All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

जीजाजी के जाल में फस कर चुदी


प्रेषिका: गरिमा


मैं गरिमा हूँ इस साल मेरी शादी होने वाली है. मैं छोटे एक कस्बे की सीधी साधी लड़की हूँ. सुंदर और भरे बदन की मालिका. जो भी देखता बस देखता ही रह जाता. काफ़ी मनचलों ने डोरे डालने की कोशिश की मगर मैं हमेशा अपना दामन बचा कर चलती थी. मैने ठान रखा था कि अपना बदन सबसे पहले अपने पति को ही सौंपूँगी. मगर किस्मत मे तो कुछ और ही था. मेरी एक बड़ी बहन भी है रागिनी. रागिनी दीदी की शादी को चार साल हो गये थे. मेरा जीजा राजेश बहुत ही हॅंडसम आदमी है. बातें इतनी अच्छी करते हैं कि सुनने वाला बस उनके सम्मोहन मे बँधा रह जाता है. दीदी के मुँह से उनके बहुत किस्से सुन रखे थे. उनकी शादी से पहले कई लड़कियों से उनके संबंध रह चुके थे. कई लड़कियों से वो संभोग कर चुके थे. मैं शुरू शुरू मे उनपर बहुत फिदा थी. आख़िर साली जो ठहरी. मगर उनके कारनामे सुनने के बाद उनसे सम्हल कर रहने लगी. मैने देखा था कि वो मुझसे हमेशा चिपकने की कोशिश करते थे. मोका ढूँढ कर कई बार मुझे बाहों मे भी भर चुके थे. एक दो बार तो मेरी चूचियो को अपनी कोहनी से दाब चुके थे. मैं उनसे दूरी रखने लगी. मगर शिकारी जब देखता है कि उसका शिकार चोकन्ना हो गया है तो उसे पकड़ने के लिए तरह तरह की चाल चलता है. और निरीह शिकार उसके चालों को ना समझ कर उसके जाल मे फँस जाता है. मेरे संबंध की बातें चल रही थी. मम्मी पापा को किसी लड़के को देखने दूर जाना था. दो दिन का प्रोग्राम था. घर पर मैं अकेली रह जाती इसलिए उन्हों ने दीदी और जीजा को रहने के लिए बुलाया. वैसे मैने उनसे कहा कि मैं अकेली रह जाउन्गि लेकिन अकेली जवान लड़की को कोई भी माता पिता अकेले नही छोड़ते. दीदी और जीजा के आने के बाद मेरे मम्मी पापा निकल पड़े. जैसा मैने सोचा था उनके जाते ही राजेशजी मेरे पीछे लग गये. द्वि अर्थी बातें बोल बोल कर मुझे इशारा करते. दीदी उनकी बातें सुन कर हंस देती. मैं दीदी से कुछ शिकायत करती तो वो कहती कि जीजा साली के संबंधो मे ऐसा चलता ही रहता है. राजेश जी पर किसी बात का कोई असर नही होता था. मैं उनकी हरकतों से झुंझला उठी थी. उस दिन मैं नहा कर निकली तो राजेश जी ने मुझे अपनी बाहों मे भर कर मेरे बालों मे अपना चेहरा घुसाकर सुगंध लेने लगे. मैं गुस्से से तिलमिला उठी और उन्हे धकेलते हुए उनसे छितक कर अलग हो गयी. “आप अपनी हदों मे रहिए नही तो मैं मम्मी पापा से शिकायत कर दूँगी” “मैने ऐसा क्या किया है. बस तुम्हारे बालों की महक ही तो ले रहा था.” कहकर राजेशजी ने वापस मुझे पकड़ना चाहा. “खबरदार अपने हाथ दूर रखिए. मुझे च्छुने की भी कोशिश मत करना” मगर वो बिना मेरी बातों की परवाह किए अपने हाथ मेरी तरफ बढ़ाए. मैं अपने को सिकोडते हुए ज़ोर से चीखी”दीदी” दीदी किचन से निकल कर आई. “क्या हुआ क्यों शोर मचा रही है” “दीदी, जीजाजी को समझा लो. वो मेरे साथ ग़लत हरकतें कर रहे हैं.” दीदी ने उनकी ओर देखते हुए कहा, “क्यों गरिमा को परेशान कर रहे हो” “मैं क्या परेशान कर रहा हूँ? पूछो इससे मैने ऐसी कौन सी हरकत की है जो ये बिदक उठी” “दीदी ये मुझे अपनी बाहों मे लेकर मेरे बदन को चूमने की कोशिश कर रहे थे.” “ग़लत बिल्कुल ग़लत. मैं तो अपनी इस खूबसूरत साली के बालों पर न्योचछवर हो गया था. मैं तो बस उसके सुंदर सिल्की बालों को चूम रहा था. पूछो गरिमा से अगर मैने इसके बालों के अलावा कहीं होंठ लगाए हों तो” इससे पहले की दीदी कुछ बोलती मैं बोल उठी, “नही दीदी ये आपके सामने झूठ बोल रहे हैं. इनकी कोशिश तो मेरे बदन से खेलने की थी.” दीदी ने जीजा जी की तरफ देखा तो वो कह उठे “तुम्हारी कसम रागिनी मैं गरिमा के सिर्फ़ बालों को छू रहा था. देखो कितने सुंदर बाल हैं” ये कह कर वो मेरे पास आकर वापस मेरे बालों पर हाथ फेरने लगे. मैं गुस्से से तिलमिला कर उनको धकेलते हुए उनसे दूर हो गयी. “रहने दो रहने दो मुझे आपकी सारी हरकतें मालूम हैं. आप बस मुझसे दूर ही रहिए” मैं रुवासि हो उठी. ” अरे गरिमा क्यों इनकी हरकतों को इतना सीरीयस लेती हो. अगर ये तुम्हारे बालों को चूमना चाहते हैं तो चूम लेने दो. इस से तुम्हारा क्या नुकसान होज़ायगा.” दीदी ने समझाते हुए कहा. “अरे दीदी ये जितने भोले बन रहे हैं ना उतने हैं नही” ” गरिमा अब मान भी जा” दीदी ने फिर कहा. ” ठीक है. लेकिन ये वादा करें कि सिर्फ़ मेरे बालों के अलावा कुछ भी नही छ्छूएँगे” मैने कहा “ठीक है मैं तुम्हारी दीदी की कसम लेकर कहता हूँ की सिर्फ़ तुम्हारे बालों को ही चूमूंगा उसके अलावा मैं और किसी अंग को नही छ्छूंगा. लेकिन अगर तुम खुद ही मुझे अपने बदन को छूने के लिए कह्दो फिर?” उन्हों ने मुझे छेड़ा “फिर आपकी जो मर्ज़ी कर लेना मैं कुछ भी नही कहूँगी. मैं भी कसम खाती हूँ कि आप अगर सिर्फ़ बालों को चूमे तो मैं कुछ भी नही कहूँगी” “देख लो बाद मे पीछे मत हटना” राजेश जी ने कहा. “जी मैं आप जैसी नही हूँ. जो कहती हूँ करके रहती हूँ.” “ठीक है जब तुम राज़ी हो ही गयी हो तो ये काम आराम से किया जाए. चलो बेड रूम मे. वहाँ बिस्तर पर लिटा कर आराम से चूमूंगा तुम्हरे बालों को” उन्हों ने चहकते हुए कहा. मैने और ज़्यादा बहस नही किया और चुपचाप उनके साथ हो ली. हम बेडरूम मे आ गये. मैं बिस्तर पर लेट गयी. और अपने बदन को ढीला छ्चोड़ दिया.दीदी ने मेरे बालों को फैला दिया. जीजाजी बिस्तर पर मेरे बगल मे बैठ कर अपने हाथों मे मेरे बाल लेकर उन्हे चूमने लगे. धीरे धीरे उनके होंठ मेरे सिर तक आए. मेरे सिर पर बालों को तरह तरह से चूमा फिर मुझे पीछे घूमने को कहकर मेरे गर्देन मे अपने होंठ च्छुआ दिए. गर्दन पर पहली बार किसी मर्द की गर्म साँसों के पड़ने से मन मे एक बेचैनी सी होने लगी. फिर उन्हों ने मुझे सीधा किया और मेरे बालों से उतरकर उनके होंठ मेरे माथे को चूमने लगे. मैं ये महसूस करते ही चौंक उठी. “ये क्या कर रहे हो. आपने वादा किया था कि मेरे बालों के अलावा किसी अंग को नही छ्छूएँगे.” मैने उठने की कोशिश की. “मैं वही कर रहा हूँ जो मैने वादा किया था. मैं तुम्हारे बालों को ही चूम रहा हूँ. मैने ये कहाँ कहा था कि सिर्फ़ सिर के बालों को चूमना चाहता हूँ. हां अगर ये साबित कर दो कि तुम्हारे बदन पर सिर के अलावा कहीं और बाल नहीं हैं तो छ्चोड़ दूँगा.” मुझे सारा कमरा घूमता हुआ सा लगा. मैं अपने ही जाल मे फँस चुकी थी. सिर, बगल, योनि पर ही क्या रोएँ तो पूरे शरीर पर ही होते हैं. उफफफ्फ़ ये मैं क्या कसम ले बैठी. लेकिन अब तो देर हो चुकी थी. उसके होंठ मेरे भोन्हो से सरकते हुए मेरी आँखों के पलकों पर आगाए. उनकी होंठों का हल्का हल्का स्पर्श मुझे मदहोश कर दे रहा था. मेरी पलकों पर से घूमते हुए वापस माथे पर आकर ठहरे. फिर नाक के ऊपर से धीरे धीरे नीचे सरकने लगे. स्पर्श इतना हल्का था मानो को मेरे बदन पर मोर पंख फिरा रहा हो. मेरे रोएँ उसके स्पर्श से खड़े हो जा रहे थे. अब उसके होंठ मेरे होंठो के ऊपर आकर ठहर गये. उनके और मेरे होंठों मे सिर्फ़ कुछ मिल्लिमेटेर की दूरी थी. मैं सख्ती से आँखे भींच कर उनके होंठों के स्पर्श का इंतेज़ार कर रही थी. ये क्या कुछ देर उसी जगह ठहरने के बाद उन्हों ने अपने होंठ वापस खींच लिए. मैं उनकी इस हरकत से झुंझला कर आँखें खोल दी. पता नही क्यों आज वो इतने निष्ठुर हो गये थे. रोज तो मुझे स्पर्श करने का बहाना ढूँढते थे. मगर आज जब मैं मन ही मन चाह रही थी को वो मुझे स्पर्श करें तो वो दूरी मेनटेन कर रहे थे. वो उठ कर बैठ गये. “इसके कपड़े उतार दो. कपड़ों के उपर से मैं कैसे पूरे बदन के बालों को चूम सकूँगा.” उन्हों ने कहा. दीदी ने मेरी तरफ देखा. मैने बैठते हुए अपने हाथ ऊपर करके अपनी राजा मंदी जता दी. दीदी ने मेरी कमीज़ उतार दी. टाइट ब्रा मे कसे मेरे स्तनो को देख कर राजेश जी की आँखें बड़ी बड़ी हो गयी. फिर दीदी ने मेरी ब्रा के हुक खोल दिए. ब्रा लूस होकर कंधे पर झूल गयी. मैने खूद अपने हाथों से उसे उतार कर तकिये के पास रख दी. मैने अपने स्तनो को अपने हाथों से धक लिया और शरमाते हुए राजेश जी की तरफ देखा. वो मुस्कुराते हुए अपनी मेरे बदन पर आँखें फिरा रहे थे. अब दीदी ने आगे बढ़कर मेरी सलवार का नाडा खोल दिया. मैने झट पास पड़ी चादर से अपने बदन को ढक लिया. दीदी ने चादर के अंदर हाथ बढ़ा कर मेरी सलवार खोल दी फिर मेरी छ्होटी सी पॅंटी को भी पैरों से उतार दिया मैं बिल्कुल नग्न हो कर लेट गयी. दीदी पास से हट गयी. राजेश जी वापस मेरे पास आकर बैठ गये. मेरे होंठो के ऊपर से बिना उन्हे च्छुए दो तीन बार अपने होठ घूमकर मेरे कानो की ओर सरक गये. उनकी गर्म साँसे अब मेरे कानो पर पड़ रही थी. मैं अब उत्तेजित होने लगी थी. कसम के कारण कुछ भी नही कर पा रही थी. बस अपने तकिये को मुत्ठियों से मसल रही थी. अब उनके होठ गले से होकर नीचे उतरने लगे. पहले उन्हों ने मुझे पेट के बल सुला दिया. आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | फिर मेरे बदन पर से चादर हटा कर अपने होंठ मेरे गर्देन से होते हुए धीरे धीरे नीचे लाने लगे. रीढ़ की हड्ड़िक़े उपर ऊपर से लेकर मेरे कमर तक अपने होंठ फिराने लगे. कई बार तो मैं सिहरन से उच्छल पड़ती थी. मैने अपना चेहरा तकिये मे दबा रखा था. और दाँतों से तकिये को काट रही थी. उनके होठ पूरी पीठ पर फिरने के बाद उन्हों ने मुझे सीधा किया. अब मैने अपने बदन को च्चिपाने की कोई कोशिश नही की. मैं निर्लज्ज होकर अपनी दीदी की मौजूदगी मे ही उनके हज़्बेंड के सामने नग्न लेटी हुई थी. जीजा जी के होंठ मेरे गले से होते हुए मेरी चूचियो के पास आकर ठहरे. पहले उनके होठों ने मेरी चूचियो की परिक्रमा की फिर दोनो चूचियो के बीच की घाटी की सैर करने लगे. धीर धीरे उनके होंठ मेरे एक चूची पर चढ़ कर मेरे निपल के पास पहुँच गये. मेरे निपल्स उनके आगमन मे खड़े होकर एकदम सख़्त हो गये थे. राजेश जी अपने होठ मेरे निपल के चारों ओर फिराने लगे. हल्के हल्के से निपल के ऊपर भी फिराने लगे. मैं उत्तेजना से छटपटा रही थी. मुँह से अक्सर “आआहह ऊऊओह” जैसी आवाज़ें निकालने लगी मेरे पैर भी सिकुड़ने और खुलने लगे थे. मेरा सिर तकिये पर इधर उधर झटके ले रहा था. जी कर रहा था जीजा जी मेरे स्तनो को मसल मसल कर लाल कर दें. दोनो निपल्स को दन्तो से काट काट कर लहुलुहन कर दें मगर मैं किसी तरह अपने ऊपर कंट्रोल कर रही थी. उन्हों ने अपने होंठ खोले और उसे निपल के चारों ओर लगा कर गोल गोल फिराने लगे. मगर निपल पर बिल्कुल भी होंठ नही लगा रहे थे. मैं कतर आँखों से दीदी की ओर देखी. वो चुप चाप खड़ी हम दोनो की हरकतें देख रही थी. काफ़ी देर तक मेरे दोनो निपल्स के ऊपर अपने होंठ फिरने के बाद उनके होंठ मेरी नाभि की ओर बढ़ चले. नाभि के ऊपर काफ़ी देर तक होंठ फिराने के बाद बाकी पूरे पेट को चूमा. फिर नीचे की ओर सरक कर बिना मेरी योनि की तरफ बढ़े मेरे पैरों के पास आ गये. मेरे एक पैर को उठाकर उस पर अपने होंठ फिराने लगे. मुझ से अब रहा नही जा रहा था. उसके होंठ पंजों से सरकते हुए जांघों के अन्द्रूनि हिस्सों तक सफ़र करके वापस दूसरे पैर की तरफ लौट गये. मेरी योनि से रस चू रहा था. पूरी योनि गीली हो रही थी. अब दूसरे पैर से आगे बढ़ते हुए उनके होंठ मेरे जाँघो से होते हुए मेरी योनि पर उगे बालों पर फिरने लगे. पहले उन्हों ने मेरी योनि के ऊपर सामने की तरफ उगे बालों पर काफ़ी देर तक होंठ फिराए. फिर उनके होंठ नीचे की ओर उतरने लगे. मैने अपने पैरों को जितना हो सकता था उतना फैला दिया जिससे उन्हे किसी तरह की कोई बाधा महसूस ना हो. जब उनके होंठ चींटी की गति से चलते हुए मेरी योनि के मुँह पर आए तो मैं उबाल पड़ी. “ऊऊऊहह म्‍म्म्ममममाआआअ” करते हुए मैने अपने हाथों से उनके सिर को मेरी योनि पर दबा दिया. मैं अपनी कसम खुद ही तोड़ चुकी थी. आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |  अब मुझे कोई परवाह नही थी दुनिया की अब तो सिर्फ़ एक ही ख्वाहिश थी कि जीजा जी मेरे बदन को बुरी तरह नोच डालें. मेरी योनि मे अपना लिंग डाल कर मेरी खाज मिटा दें. मेरे मुँह से मेरे मन की भावना फुट पड़ी. “ऊऊओ जीएजजीीीइ अब और मत सताओ मैईईइ हाआअर गइई. प्लीईसए मुझे मसल डालो. प्लीईएआसए” उन्हे मेरी ओर से रज़ामंदी मिल चुकी थी. वो अपनी जीभ मेरी योनि


कहानी जारी है आगे की कहानी अगले पेज में पढ़े निचे दिए गए पेज नंबर पर क्लिक करे…


The post जीजाजी के जाल में फस कर चुदी appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahaniya.




जीजाजी के जाल में फस कर चुदी

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks