All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

चाची को बिस्तर पर पटक कर चूत मारी


प्रेषक: अंकुश


हाई दोस्तो मेरा नाम अंकुश है, में २० साल का हूँ, ये कहानी मेरी चाची के बारे मे है. चाची की उमर ३४ साल का. ग-३५-२८-३८, उनकी रंग तोड़ा सावला सा है,उनकी बाल काफ़ी घने,लंबे है, दिखने मे काफ़ी सुंदर ओर सेक्सी है. मेरे चाचा यानी चाची के पति को दिहांत हुए 2 साल हो गये है. अब घर मे सिर्फ़ में,पापा,मम्मी,दादा,दादी,चाची रहते है. मम्मी ऑर पापा कुछ दिन के लिए मेरे नाना नानी के घर गये थे, घर मे अब सिर्फ़ दादा,दादी ओर चाची थे, मेरी दादी एक स्ट्रिक्ट किसम की औरत है. वो चाची को ज़्यादा पसंद नही करती थी | एक दिन चाची नहा के आ रही थी, बाल सुखाने के लिए चाची ने खुले रखे थे. जब चाची बाल सुखाने के लिए बालो को झाड़ रही थी तब पानी के कुछ छींटे दादी के उपर पड़ गये, दादी एकदम भड़क गयी ओर चाची को खूब सारी गलियाँ दी ऑर कहा-तुम विधवा हो विधवा की तरह रहो, आज तुम्हे इसकी सज़ा मिलेगी, आज तुम अपना सिर मुंडवाओगी. ये कहकर दादी ने मुझे एक नाई को घर लाने को कहा. तो में नाई को बुलाने चला गया. जब में नाई को लेकर घर आया तो देखा कि चाची एक कुर्सी पर बैठी थी ऑर रो रही थी वो दादी को मना कर रही थी पर दादी ने चाची की एक भी बात ना सुनी | दादी ने नाई को कहा-इसका सिर अच्छी तराहा से मुंडवा दो पूरी गन्जि कर दो. फिर नाई ने अपने बक्से से केँची निकाली ओर केँची चला कर चाची के बालो को छोटे छोटे कर दिया, उनके लंबे लंबे बाल चाची के गोदी पर गिर रहे थे. फिर नाई ने कटोरे मे पानी लेकर चाची के सिर पर पानी से अच्छी तरहा से मालिश की फिर बक्से से उस्तरा निकाला ऑर एक न्यू ब्लेड डाली ओर चाची के सिर पे उस्तरा रखके रगड़ ना सुरू किया, अब चाची सामने से गन्जि हो रही थी. फिर नाई ने पीछे के बाल काटे. अब सिर्फ़ दोनो साइड के बाल बचे थे. उस समय चाची एकदम सेक्सी दिख रही थी.नाई ने अब दोनो साइड के बाल काट दिए. चाची अब पूरी तरह गन्जि हो चुकी थी. दादी ने सिर पर हाथ फेरा ऑर कहा- ये अच्छी तरह से नही हुआ है फिरसे उस्तरा फेरो एकदम चिकना करदो. तो नाई ने शेविंग क्रीम लगाके फिरसे उस्तरा चलाया. अब चाची का सिर एकदम चिकना ओर चाँद जैसा चमक रहा था. तब मेरा मन चाची को चोदने को कर रहा था. मुंडन होने के बाद चाची रोते हुए अपने कमरे मे चली गयी. और मे भी अपने कमरे मे चला गया | दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | अपने कमरे मे चाची का चहेरा याद करके मूठ मारने लगा. रात को डिन्नर करते वक़्त चाची खाना खाने को नही आई. 1 घंटे बाद दादा दादी सोने को चले गये. तो में चाची के लिए खाना उनके कमरे में ले गया. कमरे का दरवाजा खुला था. अंदर देखा तो चाची बेड पर बैठी रो रही थी. तो मेने कहा -चाची आप खाना खा लीजिए | चाची-मुझे भूक नही है. में-आप मेरी खातिर तो खा लीजिए, बर्ना में आपसे बात नही करूँगा. चाही मुझे बहुत पसंद करती है. तो वो मना नही कर पाई. ऑर कहा- तू ही तो है इस घर में जो मेरा दुख ओर तकलीफ़ समझता है. फिर चाची ने खाना खाया ओर कहा-अंकुश क्या तुम मेरे साथ यहाँ बैठ के कुछ बाते कर सकते हो. मेरे लिए ये अच्छा मौका था अपने दिल की बात कहने को तो में वहाँ बैठ गया. चाची खाना खा चुकी थी. तो मेने बात सुरू की. में-चाची आप बहुत सुंदर लग रही हो. चाची-अंकुश तुम मेरा मज़ाक क्यूँ उड़ा रहे हो.में- आप बिना बालो के काफ़ी सुंदर दिखती हो. चाची-क्या तुम्हे गन्जि औरते अच्छी लगती है. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

में-हाँ. अब चाची काफ़ी रिलॅक्स थी ऑर हस भी रही थी. तो मेने अपनी ज़रूरी बात सुरू करदी. में-चाची मुझे आपसे कुछ कहना है, आप बुरा तो नही मनोगी. चाची-नही मनुगी, तू बोल. में- में आपसे बहुत प्यार करता हूँ. जबसे आपको देखा है मेरा मन मे आपके साथ सेक्स करने की इच्छा होती है. चाची(गुस्से से)- अंकुश ये सब ग़लत है, तुम्हे मुझसे ये सब नही कहना चाहिए.

में- मुझे पता है आप अभी भी सेक्स के लिए तड़प रही है. मेने आपको कयि बार मैथुन करते हुए देखा है.

ये सुनके चाची थोड़ी शांत हो गयी ओर कहा- अंकुश ये सच है में सेक्स के लिए 2 सालो से तड़प रही हूँ, जबसे तेरे चाचा जी का दिहांत हुआ है तबसे मेरा सरीर सेक्स लिए तड़प रहा है, पर में एक विधवा हूँ ऑर तुझसे काफ़ी साल बड़ी हूँ.

मेने कहा- प्यार में कोई उमर नही होती, ऑर रही बात आपके विधवा होने की तो में आपको अपनी पत्नी बनाउन्गा.

फिर मेने चाची की अलमारी से सिंदूर की डिब्बी ऑर एक पुराना मन्गल्सुत्र निकाला, ओर चाची के गंजे सिर पर सिंदूर लगाया ओर गले में मंगलसूत्र पहना के अपनी पत्नी बनाया. में- आज से तुम मेरी पत्नी हो ऑर में तुम्हारा पति. चाची-हाँ अंकुश अब में तुम्हारी पत्नी अबसे मेरा सरीर तुम्हारा है तुम जो चाहे कर सकते हो. ये सुनते ही में चाची के होंठो को चूमने लगा, चूमते चूमते चाची की सारी ऑर पेटिकोट उतार दिया अब चाची सिर्फ़ पैंटी ओर ब्रा में थी, क्या गजब की लग रही थी. मेने अपना सारे कपड़े उतार दिए, मेरा 7 इंच का लंड खड़ा होके चाची को सलाम दे रहा था. चाची मेरे लंड को अपने मूँह मे लेकर चूसने लगी. 2 मीं चूसने के बाद. मेने चाची की ब्रा उतार दी. उनके बड़े बड़े बूब्स को देखकर में पागल सा होगया ओर उनके बूब्स मसल्ने ओर चूसने लगा. अब मेरा धैर्य खो रहा था, मेने चाची की पैंटी भी उतार दी, चाची मेरे सामने पूरी तरह नंगी थी, क्या सेक्सी लग रही थी. उनकी चूत काफ़ी बड़ी थी ऑर घने बाल भी थे. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

मैंने चाची को बिस्तर पर लिटाया ऑर उनके जाँघो को चौड़ा कर अपना लंड चूत मे टिका कर रगड़ने लगा. रगड़ते रगड़ते लंड को थोड़ा अंदर डाल दिया, चाची की चूत काफ़ी टाइट थी, उन्होने 2 सालो से सेक्स नही किया था तो थोड़ा दर्द हो रहा था. फिर मेने अपना पूरा लंड झट से अंदर डाल दिया. चाची दर्द से चिल्ला उठी ऑर कहा- अयैआइयियीयियी माआ मर गयी थोड़ा धीरे कर. पर में नही माना ओर ज़ोर ज़ोर चुदाई चालू की. मुझे बड़ा आनंद मिल रहा. अब चाची भी मज़े ले रही थी उनके मूँह से अब आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह्ह्ह जैसी आवाज़ आ रही थी. फिर मेने चाची को घोड़ी बनाकर घोड़े की तरह चोदने लगा .चाची ने कहा- चोद साले अपनी रंडी बीवी को, मेरी 2 साल की हवस को पूरी कर्दे आज. मेने चाची को लगभग 2 घंटे तक अलग अलग पोज़िशन मे चोदा. अंत में चाची को पीठ के बल लिटाया ऑर उनके पैरो को एक साथ जोड़ कर चूत को थोड़ा उपर उठाया फिर मेने अपना लंड अंदर डाल कर ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा 2 मिनट तक करते ही में झाड़ गया ओर अपना सारा वीर्य चाची की चूत में डाल दिया. चाची भी तब तक शांत हो चुकी थी. उस रात मेने ओर चाची ने कई बार सेक्स का आनंद लिया. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |

अब चाची खूष रहती है ओर अपने विधवा होने का अफ़सोस नही करती. मेरेलिए चाची अपना सिर भी हर महीने मुंडवा देती है. जिससे दादी भी हैरान हो जाती हैं. चाची ऑर में जब भी मौका मिलता हम जमकर चुदाई कर लिया करते है |


The post चाची को बिस्तर पर पटक कर चूत मारी appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahaniya.




चाची को बिस्तर पर पटक कर चूत मारी

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks