All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

नौकरी चाहिये तो चुदाना पड़ेगा-9


प्रेषक: राज


मित्रो आप लोगो ने नौकरी चाहिये तो चुदाना पड़ेगा पार्ट 8 में जो पढ़ा अब उसके आगे लिख रहा हु :  शनिवार को शाम प्रीती काफी सज़ धज़ कर तैयार हो गयी। मैंने कहा, “प्रीती! तुम्हें अकेले नहीं जाना चाहिये, मैं भी तुम्हारे साथ चलता हूँ।”


“नहीं! तुम चल कर क्या करोगे? वैसे भी एम-डी की कार आ चुकी है।” उसने जाते हुए कहा, “हाँ!!! मेरा इंतज़ार मत करना, हो सकता है मुझे लेट हो जाये।”


मैं काफी देर तक जागता रहा। करीब आधी रात को वो नशे में धुत्त हो कर लड़खड़ाती हुई घर आयी। मैं सोने का बहाना करे बिस्तर पे पड़ा रहा। मुझे सोता समझ वो भी सो गयी। सुबह उसने मुझे ढेर सारे रुपये पकड़ाते हुए कहा, “राज। इन्हें संभाल कर रखो, ये तुम्हारी राँड की पहली कमाई है।”


मैं आश्चर्य चकित था। उससे अपने व्यवहार की माफी माँगना चाहता था मगर उसने बीच में ही कहा, “कुछ कहने की जरूरत नहीं है, अब बहुत देर हो चुकी है, तुम अपनी तीनों एसिसटेंट को चोदते हो, इस बात का मैंने तो कभी बुरा नहीं मना।”


“कौन कहता है?” मैंने विरोध करना चाहा।


“रहने दो! मुझे सब पता है। मुझे वो तस्वीरें मिल गयी थी जो तुमने अपनी मोटर-साइकल की डिक्की में छुपायी थीं। तुम्हारे दिल में जो आये उसे चोदो पर मेरे काम में डिस्टर्ब मत करो, जो मेरा दिल चाहेगा मैं करूँगी। मैं जिससे जी चाहेगा चुदवाऊँगी और खुलेआम शराब सिगरेट पीयूँगी… तुम्हें मुझे टोकने का कोई हक नहीं है।”


“राज एक बात बताओ, उस रात मेरे कोक में क्या मिला था जिसकी वजह से उस रात को मेरी चूत में इतनी खुजली हो रही थी?” उसने पूछा।


अगर मुझे प्रीती को वापस पाना है तो उसे सब सच बताना ही पड़ेगा। मैंने यह सोचते हुए कहा, “क्योंकि उस कोक में उत्तेजना की दवा मिली हुई थी।”


“इसलिये उस रात मेरी चूत में इतनी खुजली हो रही थी, और चुदवाने के लिये दिल मचल रहा था…, अब समझी मैं, राज! मैं तुम्हारा ये एहसान कभी नहीं भूलूँगी।”


इसके बाद वो हफ़्ते में तीन-चार बार क्लब जाने लगी और हर बार जाने से पहले वो स्पेशल दवा मिली शराब पीकर जाती। रात को लौटती तो शराब के नशे में चूर होकर, ढेर सारा पैसा लेकर लौटती। घर में पैसा बढ़ने लगा।


एक दिन उसने मुझे कहा, “राज मैं चाहती हूँ कि आज तुम मुझे होटल शेराटन लेकर चलो, वहाँ एम-डी और महेश हमारा इंतज़ार कर रहे हैं।”


मैं प्रीती को लेकर होटल शेराटन पहुँचा। सूईट में एम-डी और महेश इंतज़ार कर रहे थे। हमें देखते ही एम-डी खुशी से बोला, “आओ प्रीती आओ, ये भी अच्छा है तुम राज को साथ ले आयी, पिछली बार की तरह आज मज़ा आयेगा।”


प्रीती ने सीधे बार की तरफ बढ़ कर तीन ड्रिंक्स बनाये और हम लोगों को पकड़ा दिये और खुद के लिये शराब में स्पेशल दवाई मिला कर पीने लगी। हम लोग थोड़ी देर तक बातें करते रहे। फिर एम-डी ने कहा, “प्रीती! मैंने अपने दोस्तों से सुना है कि तुम्हारा एक अलग अंदाज़ है कपड़े उतरने का, हमें भी दिखाओ ना।”


बिना कुछ कहे हुए प्रीती खड़ी हुई और एक झटके में अपना ड्रिंक पी कर उसने म्यूज़िक लगा दिया। फिर एक और बड़ा सा ड्रिंक बना कर एक ही साँस में गटकने के बाद अब वो म्यूज़िक पर थिरक रही थी।


“महेश! इसे जरा ध्यान से देखना, मेरे दोस्त कह रहे थे कि ये बहुत अच्छा करती है, मैं भी देखना चाहता था।”


प्रीती का अंदाज़ जरा ज्यादा ही निराला था। उसका झटक कर अपनी साड़ी का पल्लू गिराना और खुद से कहना, “प्लीज़ ऐसा मत करो ना मुझे शरम आयेगी।”


मैं समझ गया वो नयी दुल्हन की तरह पेश आ रही थी जैसे उसका पति उसे नंगा करना चाहता है। वो पति और पत्नी दोनों की आवाज़ में बोल रही थी।


“प्लीज़ मेरे कपड़े मत उतारो ना।” उसने अपने दांये हाथ से अपना पल्लू ठीक किया।


“प्लीज़ डार्लिंग उतारने दो ना”, और अपने बांये हाथ से फिर पल्लू गिरा दिया।


इसी तरह से अपना उत्तेजनात्मक नाटक करते हुए प्रीती अब सिर्फ़ ब्रा, पैंटी और हाई-हील सैंडल में खड़ी थी।


एम-डी और महेश दोनों गरम हो चुके थे और अपनी पैंट के ऊपर से ही अपना लंड सहला रहे थे।


“प्रीती! बाकी के कपड़े भी उतार दो, रुक क्यों गयी?” एम-डी ने कहा।


“बाकी के मैंने तुम्हारे लिये छोड़ दिये हैं।” ये सुनते ही एम-डी ने खड़े होकर प्रीती को बाँहों में भर लिया और उसकी ब्रा उतार दी। वो उसके मम्मे दबाने लगा।


महेश ने भी घुटनों के बल बैठ कर उसकी पैंटी उतार दी और उसकी चूत पर अपनी जीभ फेरने लगा। तीनों काफी उत्तेजित हो चुके थे और लंबी-लंबी साँसें ले रहे थे।


“प्रीती अब और मत तरसाओ, हमें चोदने दो ना प्लीज़”, एम-डी ने अपने कपड़े उतारते हुए कहा।


“हाँ प्रीती! देखो मेरा लंड कैसे भूखे शेर की तरह खड़ा है।” महेश ने अपने कपड़े उतार कर अपना खड़ा लंड प्रीती को दिखाया।


“ठीक है! तुम लोग मुझे चोदना चाहते हो?” प्रीती ने पूछा।


“हाँ! हम तुम्हें चोदना चाहते हैं!!” दोनों ने साथ जवाब दिया।


“और गाँड भी मारना चाहते हो?” उसने फिर पूछा।


“हाँ हाँ!!!” दोनों ने फिर जवाब दिया।


“तो ठीक है पहले पैसे कि बात तय हो जाये”, उसने एक दम प्रोफेशनल की भाषा में बात की।


“क्या तू चाहती है कि हम तुझे चोदने के पैसे दें”, एम-डी ने चौंकते हुए कहा।


“हाँ! याद है तुम्हें? एक दिन अपने दोस्त को तुमने क्या कहा था? दोस्त इस दुनिया में कुछ भी मुफ़्त में नहीं मिलता, अगर तुम इसे चोदना चाहते हो तो इसकी कीमत देनी पड़ेगी, सो नो पैसा, नो चूत!!!” प्रीती ने जवाब दिया।


“पर प्रीती लास्ट बार तो हमने कोई पैसा नहीं दिया था”, एम-डी बोला।


“आपकी याद्दाश्त खराब है शायद, लास्ट बार आपने दूसरे तरीके से कीमत चुकायी थी और वो कीमत आप आज भी हर महीने चुका रहे हैं”, प्रीती ने मेरी तरफ देखते हुए कहा।


“ठीक है!!! कितना पैसा चाहिये?” एम-डी एकदम व्यापारी कि तरह कहा।


“वही जो सब देते हैं, दस हज़ार एक आदमी का!” प्रीती ने जवाब दिया।


“मगर इतना पैसा मेरे पास अभी इस वक्त नहीं है, मैं कल दे दूँगा”, एम-डी ने कहा।


“मेरे पास भी नहीं है, मैं भी कल दे दूँगा, प्रॉमिस!” महेश भी झट से बोला।


“सॉरी फ्रैंड्स, आज पैसा… आज चूत। अगर कल पैसा तो चूत भी कल।” कहकर प्रीती अपने कपड़े उठाने लगी।


“ठहरो! मेरे पास मेरी चेक बुक है, मैं तुझे चेक दे देता हूँ”, एम-डी ने अपनी पॉकेट से चेक बुक निकाली।


“मैं भी तुम्हें चेक दे देता हूँ!” महेश भी चेक निकाल कर लिखने लगा।


“ठीक है! लेकिन एक बात याद रखना कि अगर ये चेक कल सुबह पास नहीं हुए तो मैं तुम दोनों पर मुकदमा करूँगी और देखुँगी तुम दोनों जेल में जाओ…, चाहे इसके लिये मुझे पूरे पुलीस डिपार्टमेंट से क्यों ना चुदवाना पड़े”, प्रीती ने जोर से कहा।


“चिंता मत करो, पास हो जायेंगे”, एम-डी ने अपनी ड्रिंक का घूँट भरते हुए कहा।


“ठीक है!” प्रीती ने भी अपना दवा मिला तीसरा ड्रिंक पूरा किया।


“जब सब तय हो गया तो देर किस बात की है?” एम-डी ने पूछा।


“किसी बात की नहीं, बस मुझे राज से कुछ कहना है”, प्रीती मुझे कोने में ले जाते हुए बोली, “राज! इन दोनों हरामियों को कमरे में लेकर जा रही हूँ, तुम अंदर जो भी हो रहा है, वो सब टीवी चालू कर वी-सी-आर से रिकॉर्ड कर लेना”, मैंने कुछ ना समझते हुए भी हाँ कर दी।


“और हाँ!! ये चेक संभालो”, कहकर प्रीती दोनों को उनके लंड से पकड़ कर कमरे में खींच के ले गयी।


उनके जाने के थोड़ी देर बाद मैंने टीवी चालू किया और देखा कि एम-डी जोर-जोर से अपना लंड प्रीती की चूत में पेल रहा था और प्रीती महेश के लंड को प्रीती मुँह में लेकर चूस रही थी। पिक्चर इतनी क्लीयर थी कि क्या कहूँ। मैं सब रिकॉर्ड करने लगा।


दो घंटे बाद प्रीती कमरे से बाहर निकली और कपड़े पहन कर एक और ड्रिंक बनाकर पीते हुए बोली, “चलो राज! घर चलते हैं।” वो नशे में चूर लड़खड़ा रही थी। घर जाते वक्त उसने पूछा, “टीवी पर शो कैसा लगा और तुमने सब रिकॉर्ड कर लिया ना? ”जब मैंने बताया कि बहुत ही क्लीयर पिक्चर थी और मैंने सब रिकॉर्ड कर लिया है तो उसके चेहरे पर संतोष के भाव थे। उसके कहने पर मैंने अपने और उसके लिये एक-एक सिगरेट सुलगा दीं।mast chudasi bhbhi ki kahani (www.mastaram (1)


“प्रीती! तुमने बिना एम-डी की जानकारी के ये सब इक्यूपमेंट कैसे इंस्टाल कर लिये?” मैंने पूछा।


“राज! तुम औरत की चूत की ताकत का अंदाज़ा नहीं लगा सकते, पहले तो होटल के मैनेजर ने मना कर दिया पर जब मैंने उससे चुदवा लिया तो वो मान गया”, उसने हँसते हुए जवाब दिया।


“लेकिन तुम ये सब क्यों कर रही हो, तुम्हारा मक्सद क्या है?” मैंने उत्सुक्ता से पूछा।


“पता नहीं मुझे क्यों ऐसा लग रहा है कि भविष्य में ये सब हमारे काम आयेगा। मेरा मक्सद क्या है ये समय आने पर तुम जान जाओगे”, प्रीती ने फिर हँसते हुए कहा।


दो महीने बाद तक, सब कुछ ऐसे ही चलता रहा। प्रीती इसी तरह हफ्ते में तीन-चार बार क्लब जाती और रात को नशे में धुत्त पैसे से भरा पर्स लेकर लौटती। उसने घर पर भी शराब-सिगरेट पीनी शुरू कर दी।


एक दिन प्रीती बोली, “राज! चलो हम कुछ दिन के लिये अपने घर हो आते हैं, तुम्हारी माताजी भी कई बार लिख चुकी हैं।”


ये सुन कर मुझे एक बहाना मिल गया प्रीती को यहाँ से भेजने का। कुछ दिन के लिये तो इस दलदल से बाहर निकलेगी। मैंने कहा, “प्रीती तुम हो आओ, मैं काम की वजह से नहीं जा पाऊँगा।”


हम लोगों ने बहुत शॉपिंग की। मैंने सबके लिये तोहफ़े खरीदे और प्रीती को ट्रेन मैं बिठा कर विदा कर दिया।


एक महीने बाद आज प्रीती लौटने वाली थी। मैं उसे लेने स्टेशन पहुँचा तो देखा कि वो आ चुकी थी और मेरा इंतज़ार कर रही थी। मैंने माफी माँगते हुए कहा, “सॉरी प्रीती! ट्रैफिक में फँस गया था, आओ चलते हैं।”


इतने में मैंने आवाज़ सुनी, “भैया”, और पीछे मुड़ कर देखा तो मेरी दोनों बहनें अंजू और मंजू हँसते हुए खड़ी थी। मैंने दोनों को बाँहों में भरके चूमा। “प्रीती! अच्छा किया जो तुम इन दोनों को साथ ले आयी, मैं इन्हें मिस कर रहा था”, मैंने कहा।


हम लोग घर पहुँचे। अंजू और मंजू दोनों खुश थी। मेरी नयी कार और फ्लैट की बहुत तारीफ कर रही थी। हम लोग जब खाना खा रहे थे तो मैं उनसे उनके बारे में पूछने लगा। वो दोनों सब बता रही थी: घर के बारे में, अपनी सहेलियों के बारे में।


“तुम दोनों ने एक बात तो बतायी ही नहीं”, मैंने कहा।


“क्या नहीं बताया भैया?” अंजू ने कहा।


“अपने बॉय फ्रैंड्स के बारे में…” मैंने हँसते हुए कहा।


वो दोनों सोच में पड़ गयी और प्रीती की तरफ देखने लगी। फिर मंजू मुँह बनाकर बोली, “भैया आपको मालूम है कि हम ऐसी लड़कियाँ नहीं हैं।”


“फिर तो तुम लोगों के लिये लड़के ढूँढने पड़ेंगे, है ना प्रीती?” मैंने हँसते हुए कहा।


“मैं भी ऐसा ही कुछ सोच रही थी”, प्रीती ने जवाब दिया।


अगले दिन तक मैं अपनी बहनों को घुमाता फिराता रहा, सिनेमा दिखाया। दोनों बहुत खुश थीं, किंतु मेरे और प्रीती में सब कुछ वैसा ही था। शायद उसने मुझे अभी तक माफ़ नहीं किया था।


मैं सुबह रोज़ की तरह ऑफिस पहुँच चुका था। दोपहर के करीब चार बजे प्रीती ने फोन किया और घबरायी आवाज़ में कहा, “राज तुम जल्दी घर आ जाओ, अंजू और मंजू…..।”


मैंने घबरा कर पूछा, “क्या हुआ अंजू और मंजू को?”


“बस तुम जल्दी आ जाओ”, कहकर प्रीती ने लाईन डिसकनेक्ट कर दी।


मैं अपना सब काम छोड़ कर घर पहुँचा और प्रीती से पूछा, “क्या हुआ? कहाँ हैं वो दोनों?”


प्रीती ने शरारती मुस्कान के साथ उन दोनों के बेडरूम की तरफ इशारा किया। मैंने देखा बेडरूम का दरवाजा आधा खुला हुआ था और उसमें से मादक सिसकरियों की आवाज़ आ रही थी। “क्या हो रहा है वहाँ?” मैंने घबरा के पूछा।


“क्या हो रहा है? अरे यार, चुदाई हो रही और क्या…” प्रीती मुस्कुराते हुए बोली।


“किसके साथ?” मैं चिल्लाया।


“एम-डी और महेश के साथ और किस के साथ…” प्रीती ने सिगरेट का धुँआ छोड़ते हुए जवाब दिया।


मुझे बहुत गुस्सा आ रहा था। एम-डी और महेश मेरी बहनों को चोद रहे थे। “उनकी हिम्मत कैसे हुई उन्हें चोदने की। मुझे उन्हें रोकना होगा….” मैं जोर से चिल्लाते हुए खुले दरवाजे की और बढ़ा।


“अगर मैं तुम्हारी जगह होती तो उन्हें नहीं रोकती”, प्रीती ने कहा।


“क्या मतलब है तुम्हारा? मैं यूँ ही चुपचाप खड़ा रहूँ और देखता रहूँ अपनी बहनों की बरबदी को?” मैंने गुस्से में कहा।


“यह कोई तुम्हारे लिये नयी बात नहीं है, इसके पहले भी तुम चुपचाप खड़े अपनी बीवी को दूसरे मर्दों से चुदवाते देख चुके हो, लेकिन मेरा ये मतलब नहीं है….” उसने मुझ पर ताना कसते हुए कहा।


“तो तुम्हारा क्या मतलब है?” मैंने पूछा।


“ज़रा ठंडे दिमाग से सोचो, अगर तुमने एम-डी को उसके इस आनंद में बीच में ही रोक दिया तो ना सिर्फ तुम अपनी नौकरी से हाथ धो बैठोगे बल्कि इस नियापेनसिआ रोड का फ्लैट भी हाथ से जाता रहेगा जिसे तुमने अपनी बीवी की चूत कुर्बान कर के पाया है…” प्रीती ने समझाया।


हाँ… प्रीती सच कह रही थी। मैंने सोचा, अगर एम-डी चाहे तो ये सब कर सकता था। हे भगवान! मैं क्या करूँ? क्या ऐसे ही हाथ पर हाथ धरे बैठा रहूँ। अपनी लाचारी देख मुझे रुलाई फ़ूट पड़ी।


“अब तुम कर भी क्या सकते हो…? उन दोनों का लंड तुम्हारी दोनों बहनों कि चूत में घुस चुका है। ये सच्चाई है और इसे बदला नहीं जा सकता, मैं तो कहती हूँ कि उन लोगों का काम खत्म होने तक इंतज़ार करो…” प्रीती ने सलाह दी। प्रीती के हाथ में ड्रिंक का ग्लास था और वो सिगरेट के कश लेते हुए धीरे-धीरे ड्रिंक सिप कर रही थी।


“ओह गॉड ये सब क्या हो रहा है?” मैंने अपने दोनों हाथ हवा में उठाते हुए कहा।


तभी मुझे अंजू की मादकता भरी आवाज़ सुनाई दी, “हाँ डालो…. और जोर से डालो… हाँआंआँआँआँ इसी तरह चोदते रहो…. बहुत अच्छा लग रहा है… हाँ मेरा छूटने वाला है….।”


अपने कानों पर हाथ रखते हुए मैंने प्रीती से कहा, “मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है”, और मैं सोफ़े पर बैठ गया। मेरी आँखों से आँसू बह रहे थे।


इतनी देर में मुझे अंजू की तरह ही मंजू कि भी आवज़ सुनाई दी। वो भी मादकता में चिल्ला रही थी, “और ज़ोर से चोदो मुझे… हाँ इसी तरह हाँआंआंआं… बहुत अच्छा लग रहा है…. और तेजी से डालो अपना लंड… आआआआआआआआआआहहहह मेरा भी छूटने वाला है।”


“वाह क्या टाईट चूत है…. हाँ! ले मेरे लंड को अपनी चूत में… पूरा समा ले और मेरा सारा पानी पी ले…” कहकर महेश ने उसकी चूत में अपना पानी छोड़ दिया।


मैं चुपचाप बैठा अपने आप को कोस रहा था। ना मुझे माँ ने जनम दिया होता, ना मैं यहाँ नौकरी करने आता, ना मेरी इच्छायें बढ़ती और ना ही मैं प्रीती के साथ ऐसा व्यवहार करता। इससे तो अच्छा था कि मैं पैदा होते ही मर जाता।


“राज सुना! एम-डी अब अंजू की गाँड मारना चाहता है….” प्रीती चुलबुलाती हुई बोली।


“अंजू! अब तुम घोड़ी बन जाओ…, मैं अब तुम्हारी गाँड मारूँगा”, एम-डी ने कहा।


“नहीं! मैं तुम्हें अपनी गाँड नहीं मारने दूँगी, सुना है बहुत दर्द होता है…” अंजू ने जवाब दिया।


“गाँड तो तुम्हें मरवानी पड़ेगी! हाँ, तुम्हें दर्द होगा तो मैं रुक जाऊँगा”, एम-डी ने उत्तर दिया।


“प्रॉमिस???”


“प्रॉमिस!!! कसम ले लो”, कहकर एम-डी ने अपना लंड अंजू की गाँड में घुसा दिया।


“ओहहहह प्लीज़ रुक जाइये! मुझे बहुत दर्द हो रहा है”, अंजू दर्द से कराही।


“थोड़ी देर की बात है जानू, मेरा लंड तुम्हारी गाँड में घुस रहा है”, कहकर एम-डी ने पूरा लंड उसकी गाँड में घुसा दिया।


“ऊऊऊऊऊईईईईईईईई माँ…. मर गयी….” अंजू जोर से चिल्लायी।


“डरो मत! मेरा लंड पूरा का पूरा तुम्हारी गाँड में है, सब ठीक हो जायेगा”, एम-डी जोर से कहकर अपना लंड अंदर बाहर करने लगा।


“राज… डरो मत! अंजू की गाँड तो बहुत पहले फट चुकी थी”, प्रीती ने हँसते हुए कहा।


“अब तुम्हारी बारी है गाँड में लंड लेने की….” मैंने महेश को मंजू से कहते सुना, “चलो बिस्तर पर पेट के बल लेट जाओ।”


“नहीं मैं तुम्हें अपना इतना मोटा लंड मेरी गाँड में नहीं डालने दूँगी…. बचाओ बचाओ… भाभी!!! मुझे बचाओ…. ” मंजू जोर से चिल्लायी।


“जितना चिल्लाना है जोर से चिल्ला, आज तेरी प्यारी भाभी भी तुझे बचाने के लिये नहीं आ सकती, तुम्हारी भाभी ने तुम्हारी गाँड मारने की पूरी कीमत मुझसे वसूल की है। मैं आज तुम्हारी गाँड मार के रहुँगा, चाहे तुम राज़ी हो या न हो। अगर खुशी से मरवाओगी तो तुझे मज़ा भी आयेगा और दर्द भी कम होगा”, महेश ने कहा।


क्या प्रीती ने इस सब के पैसे लिये हैं? मैं फिर समझ गया कि इन सब में प्रीती का ही हाथ है।


“ठीक है… जरा धीरे-धीरे करना, और जब मैं कहूँ तो रुक जाना”, मंजू ने महेश से विनती करते हुए कहा।


“ठीक है तुम जैसा कहोगी… वैसा ही करूँगा”, कहकर महेश अपना लंड मंजू की गाँड पर रगड़ने लगा।


“देखो राज! अब मंजू की गाँड भी फटने वाली है… ये फटी…… फटी…” प्रीती ड्रिंक पीते हुए मज़े ले-ले कर बोल रही थी।


“ओहहहहह मर गयी…. हरामी साले निकाल ले…. बहुत दर्द हो रहा है”, मंजू जोर से चिल्लायी, पर उसकी आवाज़ ना सुन कर महेश ने एक करारा धक्का मार कर अपना पूरा लंड मंजू की गाँड में घुसा दिया।


अंजू की मादक सिसकरियाँ और मंजू की दर्द भरी चीखों ने मेरा दिमाग सुन्न कर दिया था। मुझे कुछ होश नहीं था कि मैं कब तक यूँ ही बैठा सब सुनता रहा। जब होश आया तो देखा कि एम-डी अपनी बाँहें फैलाये मेरी तरफ बढ़ रहा था। “ओह मॉय राज! तुम कितने अच्छे हो, तुमने स्पेशियली अपनी बहनों को अपनी बीवी द्वारा बुलवाया जिससे हम उन्हें चोद के मज़ा ले सकें….” उसने मुझे बाँहों में भरते हुए कहा। मैं कुछ कहना चाहता था पर मेरी आवाज़ गले में ही घुट कर रह गयी।


“कुछ कहने की जरूरत नहीं! हमें प्रीती ने सब समझा दिया था। हम उनकी कुँवारी चूत नहीं चोद पाये तो क्या…. पर कुँवारी गाँड तो चोद ही ली। वैसे उनकी चूत बहुत टाइट थी, हमें खूब मज़ा आया। तुम्हारी इस उदारता और नेक काम के लिये तुम्हें इनाम मिलना चाहिये, क्यों महेश क्या कहते हो?”


हमेशा की तरह महेश ने एम-डी की हाँ में हाँ मिलायी और फिर दोनों चले गये।


अब सब कुछ शीशे की तरह साफ़ था। प्रीती ने ही सब किया था किंतु उसने अंजू और मंजू को चुदाई के लिये तैयार कैसे किया? एम-डी ने कहा कि दोनों कुँवारी नहीं थी और उस दिन ही जब मैंने उनसे बॉय फ्रैंड्स के बारे में पूछा था तो उन्होंने कहा था कि वो वैसी लड़कियाँ नहीं हैं? कई सवाल मेरे दिमाग में रह-रह कर आ रहे थे।


इतने में मेरी सोच टूटी। अंजू और मंजू कमरे से सिर्फ सैंडल पहने ही नंगी ही बाहर आ रही थी और उनकी चूत से पानी टपक रहा था। दोनों हँसते हुए आयी और प्रीती से पूछा, “क्यों भाभी कैसा रहा?” दोनों की चाल और हाव-भाव से साफ पता चल रहा था कि उन दोनों ने भी शराब पी हुई थी।


“शानदार!!! बल्कि मैं कहुँगी लाजवाब”, प्रीती भी खुशी से बोली, “मंजू यहाँ आओ… मुझे तुम्हारी गाँड देखने दो… कहीं इसमें से खून तो नहीं आ रहा, जब गाँड मारने की बात आती है तो महेश का भरोसा नहीं कर सकती।”


मंजू झुक कर अपनी गाँड प्रीती को दिखाने लगी। “शुक्र है!!! कुछ खास नहीं हुआ है, थोड़ी सी सूजन है… वो कुछ घंटों में ठीक हो जायेगी”, प्रीती ने उसकी गाँड को परखते हुए कहा और सिगरेट का धुँआ उसकी गाँड में छोड़ दिया।


“मुझे भी यही लगता है, कि कुछ लगाने की जरूरत नहीं है, इतनी सारी दवाई जो अंदर गयी हुई है”, मंजू ने हँसते हुए कहा, “भैया आपको हमारी चुदाई कैसी लगी?”


ओह गॉड कितनी सुंदर थी दोनों। उनके उभरे और भरे हुए मम्मे और उस पर काले निप्पल गज़ब ढा रहे थे। उनकी बिना बालों की चूत ऐसे निखर रही थी क्या कहना। मैं दावे के साथ कह सकता हूँ कि प्रीती के कहने पर ही उन्होंने अपनी झाँटें साफ़ करी होंगी। मुझे शर्म आ रही है ये कहते हुए कि उनका गोरा बदन देख कर मेरा लंड भी एक दम तन कर खड़ा हो गया था।


“चुप रहो और जाके कपड़े पहनो”, मैं चिल्ला कर बोला।


“देखो इसके तने हुए लंड को”, प्रीती ने मेरे खड़े लंड की और इशारा करते हुए कहा, “जाओ जा कर कपड़े पहनो इसके पहले कि तुम्हारे भैया का सब्र टूटे और ये तुम्हें चोदने लगे।”


“मुझे बुरा नहीं लगेगा”, अंजू ने कहा, “आओ भैया और अपना लंड मेरी चूत में डाल दो, भाभी ने बताया है कि इन्होंने जितने भी लंड का स्वाद चखा है उसमें तुम्हारा लंड सबसे जानदार और अच्छा है।”


“हाँ भैया! हम दोनों को चोदो… हम तैयार हैं…” मंजू ने भी कहा।


“इससे पहले कि मैं तुम दोनों की पिटायी करूँ, यहाँ से दफ़ा हो जाओ और जा कर कपड़े पहनो…” मैं जोर से चिल्लाया। वो दोनों घबरा कर रूम में भाग गयीं।


थोड़ी देर बाद वो अपने कपड़े पहन कर आ गयी और सोफ़े पर बैठ गयी। मैंने प्रीती की तरफ देखते हुए कहा, “प्रीती!!! अब इनकार मत करना! मैं समझ गया हूँ कि इस सब के पीछे तुम्हारा हाथ है।”


“इनकार कौन कर रहा है, बल्कि मैं तो खुश हूँ कि मैंने अकेले ही ये सब कर दिखाया”, उसने जवाब दिया।


“लेकिन प्रीती तुमने ऐसा क्यों किया? झगड़ा तुम्हारे मेरे बीच था, उसमें मेरी बहनों को घसीटने की क्या जरूरत थी?” मैंने सवाल किया।


“जरूरत थी राज!!! मैं भी तुम्हें उतना ही दुख देना चाहती थी जितना तुमने मुझे दिया था। मुझे मालूम है तुम अपनी बहनों से बहुत प्यार करते हो, इसलिये जो आज हुआ इसी से मेरा बदला पूरा हो सकता था”, प्रीती ने जवाब दिया।


“लेकिन क्यों प्रीती, क्यों?” मैं धीरे से बोला।


“भाभी!!! हम बतायें या आप बतायेंगी?” अंजू ने पूछा।


“नहीं अंजू! मुझे ही इसका आनंद लेने दो, तुम लोग भी बैठ जाओ… इस कहानी को सुनने में थोड़ा वक्त लगेगा…” प्रीती ने कहा और अपने लिये एक ड्रिंक बना कर और सिगरेट सुलगा कर बैठ गयी। मैंने प्रीती से पूछा कि उसने ऐसा मेरी बहनों के साथ क्यों किया? तो उसने अपनी ज़ुबानी ये दास्तान सुनाई।


प्रीती की कहानी:


“मेरी कहानी उस समय शुरू हुई जब तुमने मेरे जिस्म का सौदा अपने बॉस के साथ, पैसे और तरक्की के लिये किया।”


“पूरी रात मैं सो नहीं सकी। अब मैं क्या करूँ, ये सवाल मुझे खाये जा रहा था। आत्महत्या कर लूँ ये भी ख्याल आया, किंतु आत्महत्या समस्या का समाधान नहीं है। ये डरपोक लोगों का काम है और मैं डरपोक नहीं थी।”


“फिर ख्याल आया कि तुम्हें छोड़ कर तुमसे तलाक ले लूँ, पर ये तुम्हारी सज़ा नहीं थी। तुम मुझे बदनाम कर दोगे कि मैं गंदे कैरैक्टर की औरत हूँ और तुम दूसरी शादी कर लोगे। और शायद अपनी नयी बीवी के साथ भी वही सब करोगे जो मेरे साथ किया।”


“फिर मुझे ख्याल आया कि मुझे तुमसे बदला लेना है। मैं तुम्हें इतना जलील करना चाहती थी, जितना तुमने मुझे किया है। उस समय मेरे पास कोई उपाय नहीं थी इसलिये सोचा कि हालात को देखते हुए मैं नॉर्मल रहूँ और वक्त का इंतज़ार करूँ।”


“मगर प्रीती! वो तो सिर्फ़ एक समय के लिये था, मैं नहीं चाहता था कि तुम वेश्याओं की तरह अपनी लाइफ गुज़ारो”, मैंने दुख भरे शब्दों में कहा।


“कुछ भी हो, मैं वेश्या बन गयी, तुम चाहो या ना चाहो। राज या तो तुम भोले हो या नदान”, प्रीती ने जवाब दिया, “मैं जानती थी कि तुम्हारे बॉस एम-डी और महेश मुझे एक बार चोद कर छोड़ने वाले नहीं थे, वो फिर मुझे चोदना चाहेंगे और तुम्हें लालच या ब्लैक मेल कर मुझे चुदवाने पर मजबूर कर देंगे।”


“तुम्हें याद है जब एम-डी ने मुझे क्लब पर अकेले बुलाया था? उसने अपने लिये नहीं, बल्कि अपने दोस्तों के लिये बुलाया था। मैं वहाँ पहुँची तो एम-डी ने मुझसे कहा कि प्रीती तुम अभी उम्र में छोटी हो और समझदार भी, मेरे कई दोस्त तुम्हें पाना चाहते हैं। तुम सहयोग दो तो तुम काफी अमीर बन सकती हो। मैं मान गयी, दो चार लंड और चूत में लेने से मुझे कोई फ़रक नहीं पड़ने वाला था और बाकी की कहानी तुम्हें मालूम है।”


“फिर एक दिन मुझे अंजू और मंजू का खत मिला। उसी समय मुझे अपनी मंज़िल दिखायी देने लगी। तुम अपनी बहनों से बहुत प्यार करते हो, इसलिये मैं इन दोनों को भी अपनी तरह रंडी बनाकर तुम्हें जलील करना चाहती थी। मुझे आगे क्या और कैसे करना है, इसपर सोचना शुरू कर दिया।”


“पर तुम्हें कैसे यकीन था कि तुम अंजू और मंजू को इन सब के लिये तैयार कर लोगी?” मैंने पूछा।


“यकीन तो मौत के सिवा किसी चीज़ का नहीं है राज, पर मैं जानती थी कि मैं कामयाब हो जाऊँगी।”


“तुम्हें इतना यकीन क्यों था?” मैंने वापस पूछा।


“राज! तुम्हें याद है? हमारी सुहागरात के दूसरे दिन सुबह मैंने तुम्हें बताया था कि अंजू और मंजू मुझे तंग कर रही थी…. जब मैं सुबह किचन में चाय बना रही थी।”


“हाँ मुझे याद है”, मैंने जवाब दिया।


“उस दिन सुबह अंजू ने मुझसे पूछा, क्यों भाभी! आपको हमारे भैया का लौड़ा कैसा लगा?”


“मैं शरमा गयी थी पर कुछ जवाब नहीं दिया।”


“फिर मंजू ने कहा, भाभी! भैया ने आपको रात को सोने भी दिया या फिर सारी रात आपको चोदते रहे। ”


“मैं उन दोनों को डाँट कर वापस आ गयी।”


“फिर जब भी हम तीनों अकेले होते तो ये दोनों सवाल करने लगती, कि चुदाई कैसे की जाती है, लंड कैसा होता है। लंड जब चूत में घुसता है तो दर्द होता है क्या। एक दिन मैंने हँसते हुआ कहा, लगता है तुम दोनों को चुदवाने का बहुत मन कर रहा है?”


“पर उनके जवाब ने मुझे हैरान कर दिया, हाँ भाभी! बहुत मन करता है, अगर हमें बच्चा होने का डर ना होता तो कभी का हम लोग चुदवा चुकी होती।”


“राज इससे तुम्हें तुम्हारा जवाब मिल गया होगा। मुझे सिर्फ़ इन्हें चुदवाने के लिये उक्साना था और ये दोनों तो तैयार ही बैठी थी इसके लिये। फिर मैंने प्लैन बनाया कि इन दोनों की कुँवारी चूत मैं अपने दोनों भाई राम और श्याम से चुदवाऊँगी। जब इन दोनों के भाई यानी तुमने मेरी कुँवारी चूत ली है तो मैं भी अपने भाइयों से तुम्हारी कुँवारी बहनों की चूत चुदवाऊँगी। ये एक प्रकार से जैसे को तैसा था।” “पर प्रीती!!! जब मैंने तुम्हारी चूत चोदी थी तो हमारी शादी हो चुकी थी”, मैंने कहा।


प्रीती ने मेरी बात को अनसुना कर दिया और अपनी कहानी जारी रखी।


“समय सही होना चाहिये था इसलिये मैं समय का इंतज़ार करने लगी। मेरे भाइयों को भी लंबी छुट्टी मिलने वाली थी। इसलिये मैंने तुम्हें घर चलने को कहा, पर मुझे मालूम था कि काम की वजह से तुम नहीं चलोगे।”


“कुछ भी गलत ना हो इसलिये मैं तुम्हारे वो स्पेशल दवा मिले कोक की चार बोतलें और स्कॉच की चार बोतलें अपने साथ ले कर गयी थी।”


“वहाँ जब मैं पहुँची तो तुम्हारी बहनों को सैक्स के अलावा और कोई टॉपिक नहीं था बात करने का। मैं भी उन्हें सैक्स के बारे में बता कर उनकी चुदवाने की इच्छा और मजबूत करती रही। मैंने उन्हें मुंबई आने को भी कहा।”


“एक दिन दोनों ने मुंबई जाने की इजाज़त तुम्हारे पिताजी से ले ली।”


“मैं अपने घर होते हुए मुंबई आने वाली थी। सो ये दोनों भी मेरे साथ मेरे मायके आ गयी।”


“राम ने हम तीनों को रीसीव किया और हम घर पहुँचे। मैंने देखा कि मेरे दोनों भाई तुम्हारी दोनों बहनों को बहुत ही घूर रहे थे। मैं समझ गयी कि ये दोनों भी इन्हें चोदना चाहते है। माँ और पिताजी को एक शादी में पास के गाँव में जाना था। वो हम सब को छोड़ कर दो दिन के लिये शादी में चले गये। इस बात ने मेरे प्लैन को और मजबूती दे दी।”


“हम पाँचों घूमने जाते, सिनेमा देखते। मैंने जानबूझ कर चारों को ज्यादा समय अकेले बिताने को दिया जिससे ये लोग आपस में करीब आ सके।”


“शाम को मैं उन दोनों के कमरे में गयी और कहा कि मैं तुम दोनों से कुछ बात करना चाहती हूँ? ”


“हाँ दीदी कहो, राम ने कहा।”


“क्या तुम दोनों नाज़िया को अब भी चोदते हो? ये सवाल सुनकर दोनों चौंक गये। राज! मैं तुम्हें बता दूँ नाज़िया हमारी नौकरानी का नाम है।”


“फिर श्याम ने हिम्मत करके के पूछा कि दीदी आपको किसने बताया कि हम नाज़िया को चोदते हैं।”


“मैं पिछले दो साल से जानती हूँ ये बात…! मैंने जवाब दिया, पर नाज़िया कहीं दिखायी नहीं दे रही।”


“नाज़िया अपने गाँव गयी है, दस दिन में वापस आयेगी…. राम ने कहा।”


“मैंने मुद्दे की बात पर आते हुए कहा कि अच्छा एक बात बताओ! क्या तुम दोनों अंजू और मंजू को चोदना चाहोगे, दोनों कुँवारी हैं, और कुँवारी चूत को चोदने में बहुत ही मज़ा आयेगा।”


“अपनी जगह से उछलते हुए राम ने कहा, हाँ दीदी! हमने कई सालों से कोई कुँवारी चूत नहीं चोदी, क्या वो दोनों मान जायेंगी? ”


“ये सब तुम मुझ पर छोड़ दो, वो दोनों तुम लोगों से चोदने की भीख मांगेंगी।”


“ठीक है मैं फिर बाज़ार से कुछ कंडोम खरीद कर ले आता हूँ…. श्याम बोला।”


“कोई जरूरत नहीं है, तुम दोनों अपना पानी उन दोनों की चूत में ही छोड़ देना। उन्हें कुछ नहीं होगा…. मैंने कहा।”


“ठीक है! तुम दोनों ठीक आठ बजे हॉल में आ जाना। राम तुम अंजू को चोदना और श्याम तुम मंजू को। फिर तुम आपस में अदला बदली भी कर सकते हो। एक छोटी सी पार्टी रखी है मैंने, तुम दोनों क्या पियोगे? मैंने पूछा।”


“ओहहहह दीदी! एक रात में दो दो कुँवारी चूत…. दीदी हम लोग बीयर पियेंगे राम ने कहा।”


“मैंने सब इंतज़ाम कर रखा था। राम और श्याम के लिये बीयर और अंजू और मंजू के लिये तुम्हारा स्पेशल कोक और उसमें थोड़ी सी स्कॉच और मेरे लिये सिर्फ स्कॉच। मैंने नाश्ते का भी इंतज़ाम कर रखा था और अपना कैमरा भी जो तुमने मेरे जन्मदिन पर तोहफा दिया था।”


“सबसे पहले अंजू और मंजू एक दम सज धज कर हॉल में दाखिल हुई। भाभी हम दोनों कैसी लग रही हैं, अंजू ने एक मॉडल की तरह अपनी टाँगें हिलाते हुए पूछा। बहुत ही सुंदर और जानदार लग रही हो मेरी जान, मुझे यकीन है तुम दोनों को देख कर लड़कों का लंड खड़ा हो जायेगा।”


“भाभी आप भी ना! दोनों शरमा गयीं।”


“नहीं मैं सच कह रही हूँ! अच्छा तुम दोनों उनके लंड की तरफ देखना वो जब आयेंगे। मैंने कहा।”


“इतने में राम और श्याम कुर्ता पायजामा पहने हुए हॉल में आये, अरे तुम दोनों तो बहुत सुंदर और सैक्सी लग रही हो…. दोनों ने कहा। उन दोनों का लंड तंबू की तरह उनके पायजामे में खड़ा हो गया।


देखो मैंने नहीं कहा था….। दोनों अंजू और मंजू शर्म के मारे लाल हो गयी।”


“चलो पार्टी करते हैं, कहकर मैंने राम और श्याम को उनकी बीयर और दोनों लड़कियों को स्कॉच मिली हुई स्पेशल कोक का ग्लास पकड़ा दिया। खुद भी मैंने अपने लिये स्कॉच का तगड़ा पैग बना लिया।”


“दीदी! तुम…. ये शराब? राम ने चौंकते हुए पूछा। चारों लोग मुझे हैरानी से देख रहे थे।”


“हाँ! क्यों? मैं नहीं पी सकती क्या… मुंबई में कभी-कभी पार्टियों में सोशियलाइज़िंग के लिये पीनी पड़ती है…. मैंने झूठी सफ़ाई दी।”


“हम लोग हँसी मज़ाक और बातें करते रहे। स्पेशल कोक ने और स्कॉच ने अपना असर दिखाना शुरू किया।”


“भाभी बहुत गर्मी है ना…. कहकर अंजू ने अपना ग्लास एक ही झटके में खतम कर दिया।”


“हाँ भाभी! कुछ ज्यादा ही गर्मी है… कहकर मंजू भी अपनी सीट पर मचल रही थी।”


“मैं समझ गयी कि इनकी चूत में खुजली होनी शुरू हो गयी है।”


“तुम चारों डाँस क्यों नहीं करते? कहकर मैंने स्टिरियो पर म्यूज़िक लगा दिया।”


“बीस मिनट तक चारों म्यूज़िक पर डाँस कर रहे थे और मैं उन्हें देख रही थी। मैंने देखा कि दोनों लड़कियाँ मदमस्त होकर डाँस कर रही थीं और अंजू एक हाथ से अपनी चूत को रगड़ रही थी। कोक ने और स्कॉच ने अब अपना पूरा असर दिखाना शुरू कर दिया था।” …..मित्रो और आगे की कहानी अगले भाग में पढ़िए और कमेंट कर के हमें बताईये आपको ये कहानी कैसी लगी |


The post नौकरी चाहिये तो चुदाना पड़ेगा-9 appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




नौकरी चाहिये तो चुदाना पड़ेगा-9

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks