All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

शबाना की गर्मी सेल्समैन ने शांत की


प्रेषिका: अबिया


दोस्तों मै अबिया हु आज मै अपनी सहेली शबाना जो मेरी बहुत ही क्लोज फ्रेंड है उसका पति दुबई में रहता है उसने ही मस्तराम डॉट नेट पर अपनी कहानी भेजने को बोली सो मै आप लोगो को शबाना की गर्मी सेल्समैन ने शांत की लिख रही हु|


शबाना: (फोन पर अपने शौहर से बात करते हुए) क्या, तुम्हें कुछ दिन और दुबई में रहना पड़ेगा?

राशिद: हाँ यार, रहना तो पड़ेगा, काम ही इतना ज़रूरी है। दो महीने और लग जायेंगे।

शबाना: क्या दो महीने और! प्लीज़ यार, मैं तो अकेले बिलकुल बोर हो चुकी हूँ।

राशिद: और मेरा हाल तो तुम पूछो मत। रात को नींद भी नहीं आती तुम्हारे बिना।

शबाना: रात को नींद तो मुझे भी नहीं आती आज कल।

राशिद: हाँ सिर्फ़ तुम्हारे बारे मे सोचता रहता हूँ और प्लान बनाता रहता हूँ की घर आने पर तुम्हारे साथ क्या-क्या करूँगा।

शबाना: अच्छा तो बताओ क्या-क्या करोगे?

राशिद: वो तो सरपराईज़ ही रहने दो अभी। फिलहाल तो मैं मुठ मार के ही काम चला रहा हूँ।

शबाना: चल झूठे। तुमने कोई लडकी फँसा ली होगी अब तक।

राशिद: अभी तक तो नहीं मगर वो जो मेरा दोस्त रेहान रहता है ना यहाँ? उसकी बीवी ज़हरा मेरे को लाईन देती रहेती है।

शबाना: अरे वाह तो तुम्हारी तो ऐश है। तो तुम भी लाईन दो ना।

राशिद: तुम्हे बुरा नहीं लगेगा?

शबाना: नहीं इतने दिन हो गये हैं, मैं समझती हूँ की तुमसे नहीं रहा जा रहा होगा।

राशिद: और तुम? तुम कैसे काबू करती हो अपने आप को?

शबाना: हा.. हा… हा… मैं भी अपनी अँगुली या बैंगन, खीरे वगैरह से अपनी चूत के साथ थोड़ा खेल लेती हूँ रात को सोने से पहेले।

राशिद: तो तुम भी कोई ढूँढो ना अपने टाइम पास के लिये।

शबाना: तुम्हें अच्छा लगेगा?

राशिद: हाँ मुझे ज़हरा के साथ चुदाई करने में और भी मज़ा आयेगा जब मैं सोचूँगा की तुम भी वहाँ किसी स्टड के साथ मजे ले रही हो।

शबाना: ठीक है, तो मैं भी ढूँढती हूँ कोई।

राशिद: हाँ फिर हम दोनों फोन पर एक दूसरे को अपना अपना एक्सपीरियंस बतायेंगे। बहुत मज़ा आयेगा।

शबाना: इससे हमारे रिश्ते मे कोई दिक्कत तो नहीं आ जायेगी?

राशिद: अरे नहीं पगली, बल्कि हमारा रिश्ता और गहरा हो जायेगा।

शबाना: सच?hot sex stories read (www.mastaram.net) (35)राशिद: हाँ बिलकुल। और सोचो जब हम मिलेंगे और अपने साथ हुए तजुर्बों को एक दूसरे को तफसील से एकटिंग कर के बयान करेंगे को हमारी चुदाई कितनी धमाकेदार होगी।

शबाना: (हँसते हुए) हैवान कहीं के!

राशिद: अरे मेरी जान, हैवानियत तो मैं तुम्हे मिलने पर दिखाऊँगा जब तब तुम मुझे किसी स्टड को सिड्यूस करने वाली घटना बताओगी।

शबाना: और तुम भी मेरा सेक्स की प्यासी शेरनी वाली सूरत देखोगे जब तुम मुझे बताओगे कि तुमने ज़हरा को कैसे अपने साथ चुदाई के लिये राज़ी किया।

राशिद: ठीक है, आइ मिस यू! बॉय!

दो दिनों बाद, शबाना बाज़ार से शॉपिंग करके लौटी थी और नींबू के साथ वोडका का तगड़ा सा पैग बना कर चुसकियाँ ले रही थी। उसका इरादा एक-दो पैग पीने के बाद अपने कपड़े उतार कर बिस्तर में जा कर कोई

ब्लू-फिल्म देखते हुए अपनी चूत को मोटे से केले से चोदने का था। एक पैग खत्म करने के बाद शबाना दूसरा पैग बनाने के लिये उठी ही थी कि उसे दरवाज़ा खटखटाने की आवाज़ आयी।

शबाना: अरे ये कौन आ गया? चलो देखा जायेगा… अच्छा हुआ अभी मैंने कपड़े नही उतारे थे।

शबाना मार्बल के फर्श पर अपने सैंडल की हील खटखटाती बेमन से दरवाज़े की तरफ बढ़ी। उसने दरवाज़ा खोला तो एक लगभग २० साल के नौजवान और गठीले लड़के को खडा पाया। उसे देखते ही शबाना के शरीर मे एक

लहर सी दौड़ गयी।

शबाना: जी कहिये?

सेल्समैन: गुड मार्निंग मैडम! मैं अपनी कम्पनी के समान का प्रचार कर रहा हूँ।

शबाना: अच्छा, क्या बेच रहे हो?

सेल्समैन: जी हमारी कम्पनी लेडीज़ पैन्टीज़ और ब्रा बनाती है।

शबाना: अच्छा, तो फिर तुम्हारी कम्पनी सेल्स गर्ल्ज़ को क्यों नहीं भेजती बेचने के लिये?

सेल्समैन: जी मैडम, आज कल की लेडीज़ तो हेन्डसम सेल्समैन की ही डिमान्ड करती हैं। अगर आप को कोई ऐतराज़ है तो मैं चला जाता हूँ और कल किसी सेल्स गर्ल को भेज दूँगा।

शबाना: नहीं ऐसी कोई बात नहीं है, मुझे तुम से कोई प्राब्लम नहीं है।

सेल्समैन: वैरी गुड। थैंक यू मैडम!

शबाना: आओ इधर बैठ जाओ। पानी पियोगे या वोडका…?

सेल्समैन: जी नहीं, थेन्क यू।

शबाना: कितने सालों से तुम ये काम कर रहे हो?

सेल्समैन: दो साल हो गये हैं लगभग।

शबाना: (हँसते हुए) तो काफ़ी एक्सपीरियंस है!

सेल्समैन: जी हाँ। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है

शबाना: तो फिर तो तुम काफ़ी लेडीज़ को खुश कर चुके हो… हा। हा। हा।

सेल्समैन: (थोड़ा शर्माते हुए) जी हाँ कस्टमर्स.. ऑय मीन लेडीज़ को खुश करना ही मेरा काम है।

शबाना: चलो देखते हैं। मेरी पसन्द थोडी हट के है।

शबाना ने अपने लिये दूसरा पैग तैयार किया और फिर एक सिप ले कर बोली।

शबाना: वैसे एक बात तुमने सही कही थी की तुम्हारी कम्पनी के सेल्समैन हेन्डसम हैं।

सेल्समैन: थेन्क यू वेरी मच।

शबाना: चलो तो दिखाओ अपना सामान।

सेल्समैन: जी??? जी अच्छा मगर पहले बताइये कि आप का साईज़ क्या है। दर असल सारे गार्मेन्ट्स मेरी गाड़ी मे बक्सों मे पड़े हैं और मैं ठीक साईज़ वाला बक्सा निकाल के ले आऊँगा।

शबाना: (नासमझी की एकटिंग करते हुए) किस का साईज़?

सेल्समैन: आप कौन सा ब्रा साईज़ और कौन सा पैन्टी साईज़ पहनती हैं?

शबाना: मेरे खयाल से ब्रा साईज़ थर्टी-सिक्स है। अच्छा देखतें हैं तुम कितने अच्छे सेल्समैन हो। मुझे देख कर बताओ मेरा साईज़ क्या होगा?

सेल्समैन: (शबाना के बूब्स को घूरते हुए) जी मेरे खयाल से थर्टी-फोर होना चाहिये। आप कहें तो मैं नाप के बताऊँ?

शबाना: हाँ नाप के देखो।

सेल्समैन ने इंची टेप को शबाना की पीठ के दोनो तरफ़ से कन्धों के नीचे से घुमा कर उसके बूब्स के नीचे दोनो सिरों को जोड दिया। उसकी अँगुलियाँ शबाना के बूब्स को हल्के से छूईं और साईज़ पढने के लिये वो अपना

मुँह टेप के बिल्कुल पास ले आया। शबाना ने उसकी गरम साँसें अपने बूब्स पर महसूस कीं और उसी समय यह तय कर लिया की राशिद के साथ बनाये प्लैन को वो आज हकीकत में बदल देगी।

सेल्समैन: आपका अंदाज़ा बिलकुल सही था। आपका साईज़ थर्टी-सिक्स ही है।

सेल्समैन: अच्छा मैडम, आपको अपना कप साईज़ तो मालुम होगा?

शबाना: (जानबूझ कर) नहीं, मुझे नहीं मालुम।

सेल्समैन: तो फिर आप अपना कोई पुराना ब्रा दे दीजिये। मैं देख कर पता लगा लूँगा।

शबाना: नहीं, मेरे पुराने ब्रा मे कोई भी ऐसा नहीं है जो मुझे बिलकुल फ़िट आता हो, तुम अपने हाथों से नाप के ही देख लो ना।

सेल्समैन: (थोडे आश्चर्य के साथ) ज..जी.. मैडम?

शबाना का दूसरा पैग भी करीब-करीब खत्म होने आया था और उसे हल्का सा मीठा सुरूर महसूस हो रहा था। जो थोड़ी बहुत हिचकिचाहट थी वो भी दूर हो गयी थी।

शबाना: सॉरी अगर मैं तुम्हें अन-कमफरटेबल कर रही हूँ तो। मेरे शौहर मुल्क के बहार गयें हैं और मैं बोर हो रही थी, इसलिये तुम्हें जल्दी जाने देना नहीं चाहती।

सेल्समैन: आप चिंता मत करो। आप जब तक चाहें मैं यहीं आप के साथ रहुँगा। अच्छा कितने दिनों से बाहर हैं आप के हस्बैंड?

शबाना: तीन महीने हो गयें हैं और अभी दो-तीन महीने और लगेंगे।

सेल्समैन: ओ माई गाड! ये तो बहुत लम्बा टाईम है!

शबाना: हाँ! अब तो हद हो गयी है। आखिर मेरी भी कुछ ज़रूरतें हैं।

सेल्समैन: जी मैं समझ सकता हूँ। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है

शबाना: तुम्हारी शादी हुई है?

सेल्समैन: जी अभी तो मैं काफी छोटा हूँ शादी के लिये।

शबाना: कोई गर्लफ़्रेन्ड?

सेल्समैन: नहीं वो भी नहीं।

शबाना: तो फिर तुम कुछ नहीं समझ सकते। वैसे तुम जैसे हेन्डसम लडके की कोई गर्लफ़्रेन्ड कैसे नहीं है?

सेल्समैन: जी मेरे पास टाईम ही नहीं है। दिन में मैं कालेज जाता हूँ और शाम को मैं ये पार्ट टाईम जाब करता हूँ।

शबाना: ओके समझी। चलो छोडो… ले लो मेरा नाप।

सेल्समैन: जी अच्छा।

सेल्समैन शबाना के करीब आया और इंची टेप को शबाना की पीठ के दोनो तरफ़ से कन्धों के नीचे से घुमा कर इस बार उसके बूब्स की गोलाइयों के साईज़ का अंदाज़ा लगाने की कोशिश करने लगा।

शबाना: (हल्की से मुस्कुराहट देते हुए) अगर तुम दूर से इतनी लूज़ली साईज़ नापोगे तो कैसे पता चलेगा?

सेल्समैन: (अब कम भय के साथ) आप ठीक कह रहीं हैं मैडम।

सेल्समैन ने अब अपने हाथ शबाना के टॉप के उपर से उसके बूब्स पर रख दिये और थोड़ा सा दबाया।

सेल्समैन: जी मेरे हिसाब से आपका कप साईज़ डीडी होना चाहिये। आपके टॉप और ब्रा की वजह से थोड़ा ज़्यादा आ रहा है।

शबाना: नहीं नहीं… मुझे बिलकुल ठीक साईज़ ही चाहिये। मैं टॉप और ब्रा उतार देती हूँ और तुम नाप लो।

सेल्समैन: (आश्चर्य के साथ) ज..जी.. मैडम? आप जैसा कहें मैडम।

शबाना: जब मैं इतना सब कर रही हूँ तो तुम मुझे शबाना बुला सकते हो।

सेल्समैन: जी.. मैं कैसे… मैं तो आपसे काफी छोटा हूँ…?

शबाना: शबाना नहीं तो शबाना जी तो कह सकते हो?

सेल्समैन: ओके शबाना जी … आप भी मुझे विकास बुला सकती हैं।

शबाना ने अपना टॉप खींच कर उतार दिया और पीछे लगे ब्रा के हुक्स खोलने का प्रयास करने लगी।

शबाना: अरे विकास, हुक्स खोलने मे मेरी मदद करो ना।

शबाना पीछे घूम गयी और विकास ने उसके ब्रा की पट्टी को दोनो हाथों से पकड़ कर हुक्स खोल दिये। शबाना अब टॉपलेस हो कर विकास की तरफ़ घूम गयी। विकास ने उसके बूब्स को कुछ देर निहारा और फिर अपने हाथों

को उसके बूब्स पर रख कर नापने लगा। उसने शबाना के बूब्स को थोड़ा दबा दिया। शबाना ने अपनी आँखें बन्द करके हलकी सी आह भरी। विकास अब तक शबाना के इरादे समझ चुका था कि ये चुदाई की भूखी औरत

उससे क्या चाहती है!

विकास: शबाना जी आपका बस्ट साईज़ आपके बैंड साईज़ से छः इंच ज्यादा है… तो आपका कप साईज़ डीडी है । वाह ३६ डीडी तो हर लडकी का सपना होता है। आप बहुत लकी हो।

शबाना: (आँख मारते हुए) हाँ विकास, थेन्क यू। मगर इस समय तो मुझे तुम लकी लग रहे हो

विकास: यह तो सच है। अच्छा पैन्टी का साईज़ भी नाप लें?

शबाना: हम, मगर यहाँ नहीं। बेडरूम मे चलते हैं। पर उसके पहले वोडका-निंबू का एक-एक जाम हो जाये।

विकास: ठीक है।

शबाना ने दो पैग तैयार किये। दोनों ने अपने-अपने पैग खत्म किये और शबाना विकास का हाथ पकड़ कर उसे बेडरूम मे ले गयी और बेड के किनारे पर बैठ गयी। शबाना तो तीन पैग के बाद पूरी मस्ती में थी।

शबाना: हाँ अब तुम मेरी पैन्टी क साईज़ नाप सकते हो।

विकास ने शबाना की स्कर्ट उठाया और उसकी पैन्टी के उपर से उसकी कमर पर हाथ फेरा।

विकास: शबाना ये स्कर्ट बीच मे अड़ रही है। इसे उतारना पड़ेगा।

शबाना: तो सोच क्या रहे हो? दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है

विकास ने शबाना की स्कर्ट की साईड पर लगी ज़िप को खोल दिया और खींचने लगा। शबाना ने भी अपनी गाँड उठा कर स्कर्ट उतारने मे उसकी मदद की। शबाना ने एक छोटी सी पैन्टी पहनी हुई थी जिसमे से उसकी चूत

की शेप उभर के दिखायी पढ़ रही थी। विकास से रहा नहीं गया और वो पैन्टी के उपर से शबाना की चूत को सहलाने लगा। शबाना के बदन में उत्तेजना की एक लहर सी दौड गयी और उसने अपने घुटनों को जोड़ते हुए

विकास का हाथ को अपनी जाँघों के बीच मे जकड लिया।

शबाना: क्यों कैसी लगी मेरी पैन्टी?

विकास: अच्छी है, मगर मुझे उतार के देखनी पड़ेगी।

शबाना: अरे वाह, मैं तुम्हारे सामने सिर्फ़ पैन्टी और सैंडल पहने बैठी हूँ और तुमने पूरे कपड़े पहन रखे हैं। ये तो ठीक नहीं है।

विकास: तो उतार लो ना जो आपको उतारना है। मना किसने किया है।

शबाना ने विकास की शर्ट के बटन खोले और अपने हाथ उसकी कसी हुई चेस्ट पर फेरने लगी।

शबाना: वाह! तुम्हारी बोडी तो बड़ी मैस्क्यूलीन है।

विकास: हाँ मैं हर रोज़ ऐक्सरसाईज़ करता हूँ।

शबाना ने फिर विकास की बेल्ट उतारी और उसकी पेन्ट आगे से खोल कर नीचे खींच दी। विकास का तना हुआ लन्ड उसके अन्डरवियर में से तोप की तरह उभर रहा था। शबाना ने अन्डरवीयर के उपर से विकास के लन्ड

को अपनी मुठी मे जकड़ लिया।

शबाना: या अल्लाह! तुम्हारा लन्ड तो बहुत ही मोटा और तगड़ा है। इसकी भी रोज़ ऐक्सरसाईज़ करते हो क्या?

विकास: हाँ इसकी भी रोज़ मालिश होती है मेरी मुट्ठी में।

शबाना: चलो अब हम एक जैसी हालत मे हैं – अपने अपने अन्डरवीयर में। आओ मुझे अपने आगोश में ले लो ना।

यह कह कर शबाना खड़ी हो कर और विकास से चिपट गयी। विकास ने कस कर शबाना को अपनी बाँहों में जकड़ लिया। शबाना के बूब्स उसकी छती पर बुरी तरह से दबने लगे। विकास का खड़ा लन्ड अंडरवीयर के नीचे से

शबाना की जाँघों के बीच मे उसकी पैन्टी पर रगड़ने लगा। फिर विकास ने शबाना के गले की साईड पर एक किस किया तो शबाना ने एक लम्बी आह भरी। अब तक दोनो ही बहुत गरम हो चुके थे। विकास शबाना की पैन्टी

के उपर से उसकी गाँड पर हाथ फेरने लगा तो शबाना ने विकास के होंठों को चूसना शुरू कर दिया। फिर विकास ने शबाना की पैन्टी के अन्दर हाथ डाल कर उसकी चूत पर अँगुली फिरायी। शबाना की चूत अब तक काफ़ी

भीग चुकी थी।

शबाना: आआआआआआआहहहहहहह विकास मेरी पैन्टी उतार दो ना। मेरे साथ जो करना है कर लो। आज मैं सिर्फ़ तुम्हारी हूँ।

विकास: तो फिर मेरा अन्डरवीयर उतारो और मेरे लन्ड को किस करो।

शबाना झुक कर अपने घुटनो पर बैठ गई और विकास का अन्डरवीयर खींचने लगी मगर विकास के खड़े लन्ड में वो अड़ गया। शबाना ने अपना हाथ अन्डरवीयर के अन्दर डाला और लन्ड को अज़ाद कर दिया। लन्ड इतना

तन कर खड़ा था की शबाना की मुठी मे पूरा भी नहीं आ रहा था।

शबाना: सुभानल्लाह! कितना बडा और मोटा है!

विकास: तो किस करो ना इसे।

शबाना ने लन्ड की टोपी को चूसा और फ़िर पूरा सुपाड़ा मुँह के अन्दर ले लिया। विकास ने उसका सिर पकड़ा और लन्ड को उसके मुँह मे धकेल दिया। शबाना उसे चूसने लगी। विकास लन्ड को शबाना के मुँह के अन्दर

बाहर करने लगा। बीच-बीच मे शबाना उसे निकाल कर लन्ड की पूरी लम्बाई चाटती। थोडी देर बाद विकास को अपना लन्ड बाहर निकालना पडा जिस से वो जल्दी न झड़ जाये।

शबाना: क्यों मज़ा आया? दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है

विकास: हाँ बहुत! आप बहुत अच्छा चूसती हो… अब मुझे अपनी चूत दिखाओ ना?

शबाना से अब रहा नहीं जा रहा था। वो वोडका और वासने के नशे में झूम रही थी। उसने जल्दी से अपनी पैन्टी उतार दी और हाई हील के सैंडल के अलावा पूरी नंगी खड़ी हो गई – विकास के तने लन्ड के सामने। शबाना

की चूत का रस उसकी टाँगों से बह रहा था। विकास ने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और उस पर चढ़ कर उसके बूब्स बुरी तरह चूसने लगा।

शबाना: उउउउईईईई उउफ़फफ़आ..हहह..आआहहहहहह प्लीज… थोड़ा धीरे चूसो ना।

विकास ने अब अपनी जीभ उसकी नाभी से डाली। शबाना उसके मुँह को अपनी चूत की तरफ़ धकेलने लगी। विकास उसका इशारा समझ गया और अपना मुँह उसकी चूत की ओर ले गया। फ़िर वो उसकी चूत को चाटने

लगा और उसकी क्लिट पर अपनी जीभ की नोक फिराने लगा। फ़िर जीभ की नोक को उसकी चूत के होंठों के बीच डाल कर उन्हें खोलने लगा ।

शबाना अब बहुत ज़्यादा तडप रही थी और उसका बदन उत्तेजना में जोर ज़ोर से काँप रहा था। वो बहुत आवाज़ें भी निकल रही थी।

शबाना: ममममम… ऊऊईईईई… आआआ मैं मर… जाऊँगी… प्लीज! ये जिस्म तुम्हारा है… आआआहहहहह॥॥॥!!!!!! चढ़ जाओ मेरे जिस्म पर और मेरी चूत को चीर डालो अपने लन्ड से।

विकास उठा और शबाना के नंगे बदन पर चढ गया और उसके बूब्स को मसलते हुए उसकी जाँघें फैलायी और लन्ड को चूत के मुख पर रख कर थोड़ा ज़ोर लगया। एक जोर के झटके ने लन्ड के सुपाड़े का आधा भाग

अन्दर कर दिया। इतना लम्बा और मोटा लन्ड होने की वजह से शबाना के मुँह से दर्द-भरी सिसकी निकली पर अब उसे किसी चीज़ की परवाह नहीं थी और उसने अपनी टाँगें और फ़ैला दीं। विकास ने अपना लन्ड

आहिस्ता-आहिस्ता शबाना की चूत मे पूरा घुसा दिया।

शबाना: ऊऊऊऊऊईईईईईई… ममममम…. अल्लाह… इस लन्ड ने तो मुझे मार डाला !

अब विकास शबाना के ऊपर लेट गया और उसके होंठों को अपने होंठों से चूसने लगा। वो अपने हाथों से उसकी चूचियों के साथ खेलने लगा। अपने लन्ड को थोडी तेज़ी से सबीहा की चूत मे अन्दर-बाहर करने लगा। शबाना

ने अपनी जाँघें विकास की कमर पर बाँध लीं और अपने चूतड़ उठा-उठा कर चुदवाने लगी। कुछ समय चुदाई के बाद शबाना ने एक लम्बी चींख मारी और उसका बदन झटके मारने लगा। विकास समझ गया की शबाना को

ओरगैज़्म आ गया है।

विकास ने अब अपनी चुदाई की रफ़्तार बढ़ाई और लम्बे-लम्बे स्ट्रोक्स लेने लगा। साथ ही अपने होंठों से वो शबाना के बूब्स को ज़ोर से चूसने लगा। शबाना की चूत इतनी गीली हो चुकी थी की जब भी विकास का लन्ड

अन्दर जाता तो एक फच्च-फच्च की अवाज़ आती।

शबाना: ऊउउहहहहऊऊऊऊऊऊहहहहहह… आआऊऊ… आआऊओ… चोदो मुझे और जोर से!!! आआहह फ़क मी हार्ड…. उउउउहहहहह… आआआआआआआँआँआँआँ।

शबाना को एक बार और झटके खाते हुए ओरगैज़्म आ गया। उसने विकास को उसे डोगी-स्टायल में चोदने के लिये कहा। वो बिस्तर पर घुटनों के बल, अपनी गाँड उठा कर झुक गयी। विकास ने भी घुटनो के बल बैठ कर

पीछे से उसके बूब्स को जकड लिया और अपना लम्बा लन्ड उसकी चूत मे दे दिया। अब लन्ड शबाना की चूत की काफ़ी गहरायी तक अन्दर जाने लगा। इस तरह लगभग दस मिनट और चुदाई चलती रही। फ़िर विकास से

रहा नहीं गया और उसका पूरा बदन बुरी तरह अकड़ गया। उसके लन्ड का साईज़ और फूलने लगा और वो हार्ड भी ज़्यादा होने लगा। एक लम्बी से आह भर के उसने एक आखरी स्ट्रोक लिया और उसके लन्ड ने विस्फोट

के साथ अपना सारा स्पर्म शबाना की चूत मे छोड़ दिया। सबीहा भी उसके टाईट लन्ड की आखरी स्ट्रोक के साथ तीसरी बार झड़ गयी। दोनों संतष्ट हो कर थोड़ी देर बिस्तर पर चिपक के लेट गये।

विकास: क्यों शबाना जी मज़ा आया?

शबाना: उफ़फ़फ़फ़फ़… बहुत मज़ा आया। आज के बाद तुम रोज चोदने आ जाया करो। जब तक मेरे शौहर नहीं आ जाते… आओगे ना…?

विकास: हाँ क्यों नहीं। आप जब कहोगी मैं हाज़िर हो जाऊँगा। मगर आपके शौहर को पता चल गया तो?

शबाना: उसकी चिंता तुम मत करो। उन्हें पता है की मैं किसी गैर-मर्द के साथ चुदाई करने वाली हूँ।

विकास: सच में? और उन्हें इस मे कोई ऐतराज़ नहीं है?

शबाना: नहीं। हम ने सोच कर ही ये फ़ैसला किया था की जब तक हम एक दूसरे से दूर हैं तो ऐसे ही अपनी अपनी प्यास बुझायेंगे। दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है

विकास: आप और आपके शौहर तो बहुत ही खुले विचारों के हैं।

शबाना: हाँ… और शायद उनके आने के बाद मैं उन्हें थ्रीसम के लीये भी राज़ी कर लूँ तुम्हारे साथ। तुम्हे ये अच्छा लगेगा? मेरी कब से तमन्ना है कि मैं अपने गाँड और चूत में एक साथ दो लंड लूँ।

विकास: बहुत अच्छा। मेरी तो किसमत ही खुल गयी है।

अगले दिन दोबारा मिलने का प्लान बना कर विकास ने शबाना के होंठों को चूमा और चला गया। जाने से पहले उसने शबाना को एक सुन्दर नीले रंग का ब्रा और पैन्टी का सेट उपहार मे दिया जो की बिल्कुल जालीदार था

और बहुत छोटा भी। शबाना ने उसे अगले दिन उसी सेट में मिलने की प्रोमिस किया।

उसके जाते ही शबाना ने राशिद को फोन किया और सारी बात बतायी। राशिद ने भी उसे बताया की वो अपने दोस्त की बीवी के साथ चुदाई कर चुका है। दोनों ने वादा किया की मिलने पर वो अपनी सेक्स लाईफ़ को

ऐसे ही रोमाँचक बनाये रखेंगे।

मेरे प्यारे लंड के मालिको और चूत की मालकिनो आगे दुबई से आने के बाद शबाना के शौहर ने थ्रीसम चुदाई कैसे की अगली कहानी में लिखुगी आप लोग अपनी प्रतिक्रिया कमेंट बॉक्स में लिख कर दीजिये |


The post शबाना की गर्मी सेल्समैन ने शांत की appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahani.




शबाना की गर्मी सेल्समैन ने शांत की

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks