इंतज़ाम हो जायेगा… तुम मेरी अम्मी के साथ आगे भी मज़े कर सकोगे… मैं तुम्हें कभी नहीं रोकुँगा।“ मैं उसकी बात सुनकर चौंक गया। अगर्चे मैं खुद अपनी अम्मी की ले रहा था पर राशिद को तो यह मालूम नहीं था।


मैंने कहा – “ये क्या कह रहे हो राशिद? अम्बरीन खाला को अपने ही बेटे से चुदवाने के लिये राज़ी करना आसान नहीं होगा!” राशिद बोला – “भा‌ई, मैंने तुम्हें बताया ना कि अम्मी कितनी बड़ी बदकार है… मैं तो खुद ही कोशीश करने की सोच रहा था लेकिन तुम्हारी वजह से ये और आसान हो जायेगा!” मैंने कहा कि – “मैं कोशिश करके देखता हूँ।“


मैंने पहले अम्मी से बात की और उन्हें अम्बरीन खाला की शर्त और राशिद की ख्वाहिश के बारे में बताया। अम्मी को तो पहले ही को‌ई ऐतराज़ नहीं था और बोलीं कि वो खुद अम्बरीन खाला से बात करके प्रोग्राम तय कर लेंगी। दो दिन बाद अब्बू को फिर से कुछ दिनों के लिये कराची जाना था तो अम्मी और अम्बरीन खाला ने इस बार उनके घर पे मिलने का प्लैन बनाया। मैंने राशिद को भी फोन करके बता दिया कि उसकी अम्मी राज़ी हो गयी हैं कि हम चारों एक साथ चुदा‌ई करेंगे लेकिन इसके लिये उसकी अम्मी को उसके अपनी खाला मतलब कि मेरी अम्मी के साथ ताल्लुकात के बारे में बताना पड़ा।


दो दिन के बाद मेरे छोटे भा‌ई-बहन को नाना के घर छोड़ने के बाद शाम छः बजे मैं और अम्मी अम्बरीन खाला के घर पहुँचे। अम्मी आज भी खूब अच्छे से मेक-अप करके तैयार हु‌ई थीं। अम्मी ने गुलाबी रंग की बगै‌र आस्तीनों वाली कमीज़ पहनी थी जिसका गला बेहद गहरा था। सफ़ेद रंग की टा‌इट सलवार के साथ काले रंग के ऊँची पेन्सिल हील के सैंडल पहने थे और बेहद हसीन लग रही थीं। खाला भी बेहद खूबसूरत और सैक्सी लग रही थीं। उन्होंने नीले रंग का डिज़ायनर जोड़ा और सफ़ेद रंग के ऊँची ऐड़ी वाले सैंडल पहने हु‌ए थे। अम्बरीन खाला का छोटा बेटा अपने दादा के घर पर था। हम चरों ड्रा‌इंग रूम में बैठ कर बातचीत करने लगे। खाला और अम्मी शराब पी रही थीं और मैं और राशिद जूस पी रहे थे। मैं थोड़ा नर्वस महसूस कर रहा था और दिल भी धड़क रहा था। राशिद का भी कुछ ऐसा ही हाल था लेकिन अम्मी और अम्बरीन खाला नॉर्मल थीं। शायद इसलिये कि उन दोनों को तो गैर-मर्दों से चुदवाते रहने की आदत थी। थोड़ी देर बाद खाला ने राशिद को मुझे बेडरूम में ले जाने को कहा और बोलीं कि वो और मेरी अम्मी भी थोड़ी देर में आ जायेंगी। हम दोनों अम्बरीन खाला के शानदार बेडरूम में आ गये।


थोड़ी देर बाद अम्मी और अम्बरीन खाला भी बेडरूम में आ गयीं। दोनों शराब के हल्के नशे में मस्त थीं। अम्बरीन खाला आकर बेड पर मेरे पास बैठ गयीं और मेरी गर्दन एक बाँह हाथ डाल कर मेरे गाल चूमने लगीं और एक हाथ मेरी रान पर रख कर सहलने लगी। मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैं भी शिद्दत से उन्हें चूमने लगा। अम्मी भी बेड पर दूसरी तरफ़ राशिद के बराबर में बैठ गयीं और दोनों मुझे और अम्बरीन खाला को आपस में चूमते हु‌ए देख रहे थे। थोड़ी देर में अम्बरीन खाला ने लेटते हु‌ए मुझे खींच कर अपने ऊपर झुका लिया और मेरे होंठों पर अपने होंठ रख दिये। मैंने भी अपने होंठ उनके नर्म रसीले होंठों से चिपका दिये। मैं उनके बोसे लेता रहा और वो जवाब में अपने लिपस्टिक लगे होठों से मुझे चूमती रहीं। मेरा लंड तन कर फौलाद बन गया था। उनके होंठों और गालों को जी भर के चूसने के बाद मैं उठा और जल्दी-जल्दी अपने कपड़े उतारने लगा।


नंगा होने के बाद मैं खाला के सामने खड़ा हो गया और अपना लंड उनके मुँह के सामने कर दिया। खाला ने बिला-झिझक मेरा लंड हाथ में थाम कर मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगीं। उधर अम्मी ने भी राशिद को नंगा कर दिया था और उसका लंड चूस रही थीं। बेडरूम में स्प्लिट ए-सी की हल्की आवाज़ के बावजूद मेरा लंड चूसते हु‌ए अम्बरीन खाला के मुँह से ‘सपड़-सपड़’ की आवाज़ें सुनायी दे रही थीं। थोड़ी देर लंड चुसा‌ई के बाद खाला और अम्मी ने भी अपने-अपने कपड़े उतार दिये और ऊँची हील के सैंडल छोड़ कर बिल्कुल नंगी हो गयीं। मैं क‌ईं दिनों बाद अम्बरीन खाला के नंगे जिस्म का दीदार कर रहा था। हम दोनों के लंड टनटना रहे थे। मैंने खाला को आगोश में ले लिया और अपने हाथ पीछे ले जा कर उनके मांसल चूतड़ों को दबाने लगा। उधर राशिद भी यही कर रहा था। राशिद ने अम्मी को बिस्तर पर लेटा कर उनके होठों को अपने मुँह में लिया और दोनों हाथों से उनके मम्मे मसलने लगा। अम्मी अपना मुँह खोल कर उस का साथ दे रही थीं। दोनों बुरी तरह एक दूसरे को चूम-चाट रहे थे।


मैं भी कहाँ पीछे रहने वाला था। मैंने अम्बरीन खाला को अम्मी के पास लिटाया और उनके होंठों और मम्मों पर काबिज़ हो गया। बेडरूम में चूमा-चाटी की आवाज़ें फैली हु‌ई थीं। होंठों और गालों की दावत उड़ाने के बाद मैंने अम्बरीन खाला की चूचियों की जानिब रुख किया। मुझे उनकी चूचियों का रस पीते देख कर राशिद ने भी अपना मुँह मेरी अम्मी की चूचियों पर रख दिया। कुछ ही देर में खाला और अम्मी के जिस्म बुरी तरह मचलने लगे।


जाहिर था कि दोनों की रानों के बीच आग लग चुकी थी। मैं अम्बरीन खाला को और तडपाना चाहता था मगर जब उन्होंने मुझे अपने ऊपर आने को कहा तो मैं अपने आप को नहीं रोक पाया। जिस लम्हे का मैं अरसे से मुन्तज़िर था वो आ चुका था और मेरा लंड भी मेरे काबू में नहीं था। मैंने खाला को अपने नीचे लिया और अपना लंड उनकी चूत पर रख दिया। मैं आहिस्ता-आहिस्ता हल्के घस्से लगाने लगा। वो भी अपने जिस्म को ऊपर-नीचे हरकत दे रही थीं। जल्द ही उनकी चूत ने मेरे लंड को अपने अंदर जज्ब कर लिया। उनकी चूत अम्मी जैसी टा‌इट नहीं थी पर थी लज्ज़तदार। मैं अम्बरीन खाला की चूत में घस्से मारने लगा। धक्कों की वजह से उनके मम्मे डाँस कर रहे थे।


राशिद ने अपनी अम्मी को चुदते देखा तो उसने मेरी अम्मी की टाँगें उठा कर अपने कंधों पर रख लीं। अम्मी की चूत का मुँह उस के सामने आ गया। राशिद ने जब अपना लंड अम्मी की चूत में डाला तो अम्मी की टाँगें उनके सीने की तरफ आ गयीं। राशिद ने अपना पूरा वज़न डाल कर अम्मी के घुटने उनके सीने से मिला दिये और उनकी उभरी हु‌ई चूत में घस्से मारने लगा। वो खास ताक़तवर नज़र नहीं आता था मगर उसने अम्मी जैसी तंदरुस्त औरत को बड़ी अच्छी तरह क़ाबू किया हु‌आ था। अम्मी उसके हर घस्से पर सिसक रही थीं। उनकी चूत पानी छोड़ रही थी जिसकी वजह से राशिद का काम आसान हो गया था। कुछ ही देर में वो धु‌आंधार घस्से मारने लगा। फिर उसके चेहरे के नक्श बिगड़ गये। उसका जिस्म लरजने लगा और कुछ लम्हों के बाद वो बेसुध-सा अम्मी के ऊपर गिर गया। मैं समझ गया कि उसका लंड खाली हो चुका था।


राशिद को खल्लास होते देख कर मुझे खुशी हु‌ई के में उससे पहले नहीं झड़ा। मैंने अपने धक्के थोड़े हलके कर दिये। मैं अब भी उनकी चूत का मज़ा ले रहा था पर धक्के हलके होने पर अम्बरीन खाला थोड़ी बेचैन हो गयीं। उन्होंने बेबसी से मेरी तरफ देखा। उनकी नज़रें मुझे खामोशी से कह रही थीं कि ‘शाकिर, अब देर ना करो।‘ मैं उनकी चूत में खल्लास होने की नियत से जबरदस्त घस्से लगाने लगा। जल्द ही मुझे अपने लंड के सुपाड़े पर एक मीठी गुदगुदी महसूस हु‌ई और मैंने अम्बरीन खाला की चूत में ताबड़तोड़ घस्से मारने शुरू कर दिये। वे भी अपने जिस्म की सारी ताक़त लगा कर नीचे से धक्के लगा रही थीं। हमारी मेहनत रंग लायी और मेरे लंड ने उनकी चूत में पिचकारियाँ मारनी शुरू कर दीं। मेरे साथ-साथ खाला का भी पानी निकल गया और वो बेदम सी हो गयीं। मैं भी निढाल हो कर उनके ऊपर लेट गया। थोड़ी देर बाद हम सब उठे और नंगे ही बैठ कर मैं और राशिद जूस पीने लगे और अम्मी और खाला शराब पी रही थीं। इतनी लज़्ज़तदार और बेबाक चुदा‌ई के बाद हम काफी बेतकल्लुफ हो चुके थे।


राशिद बोला –  “शाकिर भा‌ई, अब तो तुम गुस्सा नहीं हो? तुम जो चाहते थे वो हो गया ना?” मैंने जवाब दिया –  “ मुझे तो यकीन ही नहीं हो रहा है। लगता है मैं नींद में हूँ और अभी-अभी मैंने एक ख्वाब देखा है।” राशिद ने कहा – “यकीन तो मुझे भी नहीं हो रहा है। यह तो यास्मीन खाला और अम्मी ही बता सकती हैं कि कुछ हु‌आ था या नहीं!”


खाला हंसते हु‌ए बोलीं –  “बदमाश, अपनी अम्मी के सामने सब कुछ करने के बाद अब नाटक कर रहा है!” राशिद बोला –  “लेकिन शाकिर भा‌ई ने भी तो अपनी अम्मी के सामने आपको चोदा था!” खाला बोलीं –  “तुम दोनों ही बेशर्म हो।”तो मैंने कहा –  “तो आप दोनों भी को‌ई कम तो नहीं हो!”


अम्मी ने अम्बरीन खाला से पूछा –  “अम्बरीन, ये बता कि शाकिर ने तसल्लीबख्श तरीके से चोदा या नहीं?” खाला बोलीं –  “यकीनन शाकिर अपनी उम्र के हिसाब से बेहद महिर है चोदने में!” ये सुनकर राशिद मेरी अम्मी से बोला –  “खालाजान, जितनी देर शाकिर भा‌ई ने अम्मी की चोदा मैं उतनी देर आपको नहीं चोद पाया। आप का काम तो हु‌आ ही नहीं होगा।” अम्मी ने कहा –  “तुम भी चोदने में माहिर हो… आज शायद अपनी अम्मी की मौजूदगी की वजह से तुम जल्दी फारिग हो गये।”


मैं बोला – “अम्मी, सिर्फ ये वजह नहीं हो सकती। आपकी चूत है ही इतनी टा‌इट कि उसमे ज्यादा देर टिकना मुश्किल है।” राशिद चौंकते हु‌ए बोला – “ये तो सच है पर ये तुम्हें कैसे मालूम हु‌आ… कहीं तुम भी यास्मीन खाला को तो नहीं चोद रहे हो?” अब मुझे एहसास हु‌आ कि खाला को तो मैं बता चुका था कि मैं अम्मी को चोदता हूँ लेकिन राशिद को नहीं बताया था। अम्मी बोलीं –  “हाँ राशिद… ये सही है कि शाकिर भी मुझे चोदता है!” राशिद मुस्कुराते हु‌ए बोला –“वाह शाकिर भा‌ई… तुम्हारी तो ऐश है… अपनी अम्मी और खाला दोनों की चुदा‌ई का मज़ा ले रहे हो!” लेखक: शकिर अली।


खाला अमबरीन तंज़िया अंदाज़ में बोलीं – “लेकिन लगता है कि शाकिर को अपनी अम्मी की चूत ज्यादा पसंद है!” मैं बोला – “मैंने ये कब कहा? मेरा मतलब था कि अम्मी की ज्यादा टा‌इट है मगर लज्ज़त में खाला आपकी की चूत भी कम नहीं है। लेते वक्त ऐसा लगता है जैसे लंड एक फोम के गद्दे में लिपटा हु‌आ हो!”


राशिद बोला – “सच?” मैंने कहा – “तुम्हें यकीन नहीं है तो खुद चोद कर देख लो।” खाला बोलीं कि – “शाकिर, ये क्या कह रहे हो तुम?” मैंने जवाब दिया कि – “खालाजान, इसे भी तो पता चले कि इसकी अम्मी की चूत कितनी मज़ेदार है!” तो खाला बोलीं – “नहीं, यह ठीक नहीं है।” फिर जब अम्मी ने कहा कि – “अम्बरीन, अब मान भी जा‌ओ। राशिद को मायूस ना करो… तजुर्बे से कह रही हूँ कि राशिद भी कमाल की चुदा‌ई करता है?” तो अम्बरीन खाला मान गयीं।


 


फिर क्या था, अम्मी और खाला ने अपने-अपने गिलास खाली किये और खाला ने अपने बेटे को बाँहों में ले लिया और मैं भी अम्मी से लिपट कर उनके गालों और होंठों का रस पीने लगा। मेरे हाथ उनके चूतडों पर घूम रहे थे। राशिद भी कहाँ पीछे रहने वाला था। उसने अपनी अम्मी के होंठों को चूसते हु‌ए उनके मम्मों को अपने हाथों में ले लिया। मैंने अम्मी को बिस्तर पर लिटाया और मेरे होंठों ने उनकी चूचियों पर कब्ज़ा कर लिया। अम्बरीन खाला भी अब बिस्तरदराज़ हो चुकी थीं और राशिद उन पर चढ़ा हु‌आ था। वो उनके मम्मों को बिल्कुल दीवानों की तरह चूस रहा था। अम्बरीन खाला के मुँह से मस्ती की आवाज़ें निकलना शुरू हो गयीं थीं और वो आहिस्ता-आहिस्ता अपना सीना ऊपर कर रही थीं। ये मंज़र खून गरमा देने वाला था राशिद अब नीचे खिसका। उसने अपनी अम्मी की जांघों को खोला और अपना मुँह उनकी चूत पर रख दिया। जब उसने अपनी जीभ उनकी चूत पर फिसलानी शुरू की तो खाला ने बिस्तर की चादर पकड़ ली और “ऊँऊँह ऊँऊँह” करने लगीं। मैं भी नीचे आ गया और अम्मी की जांघों को फैला कर उनकी चूत पर ज़ुबान फेरने लगा। अम्मी और खाला मज़े से सिसकने लगीं। दोनों बहने एक दूसरे से चंद इंच के फ़ासले पर थीं। राशिद ने अम्बरीन खाला की चूत को चूमते हु‌ए उनकी गाँड के सुराख को देखा जो कभी खुल रहा था और कभी बंद हो रहा था। उसने अपनी उंगली उनके गाँड के सुराख पर रखी और उसे आहिस्ता से अंदर धकेला। अम्बरीन खाला ने एक तेज़ आवाज़ निकाली और अपने मम्मों को खुद ही मसलने लगीं। वो राशिद के दोहरे हमले को ज्यादा देर ना झेल सकीं। उनका जिस्म जोर से लहराया और वो झड़ने लगीं।


जब अम्बरीन खाला झड़ चुकीं तब राशिद ने अपना फूँकारता हु‌आ लंड उनके चेहरे के सामने कर दिया। तभी अम्मी ने मुझे इशारा किया कि मैं अपना लंड उनके मुँह में दे दूँ। मेरा लंड तो इंतज़ार कर रहा था कि उसे मुँह या चूत की गर्मी नसीब हो। मैंने अपना लंड उनके मुँह के सामने किया और उनके मुँह ने फ़ौरन उसे लपक लिया। ये देख कर राशिद ने भी अपना लंड अपनी अम्मी के मुँह पर रख दिया और अम्बरीन खाला अपने बेटे का लंड चूसने लगीं। इधर मैं अपना लंड आहिस्ता-आहिस्ता अम्मी के मुँह के अंदर-बाहर करने लगा। अम्मी चूसने के बीच-बीच में सुपाड़े को जीभ से सहला रही थीं। अम्मी के मुँह के अंदर मेरे लंड में मज़े की लहरें उठने लगीं। अम्बरीन खाला ने मुझे मज़े में मुब्तला देखा तो वे भी अपने बेटे को लंड-चुसा‌ई का लुत्फ़ देने में मशगूल हो गयीं। ऐसा लगता था कि दोनों बहनों के बीच कम्पीटिशन चल रहा था। अम्बरीन खाला शायद इस कम्पीटिशन में अव्वल निकली क्योंकि राशिद ने अचानक कहा – “बस अम्मी, अब छोड़ दो।”


वो अपना लंड उनके मुँह से बाहर खींच कर अपनी उखडती साँसों पर काबू पाने की कोशिश करने लगा। खाला ने परेशान -हाल हो कर पूछा – “क्या हु‌आ, राशिद?” राशिद थोड़ा नॉर्मल हु‌आ तो उसने कहा – “अम्मी, आप इतनी अच्छी तरह चूसती हैं! अगर एक मिनट की भी देर हो जाती तो मैं तो आपके मुँह में ही झड़ जाता।”


खाला ने मुस्कुरा कर कहा – “चलो, अब जहाँ झडना चाहते हो वहाँ डाल दो।” राशिद ने बिना वक्त गंवाय अपना लंड उनकी चूत के अंदर घुसा दिया। वो अपनी अम्मी को चोदने के लिये उतावला नज़र आ रहा था। लंड अंदर जाते ही वो कस कर घस्से मारने लगा। खाला ने उसे जल्दबाज़ी ना करने की हिदायत दी तो उसके धक्कों की तेज़ी कुछ कम हु‌ई। शायद खाला कोशिश कर रही थीं कि वो जल्दी ना झड़े।


इधर मेरा लंड भी अब मुँह की बजाय चूत की गिरफ्त का तलबगार था। मैं अम्मी की टाँगों के बीच आ गया। उनकी चूत अच्छी तरह भीग चुकी थीं। मैंने उनकी चूत पर लंड रख कर अपने चूतड़ों को आगे धकेला। मेरा लंड आसानी से रास्ता बनाता हु‌आ उनकी चूत के अंदर घुस गया। मैंने उन्हें हलके धक्कों से चोदना शुरू कर दिया। क्या दिलकश नज़ारा था! दोनों बहने सिर्फ ऊँची हील के सैंडल पहने बिल्कुल नंगी पास-पास लेटी थीं और उनके बेटे उनको खुल कर चोद रहे थे। हमारे लंड एक लय में उनकी फुद्दियों में अंदर-बाहर हो रहे थे। वो दोनों भी अपने चूतड़ उछाल-उछाल कर हमारा साथ दे रही थीं। हमारे झटकों से दोनों के मम्मे हिल रहे थे। अम्मी और अम्बरीन खाला वक़फे-वक़फे से एक दूसरे की तरफ भी देख लेतीं थीं। वो अब इस खेल का पूरा मज़ा ले रही थीं और दोनों के चेहरों पर इत्मीनान और सकून नज़र आ रहा था।


मैं चुदा‌ई में ज्यादा तजुर्बेकार नहीं था लेकिन फिर भी मुझे एहसास हो गया के अम्मी की चूत पानी छोड़ने वाली है। उनके मुँह से बे-हंगम आवाज़ें निकल रही थी और उनकी कमर तेजी से झटके खा रही थी। उनको मंजिल तक पहुँचाने के लिये मैंने अपने धक्कों की ताकत बढ़ा दी। अचानक उनका जिस्म अकड़ा और उनकी साँसें थम सी गयीं। मैं समझ गया कि उनका काम हो गया था। मेरा लंड अब भी उनकी चूत के अंदर था। मैंने बड़ी मुश्किल से अपने आप को संभाला। जब अम्मी थोड़ी नॉर्मल हु‌ईं तो मैंने फिर घस्से मारने शुरू किये लेकिन अब मुझे अपना लंड उनकी चूत के ज्यादा अंदर पहुँचाने में मुश्किल हो रही थी। मैंने अपना लंड बाहर निकाला और सीधा लेट कर उन्हें अपने लंड पर चढा लिया। मेरा लंड फिर अम्मी की चूत के अंदर था और वो उस पर आहिस्ता-आहिस्ता धक्के लगाने लगीं। मैंने अम्बरीन खाला की तरफ नज़र घुमा‌ई।


राशिद अब उन्हें पीछे से चोद रहा था। राशिद की पतली रानें खाला के मांसल चूतड़ों से टकरा कर नशीली आवाज़ें पैदा कर रही थीं। उसने खाला के चूतड़ों को कस कर पकड़ा और अपने घस्सों में थोड़ी तेज़ी ले आया। जब लंड चूत में जाता तो खाला मुँह से ‘उफफफफ्फ़’ की आवाज़ निकल जाती। कुछ देर इस तरह खाला को चोदने के बाद वो भी मेरे पास लेट गया और अपनी अम्मी को अपने ऊपर चढ़ने के लि‌ए कहा। खाला ने अपने हाथ से राशिद का लंड पकड़ कर अपनी फुद्दी पर रखा और एक शानदार धक्का लगाया। एक ही धक्के में उन्होंने पूरा लंड अपनी फुद्दी में ले लिया। अब अम्मी की तरह अम्बरीन खाला भी अपने बेटे के लंड पर फुदकने लगीं।


अभी तक मैंने अपने ऊपर काफ़ी क़ाबू रखा था और खल्लास नहीं हु‌आ था लेकिन जब अम्मी ने भरे हु‌ए चूतड़ों ने बार-बार मेरे लंड पर वज़न डाला तो मुझे लगा के में खल्लास हो जा‌ऊँगा। अम्मी मेरे चेहरे के तासुरात से समझ गयीं कि मैं खल्लास होने वाला हूँ। मेरी मदद करने के लिये उन्होंने अपने चूतड़ों की हरकत धीमी कर दी।


खाला अब मजीद रफ़्तार से फुदक रही थी और झड़ने के कगार पर थीं। उन्हें देख कर अम्मी ने भी अपने घस्सों को तेज़ी दी और फिर दोनों बहने एक साथ चीखते हु‌ए झड़ने लगीं। राशिद का जिस्म भी अकड़ गया। शायद वो भी अपनी अम्मी की चूत में झड़ रहा था। सब को झड़ते देख कर मेरे लंड ने भी पिचकारियाँ छोडनी शुरू कर दीं। अम्मी मेरे पर गिरीं और उन्होंने मुझे अपनी बांहों में भींच लिया। खाला ने राशिद को अपने से चिपका रखा था। कुछ मिनट बाद मेरी हालत ज़रा बेहतर हु‌ई तो में अम्बरीन खाला की तरफ मुखातिब हु‌आ। वो राशिद के लंड से उतर कर मेरे से लिपट गयीं। अम्मी ने मुस्कुराते हु‌ए हमें देखा। राशिद उठ कर गर्मजोशी से उन से लिपट गया। हमने पूरी रात चुदाई की। मैंने राशिद ने मिलकर अम्बरीन खाला और अम्मी की चूट और गाँड में भी एक साथ चुदा‌ई की।


इस वाक़िये को चार साल बीत चुके हैं। तब से आज तक मैंने अपनी अम्मी और खाला के अलावा किसी को नहीं चोदा है। राशिद भी इन्ही को चोद रहा है। अम्मी और अम्बरीन खाला ज़रूर हमारे आलावा भी अक्सर दूसरे मर्दों से चुदवाती हैं लेकिन हमें इसमें को‌ई एतराज़ नहीं है क्योंकि वो हमारा मुकम्मल साथ देती हैं। जब भी मुझे चूत की तलब लगती है, मेरे एक इशारे पर अम्मी अपनी चूत मुझे दे देती हैं। अम्बरीन खाला भी राशिद के लंड को प्यासा नहीं रहने देती हैं। और जब मौका मिलता है, हम चारों इकट्ठे हो जाते हैं। मैं खाला को चोद लेता हूँ और राशिद मेरी अम्मी को।


!! समाप्त !!!


The post खाला और अम्मी की चुदा‌ई-3 appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




खाला और अम्मी की चुदा‌ई-3

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks