All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

माँ बेटी की ट्रेन में मस्ती


मित्रो ये मस्तराम डॉट नेट पर मेरी पहली कहानी जा रही है कहानी पढ़ कर अगर मज़ा आया तो एक कमेंट जरुर दीजियेगा … एक बार मैं अपने ऑफीस के काम से मुंबई से चेन्नई जा रहा था. मेरा रेलवे टिकेट ऑफीस वालों ने चेन्नई एक्सप्रेस मे 1 एसी मे करवा दिया था. मैं अपनी यात्रा के दिन शाम को आठ बजे ठाणे स्टेशन पर पहुँच गया. बाहर दिसंबर का महीना था इसीलिए ठंड बहुत पड़ रही थी और मैं अपनी सीट मे बैठ गया. थोरी देर के बाद ट्रेन चल पड़ी और टी.टी. आया और टिकेट चेक कर के चला गया. हमारे कूपे मे एक ही परिवार के दो औरतें और एक आदमी था. मेरा अप्पर बिर्थ था और ट्रेन छूटने के बाद मैं थोड़ी देर तक नीचे बैठा रहा फिर मैं अपने बर्थ मे जाकर कंबल तान कर आँख बंद करके सो गया. नीचे वो आदमी और औरतें गप-शॅप लड़ा रहे थे. उनकी बात सुन कर मुझे लगा कि वो आदमी एक एम.न.सी मे सीनियर एग्ज़िक्युटिव पोस्ट पर काम करता है और जो औरत बड़ी उमर की थी उनके ऑफीस से संबंध रखती हैं और छोटी उमर की लड़की उसकी बेटी है. मैं आँखे बंद कर के उनकी बातें सुन रहा था. उनकी बातों से लग रहा था कि दोनो औरतो मे मा और बेटी का संबंध है और वो सब मस्ती करने के लिए चेन्नई जा रहे हैं, लेकिन घर पर ऑफीस का काम बता कर आए हुए हैं. छोटी उमर वाली लड़की की उमर लगभग १९-२० साल थी और दूसरी की उमर लगभग ३६-३७ साल था. मुझे उनकी बातों से मालूम पड़ा की मा का नाम सोनम और लड़की का नाम अनुष्का है. दोनो मा और बेटी उस आदमी को अंकल कह कर पुकार रहे थे. दोनो औरतें ही देखने मे बहुत सुंदर थी. छोटी वाली का फिगर बहुत सेक्सी था. उसके मम्मे उसकी ब्लाउस के उप्पेर से दिखने मे भारी भारी और तने दिखते थे और उसके चूतर गोल गोल लेकिन कम उभरे थे. दूसरी औरत के मम्मे भी बहुत बड़े बड़े थे और उसके चूतर भी खूब बड़े बड़े और फैले हुए थे. उनके साथ का आदमी का उमर लगभग 30-32 साल रही होगी और देखने मे बहुत स्मार्ट था. तीनो आपस मे काफ़ी घुल मिल कर बाते कर रहे थे. थोड़ी देर के बाद मेरी आँख लग गयी. रात के करीब १२ बजे मेरी आँख खुल गयी, मुझे बहुत प्यास लगी हुई थी. मैने अपनी आँख खोली तो देखा कि कूप मे नाइट लॅंप जल रही है और वो तीनो अभी भी बातें कर रहें हैं. फिर मेरे नाक मे शराब की महक आई तो मैने धीरे से नीचे झाँका तो मेरी आँख फैल गयी. उस समय अनुष्का खिड़की के साथ मेरे नचले वाले बर्थ पर बैठी हुई थी और दूसरे बर्थ पर सोनम और अंकल बैठे हुए शराब पी रहे थे. अनुष्का के हाथ मे एक कोल्ड ड्रिंक की बॉटल थी. उस समय दोनो मा और बेटी अपने कपड़े बदल चुकी थी | आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | सोनम एक हल्के नीले हाउस कोट मे थी और अनुष्का एक गुलाबी रंग की मॅक्सी पहने हुई थी. मज़े की बात ये थी कि मुझको लग रहा था दोनो मा और बेटी अपने अपने हाउस कोट और मॅक्सी के अंदर कुछ नही पहन रखी है और अंकल सिर्फ़ एक बनियान और लूँगी पहने हुए हैं. मुझे लगा कि सोनम और अंकल काफ़ी शराब पी चुके हैं क्योंकि दोनो काफ़ी झूम रहे थे. शराब पीते पीते अंकल ने सोनम को अपने और पास खींचा तो सोनम पहले अनुष्का की तरफ देखी और फिर अंकल के बगल मे कंधे से कंधा मिला कर पैर के उप्पेर पैर चढ़ा कर बैठ गयी. सोनम जैसे ही अंकल के पास बैठी तो अंकल अपने हाथ सोनम के कंधे पर रख कर सोनम के कंधे को सहलाने लगे. सोनम ने एक बार अनुष्का की तरफ देखा और चुप चाप अपने ड्रिंक लेने लगी. अनुष्का भी अंकल और मा की तरफ देख रही थी. थोड़ी देर के बाद अंकल अपना एक हाथ सोनम के पेट के उपर रख कर सोनम के पेट को सहलाने लगे. ऐसा करने से सोनम तो पहले कुछ कसमसाई फिर चुप चाप अपने ड्रिंक लेने लगी. फिर अंकल ने सोनम के पेट से हाथ को और थोड़ा उपर उठाया और अब उनका हाथ सोनम के मम्मो के ठीक नीचे था. उनकी इस हरकत से सोनम सिर्फ़ अपने अंकल को देख कर मुस्कुरा दी. फिर अंकल ने अपना हाथ सोनम के मम्मो पर रख दिया और अपना हाथ घुमाने लगे. अब अंकल का हाथ सोनम के मम्मो को उसकी हाउस कोट के उपर से धीरे धीरे सहला रहे थे. अपनी मम्मी और अंकल का काम काज अनुष्का बड़े गौर से बिना पलक झपकई देख रही थी. थोड़ी देर के बाद अंकल ने अपना ड्रिंक सामने की टेबल पर रख दिया और अपने दोनो हाथ से सोनम के दोनो मम्मे पकड़ लिए और उन्हे ज़ोर ज़ोर से दबाने लगे. अब सोनम भी नही चुप बैठ सकी और उसने भी अपनी ड्रिंक टेबल मे रख कर अंकल को अपने दोनो हाथों से पकड़ लिया, लेकिन अंकल अपने दोनो हाथों से सोनम के दोनो मम्मे पकड़ कर दबाते रहे. थोड़ी देर के बाद अंकल अपना मुँह सोनम की मम्मे के उपर लाए और उसके मम्मे को उसके हाउस कोट के उपर से ही अपने मुँह मे भर लिया और चूसने लगे. अंकल ने सोनम के मम्मे को हाउस कोट के उपर से चूमते चूमते अपना एक हाथ सोनम के हाउस कोट के अंदर डाल दिया और अपने हाथ घुमा घुमा कर उसकी चुचयों को मसल्ने लगे फिर उन्होने सोनम के कान मे कुछ कहा और सोनम ने अपने हाथ से अपनी बेटी अनुष्का को अपने पास बैठने को कहा. अनुष्का ने पहले तो अपनी आँख घुमा ली पर सोनम ने उसे आवाज़ देकर बुलाया तो वो उठ कर अंकल और सोनम के बगल मे बैठ गयी. फिर अंकल ने सोनम को और खिसकने को कहा और खुद भी सोनम के साथ खिसक गयी. अब उन्होने अनुष्का को अपनी दूसरी तरफ बैठने के लिए कहा. जब अनुष्का नही उठी तो उन्होने अपना हाथ सोनम के हाउस कोट के अंदर से निकाल कर अनुष्का का हाथ पकड़ कर अपने दूसरी तरफ बैठा दिया. अनुष्का के बैठते ही अंकल ने अपना दूसरा हाथ उसके कंधो के पीछे रख दिया. अंकल का एक हाथ अब सोनम की चुचियों से खेल रहा था और दूसरी हाथ अनुष्का के पीछे था. उनका पीछे वाला हाथ अब उन्होने धीरे धीरे आगे की तरफ किया और अब उनका दूसरा हाथ अनुष्का की ठीक चूंची के उपर था. जैसे ही अंकल का हाथ अनुष्का की चूंची को छूने को हुआ तो उसने अंकल का हाथ झिरक दिया. अनुष्का को ऐसा करने से उन्होने सोनम के कान मे फिर कुछ कहा. अब सोनम उठ कर अनुष्का के सामने खड़ी हो गयी और अंकल का हाथ लेकर अनुष्का की चूंची पर रख दिया और अंकल से उन्हे दबाने को कहा. अपनी मम्मी की इस बर्थाब से अनुष्का की आँख से आँसू आ गये पर वो कुछ ना कह सकी | आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | अनुष्का अब चुप चाप अपनी चूंची को अंकल से दबवा रही थी. सोनम ने झुक कर अनुष्का की गाल पर एक चुम्मा दिया और बड़े प्यार से बोली, “बेटी एमेन्सी मे नौकरी ऐसे ही नही मिलती, उसके लिए कुछ देना पड़ता है. हमारे पास तो इतना पैसा हैं ही नही इसलिए हम लोगो को वही देना पड़ेगा जो अपने पास है.” फिर उसने अंकल से कहा, “अंकल अब आप बेफिक्र हो कर मज़ा लो, लेकिन देखना अनुष्का को पक्की नौकरी मिले.” अंकल ने भी एक हाथ से अनुष्का की चूंची दबाते हुए सोनम की तरफ अपना मुँह बढ़ा कर उसकी चूंची को चूमते हुए कहा, “चिंता मत करो, अनुष्का की नौकरी तुम्हारी तरह पक्की नौकरी होगी. लेकिन अनुष्का को भी मेरा कहना मानना पड़ेगा.” “आरे अंकल देख नही रहे कि अनुष्का आप की बात मानने के लिए तैयार है? अरे अनुष्का मेरी ही बेटी है और आप जो भी कुछ कहेंगे मेरी तरह अनुष्का भी आपकी बात मानेगी.” इतना कहा कर सोनम फिर से अंकल की बगल मे जाकर बैठ गयी और उन्हे अपने दोनो हाथों से जाकड़ लिया. अब अंकल के दोनो हाथ मा और बेटी की चूंचियो से खेल रहे थे. मा की चूंचियो को वो हाउस कोट के अंदर हाथ कर मसल रहा था |


कहानी जारी है……… आगे की कहानी पढने के लिए निचे दिए गए पेज नंबर पर क्लिक करे …..


The post माँ बेटी की ट्रेन में मस्ती appeared first on Mastaram: Hindi Sex Kahaniya.




माँ बेटी की ट्रेन में मस्ती

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks