All Golpo Are Fake And Dream Of Writer, Do Not Try It In Your Life

Gay Experimental Sex with a girl

यह तब Gay Experimental Sex with a girl कीकहानी है. जबमैं 21 साल काथा. और मेरीमौसी की उम्र35 की थी. सुन्दरबॉडी थी. बड़ेबोब्स मैं मौसीको जब भीदेखता तो मुझेउनका सेक्सी फिगरदेखकर मन मेगुदगुदी होती थी. उनका सुडोल गोराबदन बहुत हसीनथा.
Gay Experimental Sex with a girl
Gay Experimental Sex with a girl


एक बार उन्होनेमुझे अपने यहाँरहने को बुलायाथा. मैं एकमहीने के लिएउनके वहां रहनेगया. उनका घरबहुत छोटा थासिर्फ़दो कमरे थे. एक किचन औरदूसरा उनका हॉल. जब मैं उनकेयहा रहने गयातो मौसी नेमुझे देख करमुझे गले लगालिया. जिससे उनकेबोब्स मेरे सीनेसे दब गये. मुझे भी मज़ाआया उस दिनमैने भी उन्हेगले लगा लियाऔर गाल परकिस भी करदी. मेरी मौसीघर में ज़्यादातरगाउन ही पहनाकरती थी. जिससेजब वो घरका काम करनेके किए झुकतीतो उनके बोब्सका भूगोल देखकरमेरा 8″इंच. लंबालंड खड़ा होनेलगता वो मुझसेबहुत प्यार करतीथी.

Gay Experimental Sex with a girl
Gay Experimental Sex with a girl
Gay Experimental Sex with a girl

एक बार मौसीकिसी काम केलिए नीचे झुकीतो मैने देखाकी उन्होने ब्रा, नही पहनी हुईथी तो मुझेउनके बोब्स औरथोड़ी चूत दिखाईदी. मेरा येदेखकर बुरा हालहो गया था. मैं तभी बाथरूममें जाकर मूठमार कर आया.

मेरा दिल मौसीको चोदने केलिए मचल रहाथा. लेकिन मेरीहिम्मत ही नहीहो रही थी. मैं  मौसीऔर मौसाजी एकही बेड परसोते है. बेडबड़ा था इसलिएहम तीनो कोएक ही बेडपर सोने मेंकोई दिक्कत नहीहोती थी. पहलेमौसी फिर मौसाजीफिर मैं इसतरह लाइन मेंसोते थे. सोनेसे पहले मौसीमौसाजी और मुझेदूध ज़रूर देतीथी. सोते टाइमघर में अंधेरारहता है कोईकिसी की शक्लभी नही देखसकता इतना अंधेरारहता है.

एक बार मेरीरात को आँखखुली तो मुझेमहसूस हुआ कीमौसा मौसी कीचुदाई कर रहेहै. मैने जबगौर से देखातो मौसा मौसीके उपर लेटेहुए थे औरमौसी नंगी नीचेलेटी हुई थीऔर मौसा मौसीकी चुदाई कररहा था. मौसीबीच बीच मेआआहह.. हूउउ.. .नाओउककच..उऊन कररही थी. येदेखकर मेरा लंडखड़ा हो गयामैने अपने लंडको पकड़कर उन्हेंदेखकर वही मूठमार ली. दोनोआपस में काफ़ीदेर तक चुदाईकरते रहे येदेखकर मुझे पताही नही चलाकी मुझे कबनींद गयी. अब मेरा मनऔर खराब होनेलगा मौसी कीचुदाई के लिए.

अब मैं 4-5 दिन तकरोज़ जल्दी सोनेका बहाना करकेलेट जाता था. और मौसी कीचुदाई देखा करताथा. एक बारमैने देखा कीमौसी नंगी आँखबंद करके लेटीहुई और मौसाउनकी चूत मेंअपना मूह डालकरचूस रहे है. मुझसे रहा नहीगया मैने अपनाएक हाथ बढाकरमौसी की एकचूची पर रखदिया. मौसी कोकुछ पता नहीचला की किसकाहाथ है. मुझमेऔर हिम्मत आईतो मैं ज़ोरज़ोर से मौसीकी चूची कोदबाने लगा.

मौसी की चूचीइतनी बड़ी थीकी मेरे हाथमें ही नही रही थी. मौसी भी मज़ेसे अपनी चूचीदबवा रही थी. और मैं दूसरेहाथ से अपनेलंड को पकड़करमूठ मार रहाथा. फिर थोड़ीदेर बाद मेरापानी निकल गयातो मैने मौसीकी चूची सेहाथ हटा लिएऔर सो गया. इन दोनो कीचुदाई में मैनेध्यान दिया कीदोनो में सेकोई बात नहीकरता था.

फिर शनिवार आया रविवारको मौसाजी कीछुट्टी होती हैतो वो शनिवाररात को मौसीको जम करचोदते है. इसलिएशायद मौसी भीथोड़ी ज़्यादा तैयारीरखती होगी. अबमुझसे रहा नहीगया तो मैंमेडिकल स्टोर गया औरवहा से नींदकी गोली येकहकर ले आयाकी मेरे दादा  को3 दिन से नींदनही रहीहै. उनके लिएकोई नींद कीगोली दीजिए. उन्होनेबताया की 2 गोलीकाफ़ी होगी लेकिनमैं 4 गोली लेआया.

अब मैं रातका इंतेज़ार करनेलगा. रात कोमौसी ने मुझेकिचन में बुलायाऔर दूध देकरकहा की लेअपने मौसाजी कोदे .मैंउनकी नज़र बचाकर नींद की4 गोली मौसाजी के दूधमें मिला दी. फिर मैने दूधमौसाजी को दियातो मौसाजी नेपी लिया. आजरात मौसी नेनाईटी पहनी हुईथी. फिर वोदोनो लेइट गयेऔर मैं भीलाइट बन्द करकेलेट गया. 1 घंटेबाद मैने मौसाजीको हल्के सेहिलाकर देखा तोउन पर नींदकी गोली काअसर हो गयाथा. वो सोगये थे. मैनेउन्हे अपनी जगहसरका दिया औरउनकी जगह मैंआकर लेट गया. मौसी का मूहदूसरी तरफ थातो उन्हे पतानही चला.

अब मैने पहलेअपने सारे कपड़ेउतार दिए औरमौसी की कमरपर अपना हाथरखा मुझे लगाकी मौसी सोगयी है. लेकिनवो जागी हुईथी. अब मैनेअपना हाथ उनकेबोब्स पर रखाऔर उन्हे नाईटीके उपर सेदबाने लगा औरउनसे चिपक करलेट गयाजिससे मेरा लंडमौसी की गांडको टच कररहा था. ओरमेने अपनी एकटाँग मौसी केपैरो के बीचमें डाल दीऔर अपने पैरसे मौसी क़ीचूत को रग़डरहा था.

मौसी थोड़ी देर बादगर्म होने लगीथी. थोड़ी देरबाद मौसी नेअपना मूह मेरीतरफ किया तोमैने उनके होटोपर अपने होटरख दिए. आहक्या टेस्ट थाउनके होटो कामैं तो पागलहो गया.

अब मैं अपनाहाथ उनकी नाईटीके अंदर डालकरमौसी की चूचीदबाने लगा. मौसीने अपना हाथमेरे हाथ पररख दिया औरदबाने लगी. मौसीने नीचे ब्रानही पहनी हुईथी. मैने मौसीकी नाईटी उतारदी और उनकेउपर लेट गयाऔर अपने बदनसे उनका बदनरगड़ने लगाजिससेउनकी चूचीया मेरेसीने से रग़डरही थी औरमेरा लंड उनकीपेंटी के उपरसे उनकी चूतपर रग़ड रहाथा. तब मुझेबहुत अच्छा लगरहा था.

अब मैं उनकेहोंठों पर किसकरता हुआ उनकेगाल पर किसकरने लगा. मौसीको बहुत मज़े रहे थे. मौसी धीमी आवाज़में कहने लगीकी आज क्याहुआ है तुम्हेआज तो बहुतअच्छी तरह सेकर रहे हो. मैं कुछ नहीबोला मैं अपनेकाम में लगारहा. फिर मैंकिस करता हुआउनकी चूचीयो कीदरार पर गया. फिर मैंउनकी चूची कोमूह में लेकरचूसने लगा औरदूसरी वाली चूचीको हाथ सेदबाने लगा.

मेरी मौसी पागलहोती जा रहीथी. कहने लगीकी आआहह आअरामसस्स्सीए..करू हहिईीईईईई..हाई. मैनेउनका दुसरे चूचीको रग़ड रग़डकर लाल करदिया था. तोमुझे कहने लगीकी आराम सेजान. फिर मैनेमौसी के पेटपर किस किया. उन्हे डर थाकी पास मेंलेटा हुआ यानीमैं. जग नाजाय. इसलिए ज़्यादाआवाज़े नही कररही थी. फिरमैं मौसी कीचूत की तरफअपना मूह लाकरउनकी जाँघ परपागलो की तरहकिस करने लगा. हम 69 की पोज़िशनमें हो गयेथे.

फिर मैं अपनीमौसी की प्यारीचूत जो अभीतक पेंटी मेंक़ैद थी उसपर अपना हाथरख दिया. मुझेमौसी की पेंटीगीली महसूस हुईतो मैने सूंघकर देखा तोबड़ी मादक खुशबू रही थी. उनकी पेंटी सेतो मैने अपनीजीभ से उनकीपेंटी को चाटनेलगा चूत केउपरGay Experimental Sex with a girlसे ही.

दूसरी तरफ मौसीमेरे लंड केचारो तरफ़ सेअपनी जीभ सेचाट रही थी. कभी दबा रहीथी. मुझे बहुतमज़ा रहाथा. फिर उन्होनेमेरे लंड कीटोपी को अपनेमूह में रखकर अंदर बाहरकर रही थी. मुझसे रहा नहीगया तो मैनेएक हल्का साझटका मारा तोमेरा 4″इंच लंडउनके मूह मेंचला गया.

इस हमले सेमेरी प्यारी मौसीके आँख सेआँसू निकालने लगेलेकिन उन्होने मेरालंड बाहर नहीनिकाला बल्कि और चूसरही थी. इधरमैने मौसी कीपेंटी निकालने लगातो मौसी नेअपनी गांड उठाकरमेरी हेल्प कीपेंटी निकालने मेंअब मौसी कीवो चूत मेरेसामने थी जोमुझे रोज़ परेशानकरे रखती थी. अब मैं अपनीज़ुबान को मौसीकी चूत परफिरा रहा था. उपर से नीचेऔर नीचे सेउपर की तरफ. मेरी मौसी काबुरा हाल था. फिर मैने अपनेहाथ की दोउंगली से मौसीकी चूत कोखोला और उसमेअपनी जीभ डालदी और जीभसे करने लगा. मेरी प्यारी मौसीपागलो की तरहअपनी गांड कोउपर नीचे करनेलगी.

फिर मैने अपनी3 उंगली से उनकीचूत में करनेलगा. इसी दौरानमेरी मौसी 2 बारझड़ चुकी थीऔर मैं उनकारस पी गयाथामैनेफिर अपनी 1 उंगलीको उनकी चूतकी रस सेभिगोकर उनकी गांडके छेद पररख दी. उनकेउपर नीचे होनेकी वजह सेमेरी उंगली उनकीगांड  मेंअंदर बाहर होनेलगी. उधर मेरालंड का भीबुरा हाल था. मौसी ने चूसचूसकर मेरे लंडका पानी निकालदिया था. मौसीफिर से मेरेलंड को खड़ाकरने के लिएउसे चूस रहीथी. क्युकी उन्हेअपनी चूत कीभी सेवा करवानीथी.

15-20 मीं. बाद मेरा लंडफिर से खड़ाहोने लगा तोमैं मौसी कीचूत छोड़कर उनकेमूह के पास गयामौसी मेराचेहरा पकड़ करमेरा कान अपनेमूह के पासलाकर बोली कीजान आज सेक्सकरने में बहुतमज़ा रहाहै. आज कहासे सीखकर आएहो. मैने उनकेहोंठों पर अपनीउंगली रखकर उन्हेचुप करा दिया. क्युकी मैं भीकुछ नही बोलरहा था. तोवो फिर कुछनही बोली. अबमैने अपने होंठप्यारी मौसी केहोंठों पर रखदिए. उन्होने अपनामूह खोला औरअपनी जीभ मेरेमूह में डालदी. मैने उनकीजीभ को अपनेहोंठो से पकड़करअपनी जीभ सेचूसने लगा. बड़ीटेस्टी थी मेरीप्यारी मौसी कीजीभ. मेरे सेरहा नही गयातो मैने उनकेदोनो चूचीयो कोअपने हाथो मेंलेकर ज़ोर देदबा दी. उनकेमूह से चीखनिकलती निकलती रह गयी. क्युकी उनके मूहको मेरे मूहने बंद कियाहुआ था.

मेरा लंड मौसीकी चूत परदस्तक दे रहाथा. मौसी सेरहा नही गयावो मेरे कानमें बोली कीजान अब सहानही जा रहाहे. मैने मौसीका हाथ पकड़कर अपने लंडपर रख दिया. मौसी ने अपनीटाँगो को फैलाकरमेरा लंड अपनीचूत पर रखदिया. लेकिन मैंमौसी को औरतड़पाना चाहता था इसलिएलंड अंदर नहीडाला. 5 मीं. बादमौसी फिर सेमेरे कान मेंबोली अब डालभी दो क्यूतडपा रहे हो.

इतना सुनना था कीमैने एक जोरदारझटका मारा. मेरालंड पूरा कापूरा मौसी कीचूत में चलागया. मौसी कीहलक से एकहल्की सी चीखनिकली तो मैनेअपना हाथ मौसीके मूह पररख दिया मौसीकी चूत मुझेथोड़ी टाइट लगीशायद मोंसाजी कालंड मेरे सेतोड़ा छोटा औरपतला होगा.मौसीने मेरा हाथहटाया और बोलीआज तुम्हे क्याहो गया हैमुझे मार हीडालोगे क्या.. आपका लंडभी थोडा बड़ाबड़ा लग रहाहे. क्या बातहै कोई दवाईली है क्याआजमैने उनकेहोठों पर अपनेहोंठ रखकर फिरसे चुप करवादिया.

मैं मौसी कीचूत में जोरदारलंड डालता गयाऔर मौसी धीरेसे बोलती जारही थी कीउमाआ..म्माअररर गग्ग्गाययईीईआआहह मेरी छत्त्त्तत्तफट गगायईयी आआअरर्र्र्रररज्ज्ज्जूऊर सस्स्स्सीए उई..माँआआआआज मेर्र्र्री छुउुउत. मौसी शायद भूलगयी थी कीघर में उसकाभांजा भी सोरहा है. लेकिनमौसी को क्यापता की भांजाही चुदाई कररहा है उनकी. मोंसा तो नींदकी गोली लेकरसोया हुआ है. मौसी नीचे सेउच्छल उच्छल करमुझसे चुदवा रहीथी. इस दौरानमौसी 2 बार झड़चुकी थी. लेकिनमैं अभी झड़नेनही वाला था. मैने मौसी को25 मीं.तक लगातारजोरदार चुदाई कर रहाथा. अब मैंथकने लगा थातो मैने मौसीको पकड़कर अपनेउपर बेठा लियाऔर मैं नीचेलेट गया.

मौसी समझ गयीथी की मैंक्या चाहता हू. वो मेरे लंडको पकड़कर अपनीचूत पर सेटकरके एक दमसे मेरे लंडपर बैठ गयीऔर अपना मूहमेरे मूह केपास लाकर मुझेकिस करने लगीऔर धीरे सेबोली की इतनामज़ा तो सुहागरातवाली रात कोभी नही आयाथा जान जितनामज़ा आज आपदे रहे हो. मौसी जानती थीकी मोंसाजी सेक्सकरते हुए बोलतेनही थे. इसलिएउन्हे कोई शकभी नही होरहा था. मैनेमौसी की गांडके नीचे हाथरखा और उसेउपर नीचे करनेलगा जिससे मौसीको इशारा मिलजाए की मैंक्या चाहता हू.

मौसी मेरे लंडपर उपर नीचेहोकर चुद रहीथी. ऐसा लगरहा था कीमैं मौसी कोनही मौसी मुझेचोद रही हो. ऐसे हिलते हुएमौसी की चूचीयाबड़ी मस्त लगरही थी. मैनेहाथ बडा करमौसी की चूचीयोको पकड़ लियाऔर मौसी कोअपनी तरफ खीचा. जिससे मैने मौसीको अपने सेचिपका लिया औरमौसी मेरा लंडअपनी चूत मेंले रही थी.Gay Experimental Sex with a girl

मैने मौसी कीएक चूची कोमूह लेकर चूसनेलगा तो मौसीअपनी दूसरी चूचीखुद ही दबानेलगी. ऐसे करतेहुए मौसी एकबार और झड़ीमौसी का पानीमेरे लंड पर रहा था. मैने अपना हाथअपने लंड केपास लाकर मौसीकी चूत कापानी को छुवातो मेरा हाथपूरा गीला होगया. मैने फिरउस हाथ कोअपने मूह केपास लाकर चाटनेलगा. मुझे अच्छालग रहा था. मैं फिर सेचूत के पासहाथ रखा तोफिर गीला होगया.

इस बार मैनेमौसी के मुहंके पास उन्हीकी चूत कापानी लगा हुआहाथ ले गया. पहले तो वोअपना मूह इधरउधर करती रही. फिर मैने उनकेबाल पकड़कर अपनाहाथ उनके मूहमें दे दिया. जिससे उन्होने चाटलिया. मेरी अबथकान मिट चुकीथी. मैने मौसीको नीचे लेटायाऔर उनकी टाँगोको बेड कीसाइड में उतारदिया और मैंउनकी टाँगो केपास जाकर खड़ाहो गया. मैनेउनकी गांड केनीचे एक तकियालगाया जिससे उनकीचूत और उभरगयी. मैने मौसीकी एक टाँगअपने कंधे पररखी जिससे मौसीकी चूत औरखुल गयी थी.

मैने मौसी काहाथ पकड़कर अपनेलंड पर रखामौसी ने मेरालंड पकड़कर अपनीचूत पर रखाऔर मेरा लंडदबा दिया. मैंसमझ गया. मैनेएक झटका मारातो मेरा लंडउनकी चूत मेंपूरा चला गया. फिर मैं धीरेधीरे मौसी कीचुदाई कर रहाथा तो मौसीबोली की जानजरा तेज करोना.. मैं फिरज़ोर से धक्केलगाने लगा मौसीभी अपनी कमरउठा उठाकर मुझसेचुदवा रही थी. मौसी की चूतने फिर सेपानी छोड़  दिया.

मैने ये महसूसकिया तो मैनेदो उंगली सेचूत के पानीसे भीगो करमौसी की गांडपर रख दी. जिससे उनके हिलनेसे उंगलिया अंदरबाहर होने लगी. मौसी ने शायदकभी गांड नहीमरवाई होगी.

इसलिए वो बारबार मेरी उंगलीको हटा देतीथी. 45 मीं. केबाद मुझे लगाकी मैं झड़नेवाला हू मैनेमौसी की चुदाईकी स्पीड औरबड़ा दी. मेरेसाथ साथ मौसीभी एक बारझड़ गई. इसचुदाई में मौसीकम से कम4 बार झड़ी होगी.

Gay Experimental Sex with a girl
Gay Experimental Sex with a girl
Gay Experimental Sex with a girl


मैं अपना लंडचूत में डालेहुए मौसी परगिर गया. मौसीमुझे चूमने लगीऔर कहने लगीजान जैसा आजचोदा है वैसेरोज़ क्यो नहीचोदते हो. तबमैं किस करताहुआ बोला मेरीप्यारी मौसी जानआज से पहलेतुमने मुझे मौकादिया ही कहाथा. ये सुननाथा की मौसीएक दम चौकगयी और बोलीतेरे मोंसाजी कहाहै. मैने कहामौसी वो तोसो रहे है. इतनी देर सेमैं ही आपकीचुदाई कर रहाथा मौसी जान. मौसी मुझे अपनेसे अलग करनेलगी. लेकिन मैनेमौसी को छोडानही. मैने कहाआप बहुत नमकीनहो मौसीदिलकरता है कीआपको चोदता हीरहूँ. ये कहतेहुए मैं फिरसे मौसी कीचूत में उंगलीकरने लगा औरउनके बोब्स कोदबाने लगा. मौसीको भी मेरीचुदाई अच्छी लगीथी इसलिए मानगयी और कहनेलगी तेरे मौसाको इस बातका पता नहींचलना चाहिए. उसदिन के बादसे आज तकमें और मौसीपति पत्नी कीतरह रहते हैऔर जी भरकरचुदाई करते है.

No comments:

Post a Comment

Facebook Comment

Blogger Tips and TricksLatest Tips And TricksBlogger Tricks