All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

और अंदर डालो अपना लंड मेरी चूत में


मैं अभी भी कॉलेज में पढ़ता हूँ. मैं अपने कॉलेज की कई लड़कियों को चोद चुका हूँ. मेरे घर के पड़ोस में एक परिवार रहता था. उनके घर मेरा आना जाना था. उनकी एक लड़की थी. उसका नाम मेघना था. उसकी उमर लगभग १९ साल की थी. उनके घर पर एक कंप्यूटर भी था. मेघना बहुत ही सेक्सी थी. मैं उसे चोदना चाहता था लेकिन कोई मौका नहीं मिल पा रहा था. ये उस समय की बात है जब मेघना के पेरेंट्स 1 महीने के लिए विदेश चले गये थे. घर पर केवल मेघना ही अकेली थी. एक दिन मेघना ने मुझे घर बुलाया. उसका कंप्यूटर खराब हो गया था. मैं कॉलेज जा रहा था इसलिए मैने शाम को आने के लिए कह कर कॉलेज चला गया. कॉलेज से वापस आने के बाद मैं मेघना के घर 5 बजे शाम को पहुच गया. मैने कॉल बेल बजाई तो मेघना ने दरवाज़ा खोला. उसने लाल रंग की स्कर्ट और ब्लॅक रंग की टी-शर्ट पहन रखी थी. उसने अंदर कुछ भी नहीं पहन रखा था. उसकी चूचियों के दोनो निपल्स बाहर से ही महसूस हो रहे थे. मैं घर के अंदर गया. वो मुझे कंप्यूटर के पास ले गयी. मैने कंप्यूटर को ऑन किया और चेक करने लगा. मेघना चाय बनाने चली गयी. मैने एक फोल्डर को खोला जो मेघना ने हाइड की हुई थी. उस में बहुत सारी अडल्ट पिक्चर्स की फाइल्स थी. मैं उन पिक्चर्स को देखने लगा. थोड़ी देर बाद मेघना चाय ले कर आ गयी. उस समय कंप्यूटर स्क्रीन पर जो फोटो थी उस में एक आदमी एक लड़की को डॉगी स्टाइल में चोद रहा था. वो मेरे बगल में बैठ गयी और बोली, “प्लीज़. ये फाइल्स बंद कर दो. इसे मत देखो. मैने कहा, “बहुत अच्छा पिक्चर है.” मेघना का चेहरा शरम से लाल हो गया. उसने माउस पकड़ कर उस पिक्चर को बंद करना चाहा तो मैने कहा, “बहुत अच्छा पिक्चर है. प्लीज़. मुझे देखने दो. तुमने इसे किस साइट से डाउनलोड किया है.” वो बोली, “प्लीज़. राहुल बंद कर दो इसे.” मैने कहा, “मैं कोई ग़लत काम थोड़े ही कर रहा हूँ. आख़िर तुम भी तो ये पिक्चर देखती होगी. तुम भी जावन् हो और मैं भी. तुमने कभी ट्राइ किया है.” वो चुप रही तो मैने फिर पूछा. वो बोली, “मैं अभी तक कुँवारी हूँ. मैने कभी किसी से नहीं करवाया है.” मैने उस से झूठ बोला और कहा, “मैने भी आज तक किसी लड़की के साथ कुछ नहीं किया है. घर पर भी कोई नहीं है. चलो, आज हम दोनो इसे ट्राइ करते हैं.” उसने इनकार कर दिया तो मैने पूछा, “क्यों?” इस बार वो कुछ नहीं बोली और उसने अपना सर दूसरी तरफ घुमा लिया. मैने उसके चेहरे को पकड़ कर अपनी तरफ घुमाया तो उसने मेरा हाथ झटक दिया. मैने फिर पूछा, “हम दोनो ही कुंवारे हैं और आज अच्छा मौका है. तुम भी जवान हो और मैं भी.घर पर भी कोई नहीं है. हमे ट्राइ करना चाहिए.” वो एक दम चुप रही. मैने उसकी जांघों पर हाथ फिराना शुरू कर दिया तो उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. उसने अपनी दोनो जांघों को एक दूसरे पर रख कर ज़ोर से दबा लिया. मैने उसकी जांघों को सहलाते हुए अपना हाथ उसकी जांघों के बीच घुसा दिया. मेरा हाथ सीधा उसकी चूत पर लगा. उसने नीचे भी कुछ नहीं पहन रखा था. उसकी चूत एक मुलायम और चिकनी थी. उसने इस बार मेरा हाथ नहीं हटाया. मैं समझ गया कि मेरा काम बन जाएगा. मैने उसकी चूत को सहलाना शुरू कर दिया तो उसकी साँसें बहुत तेज़ चलने लगी और उसका चेहरा एक दम लाल हो गया. वो कुछ नहीं बोली. थोड़ी देर तक उसकी चूत सहलाने के बाद मैं उठा. मैने उसे गोद में उठा लिया और बेडरूम में ले जाने लगा तो उसने अपना चेहरा मेरे सीने में छुपा लिया. बेडरूम में ले जा कर मैने उसे बेड पर लिटा दिया. मैने उसकी टी-शर्ट और स्कर्ट उतार दी. आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | उसके कपड़े उतारने के बाद मैने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए. मुझे नंगा होते देख उसने अपनी आँखें बंद ली लेकिन उसके चेहरे पर मुस्कुराहट थी. उसका संगमरमर सा गोरा बदन एक दम नंगा मेरे सामने था. मुझे जोश आने लगा. मैं उसके होठों को चूमना शुरू कर दिया. थोड़ी देर तक होठों को चूमने के बाद मैने धीरे धीरे उसके चुचियों को, पेट को, जांघों को और फिर उसकी चूत को चूमने लगा. वो एक दम गरम हो गयी और सिसकारियाँ भरने लगी. मेरा लंड भी खड़ा हो कर जोश से एक दम लोहे जैसा हो गया था और झड़ने वाला था. मैने अपना लंड उसके मूह के पास कर दिया और चूसने को कहा. वो कुछ नहीं बोली. मैने उसके मूह में अपना लंड घुसाने की कोशिश की तो उसने अपना मूह इधर उधर करना शुरू कर दिया. थोड़ी देर ना नुकुर करने के बाद आख़िर में उसने अपना मूह खोल दिया. मैने अपना लंड उसके मूह में डाल दिया और वो उसे चूसने लगी. मैं उसके उपर लेट गया और मैने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी. 2 मिनट बाद ही मैं उसके मूह में झड़ गया और उसने मेरे लंड का सारा पानी निगल लिया. लंड का सारा पानी निगल जाने के बाद भी उसने मेरा लंड चूसना ज़ारी रखा. वो भी अब तक बहुत जोश में आ गयी थी और उसकी चूत से भी पानी निकलने लगा. मैने भी उसकी चूत का सारा पानी चाट लिया. वो एक दम नमकीन और कुछ कुछ खट्टा था. 5 मिनट में ही मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. मैं भी अभी तक उसकी चूत को चाट रहा था और वो भी अपना चूतड़ उठा उठा कर मज़ा ले रही थी. हम दोनो बहुत जोश में आ गये थे. मैं उसके उपर से हट गया और उसे डॉगी स्टाइल में होने को कहा. वो कुछ नहीं बोली और चुप-चाप उठ कर डॉगी स्टाइल में हो गयी. उसने अपना सर तकिये पर टिका दिया. मैं समझ गया कि वो चुदवाने के लिए एक दम बेकाबू हो रही है. मैं उसके पीछे आ गया. आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |  मैने उसकी चूत को फैला कर अपने लंड का सुपाडा उसकी चूत के बीच रख दिया. वो कुछ नहीं बोली. मैने अपना लंड थोड़ा सा अंदर दबाया. उसकी चूत बहुत टाइट थी और केवल मेरे लंड का सुपाडा ही उसकी चूत के अंदर घुस पाया. मैने थोड़ा और दबाया तो वो पहली बार बोली, “प्लीज़. ज़रा धीरे.” मैं समझ गया कि वो एक दम जोश में आ गयी है. मैने अपना लंड थोड़ा और अंदर दबाया तो वो सिसकारियाँ भरने लगी. मेरा लंड उसकी चूत में अब तक 2″ घुस चुका था. मैने अपना लंड उसकी चूत में धीरे धीरे अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. उसने भी अपना चूतड़ पीछे की तरफ दबाया और सिसकारियाँ भरने लगी, उफ़फ्फ़… राहुल… धीरे… प्ल्ज़. दर्द हो रहााआ है….. उईए…. म्माआआआ…… आआआहह… रुक्कककककक….. जाओ……. मैं रुक गया. वो बोली, “राहुल, मैं पहली बार करवा रही हूँ. ज़रा आराम से धीरे धीरे करो. बहुत दर्द हो रहा है.” मैने कहा, “तुम घबडाओ मत. मैं धीरे धीरे और आराम से ही करूँगा. मैं जानता हूँ कि तुम अभी तक कुँवारी हो और तुम्हारी चूत एक दम टाइट है.” मैने धीरे धीरे अपना लंड उसकी चूत में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया. 2-3 मिनट तक चोदने के बाद उसे भी और ज़्यादा मज़ा आने लगा. वो बोली, “राहुल, तुम अपना लंड थोड़ा सा और अंदर डाल दो. मैं तैयार हूँ.” मैने थोड़ा सा और दबाया तो मेरा लंड उसकी चूत में 3″ तक घुस गया. वो फिर बोली, “बस, रुक जाओ प्लीज़. दर्द हो रहा है. अभी इतना ही अंदर डाल कर चोदो मुझे.” उसका सील टूट चुका था और वो अब मेरा लंड अपनी चूत में आराम से अंदर ले रही थी. मैने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. 2-3 मिनट में ही उसका दर्द जब कुछ कम हुआ तो उसे मज़ा आने लगा. वो बोली, “राहुल, थोड़ा और अंदर डाल कर और तेज़ी…. से चोदो… मुझे.” मैने थोड़ा और अंदर दबाया तो मेरा लंड उसकी चूत में 4″ तक घुस गया. मैने अपनी स्पीड को बढ़ाते हुए उसे चोदने लगा. वो अपना चूतड़ आगे पीछे करते हुए मेरा साथ दे रही थी. 5 मिनट तक चोदने के बाद वो बहुत ज़्यादा जोश में आ गयी और बोली, “राहुल, और अंदर डालो अपना लंड मेरी चूत में. खूब तेज़ चोदो मुझे. अब रुकना नहीं, पूरा लंड अंदर घुसा देना. मैं एक दम बेकाबू हो रही हूँ और मुझे बर्दास्त नहीं हो रहा है.” मैने अपना लंड थोड़ा और अंदर दबाया तो मेरा लंड उसकी चूत में 5″ तक घुस गया. मैने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया. थोड़ी देर तक चोदने के बाद मैने एक ज़ोरदार धक्का लगा दिया. मेरा लंड उसकी चूत में 6″ तक घुस गया. वो चिल्ला उठी लेकिन उसने मुझे रुकने के लिए नहीं कहा. मैने एक फाइनल शॉट लगा दिया तो वो बहुत तेज़ चिल्लाने लगी. मेरा 7″ का पूरा लंड उसकी चूत में एक दम जड़ तक घुस चुका था. वो बोली, “राहुल, तुमने आख़िर मुझे आज एक लड़की से औरत बना ही दिया. आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | मैने अपनी चूत में तुम्हारा पूरा लंड अंदर ले ही लिया. बहुत दर्द हो रहा है. थोड़ा रुक जाओ, तब चोदना.” मैं रुक गया. थोड़ी देर बाद जब वो शांत हुई तो उसने मुझसे चोदने के लिए कहा. मैने मेघना की चुदाई शुरू कर दी. पहले बहुत धीरे धीरे उसके बाद मैने बहुत तेज़ी के साथ चोदना शुरू कर दिया. 5 मिनट तक उसे चुदवाने में थोड़ा दर्द हुआ लेकिन उसके बाद वो एक दम शांत हो गयी और उसे मज़ा आने लगा. उसने अपने चूतड़ आगे पीछे करते हुए मेरा साथ देना शुरू कर दिया. 2 मिनट बाद ही वो बोली, “और तेज़ चोदो, राहुल. ज़ोर ज़ोर से धक्के लगाओ. मैने अपनी स्पीड बढ़ा दी और बहुत तेज़ तेज़ धक्के लगाने लगा. वो अब अपनी चूत में मेरा पूरा लंड आराम के साथ अंदर ले रही थी. 2 मिनट भी नहीं बीते कि वो फिर बोली, “राहुल, मुझे कुछ हो रहा है. लगता है मेरी चूत से पानी निकलने वाला है. खूब ज़ोर ज़ोर से धक्का लगाओ.” मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है. मैने बहुत ही तेज़ी के साथ उसकी चुदाई शुरू कर दी. वो बोली, “आआआ… राहुल…… मैं…. आआआ… रही…. हूँ…. और तेज़ …. और तेज़….. .


कहानी जारी है…. आगे की कहानी पढ़ने के लिए निचे दिए गये पेज नंबर को क्लिक करे …..


The post और अंदर डालो अपना लंड मेरी चूत में appeared first on Mastaram.Net.




और अंदर डालो अपना लंड मेरी चूत में

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks